मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


फ़ॉलोअर

रविवार, 11 अप्रैल 2021

श्रृंगार छंद "तड़प"

सजन मत प्यास अधूरी छोड़।
नहीं कोमल मन मेरा तोड़।।
बहुत ही तड़पी करके याद।
सुनो अब तो तुम अंतर्नाद।।

सदा तारे गिन काटी रात।
बादलों से करती थी बात।।
रही मैं रोज चाँद को ताक।
कलेजा होता रहता खाक।।

मिलन रुत आई बरसों बाद।
हृदय में छाया अति आह्लाद।।
बजा इस वीणा का हर तार।
बहा दो आज नेह की धार।।

गले से लगने की है चाह।
निकलती साँसों से अब आह।।
सभी अंगों में एक उमंग।
हुई जैसे उन्मुक्त मतंग।।

देख लो होंठ रहें है काँप।
मिलन की आतुरता को भाँप।।
बाँह में भर कर तन यह आज।
छेड़ दो रग रग के सब साज।।

समर्पण ही है मेरा प्यार।
सजन अब कर इसको स्वीकार।।
मिटा दो जन्मों की सब प्यास।
पूर्ण कर दो सब मेरी आस।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया

एक ग़ज़ल

 एक ग़ज़ल 



इक क़लम का सफ़र, उम्र भर का सफ़र,

यूँ  ही चलता रहे,  बेधड़क हो निडर  ।


बात ज़ुल्मात से जिनको लड़ने की थी,

बेच कर आ गए  वो नसीब-ए-सहर।


जो कहूँ मैं, वो कह,जो सुनाऊँ वो सुन,

या क़लम बेच दे, या ज़ुबाँ  बन्द कर ।


उँगलियाँ ग़ैर पर तुम उठाते तो हो ,

अपने अन्दर न देखा, कभी झाँक कर ।


तेरी ग़ैरत है ज़िन्दा तो ज़िन्दा है तू,

ज़र्ब आने न दे अपनी दस्तार पर ।


झूठ ही झूठ की है, ख़बर हर जगह,

पूछता कौन है अब कि सच है किधर !


एक उम्मीद बाक़ी है ’आनन’ अभी,

तेरे नग़्मों  का होगा कभी तो असर ।



-आनन्द.पाठक-


गुरुवार, 8 अप्रैल 2021

एक व्यंग्य व्यथा : फ़ेसबुक पर छींक

 एक व्यंग्य व्यथा : फ़ेसबुक पर छींक


"कल गुरू जी ने मुझे दीक्षित करते हुए कहा-बेटा जा तेरी शिक्षा पूर्ण हुई अब ’फ़ेसबु’क’ पर अपना कमाल दिखा। एक बात बात ध्यान रखना हर 7-दिन पर अपना "डी0पी0" ज़रूर बदलते रहना और हर 15- दिन पर कोई न कोई ”पोस्ट’ ज़रूर डालते रहना।अगर 1-महीना तुम फ़ेसबुक पर फ़ेस नहीं दिखाओगे तो दुनिया तुम्हें "इहलोक" से "उह लोक" समझ लेगी--मिश्रा जी ने सुबह ही सुबह आते हुए उचारा।
मिश्रा ! यह मेरा फ़ेस है ,फ़ेसबुक नहीं "- मैने कहा।

;नहीं फ़ेसबुक मेरी मोबाइल में हैं। कल एक पोस्ट डाली थी। 70-लाइक और 72- कमेन्ट मिल चुके हैं अबतक। तुम भी एक लाइक कर दो। ताई जी से
और बरतन वाली बाई जी से भी ’लाइक’ करवा दो तो अच्छा रहेगा ।--उन्होने अपना मोबाइल मेरी तरफ़ बढ़ाते हुए कहा-" लाइक यहाँ’।
"अच्छा तो तुम्हें भी 70 शूल 72 बाई का रोग हो गया"- मैने हँसते हुए कहा
’-क्या मतलब?
-मतलब तुम्हे समझ में नहीं आयेगा। भई बिना पढ़े कैसे ’लाइक’ कर दूँ ?
- रह गए तुम निरा घोंचू के घोंचू । पढ़ कर कौन लाइक करता है ? लाइक पहले करता है ,पढ़्ता बाद में है। पढ़ लेगा तो फिर लाइक नहीं करेगा "--मिश्रा जी ने अपना ज्ञान बताया।
- भाई मिश्रा ! मैं तो फ़ेसबुक पर इतनी कविता ग़ज़ल कहानी लिखता हूँ मगर 10-12 से ज़्यादा लाइक और 5-10 से ज़्यादा कमेन्ट कभी नही मिलता ।

"तुम ज़िन्दगी भर क्लर्की किए हो न । फ़ेसबुक पर नोट शीट पर नोट शीट, ड्राफ़्ट पर ड्राफ़्ट जैसा कुछ कचरा लिखते होगे। मैने तो ज़िन्दगी भर अफ़सरी की, ’वन-लाइनर-पोस्ट’ [ एक लाइन का पोस्ट] लिखता हूँ 100-50 कमेन्ट तो चुटकी बजाते मिल जाते हैं । मेरे बड़े साहब तो फ़ाइल में उतना भी नहीं लिखते थे । बस- ???-लिख देते थे । और मैं समझ जाता था । फ़ाइल पर जब मैं ’Done "
लिख देता था तब वह फ़ाइल पर "स्वीकृत" देते थे । दुनिया समझती थी ’कम्प्लाएन्स डन"-।- साहब समझता था ’लिफ़ाफ़ा-डन" । सरकारी भाषा में इसे "सरल भाव सम्प्रेषण पद्धति"कहते है।बाद में कोई बदमाशी करता था तो साहब "स्वीकृत" के आगे "अ-" बढ़ा देते थे।
तुम भी ’वन लाइनर पोस्ट किया करो।

-"भई मिश्रा ! कौन सा वन लाइनर पोस्ट कर दिया था कल तुमने कि -- ।"
-यही कि -आज मैने छींक मारी--
-इस पर 70-लाइक 72- कमेन्ट ???
भगवान भला करे तुम्हारे चाहने वालों का -मैने कहा
-भगवान भला तो कर ही रहा है ’फ़ेस बुक ’ वालों पर।तुम्हें मालूम है एक से बढ़ कर एक कमेन्ट आए -मिश्रा जी उत्साह में आकर बताने लगे।
10-20 तो ’स्माइली" वाले "आइकान " थे 10-20 थोबड़ा लटकाए वाले आइकान थे जैसे तुम्हारा है।
एक ने लिखा --छींक किधर से मारी ,नाक से मारी या ---? छी-- छी-- छी --कैसे कैसे कमेन्ट करते हैं ये लोग। एक ने लिखा -छींक मारते समय आँख बन्द थी कि खुली थी?
एक व्याकरणाचार्य जी तो सवाल ही कर बैठे- श्रीमान ! क्या आप को मालूम है कि "छींकना" एक अकर्मक क्रिया है ?आप ’छींक" से ज़्यादा हिंदी पर ध्यान दें।
एक ने लिखा किस दिशा में छींक मारी --ईशान कोण से से अग्नि कोण से ? जब आप ने छींक मारी तो सम्मुख कोई था ? क्योंकि शास्त्रों में लिखा है -

सम्मुख छींक लड़ाई भाखै
छींक दाहिनी द्रव्य विनाशै
ऊँची छींक कहे जयकारी
नीची छींक होय भयकारी

कोई ज्योतिषी भाई थे।
एक सज्जन ने लिखा -

-" रऊआ छींक मारीं तऽ खेल हो जाई
सगरॊ अँगना "करौउना" फ़ईल जाई

बाद में मालूम हुआ कि कोई पूर्वांचली भाई थे ।बम्बई फ़िल्मों में भोजपुरी गीत लिखने गए थे कि प्रोड्यूसर ने वापसी का टिकट थमाते हुए कहा था--सर !आप अपने "अँगना" मे बैठ के गीत लिखें ।अच्छा लिखते हैं । तब से वह फ़ेसबुक के अँगना में गीत लिखते है।
एक महाशय ने तो अपना -वन लाइनर- जोड़ दिया "

आज मैने छींक मारी
हरहूँ नाथ मम संकट भारी

मालूम हुआ कि वह महाशय किसी मंच पर किसी दिए हुए मिसरे पर "गिरह" लगाते है।

एक ने पूछा कि जब आप ने छींक मारी तो संसद में ’विश्वास मत" तो पेश नहीं होने जा रहा था ? । एक छींक से मैने सरकार गिरते देखा है।
एक ने लिखा -आप ने मुँह पर मास्क लगा कर छींक मारी कि मास्क हटा कर ? अगर मास्क हटा कर छींक मारी तो करोना काल में आप समाज के लिए
घातक और अवांछित व्यक्ति हैं ।भारतीय दंड संहिता धारा अमुक--अमुक-- के तहत आप -बाक़ी आप स्वयं समझदार है।
शायद कोई वकील साहब थे।

एक फ़ेसबुकिया डाक्टर ने सलाह दी कि आप अपने नाक का सी0टी0 स्कैन करा लें -इसे आप साधारण नज़ला जुकाम न समझें -आप के नाक में कोई गंभीर रोग न पल रहा हो। नास्ट्रिल कैन्सर भी हो सकता है । मिलिए गली नं 5 खोली नं 4 मोबाइल नं ---- । पहला कन्सल्टेशन फ़्री।

भाई साहब !जानते हैं इस ’वन-लाइनर’ के लिए एक मंच वाले ने " वन-लाइनर आफ़ द मन्थ " -का प्रथम पुरस्कार भी दिया है । 10-20 बधाइय़ाँ तो उस पुरस्कार पर ही मिल गईं।
एक ने लिखा---दूसरे ने लिखा "-तीसरे ने लिखा --- इससे पहले कि मिश्रा जी अपना कमेन्ट गाथा और विस्तार से सुनाते मैने बात बीच में ही काट दी--" बस बस ,बहुत हो गया । आप से ज़्यादा तो आप की ’छींक’ वायरल हो गई।
-गुरुदेव ! मुझे भी 1-2 ’वन लाइनर वाला पोस्ट बता दो। कम से कम मेरे गीत ग़ज़ल माहिया व्यंग्य पर मिलने वाले कमेन्ट से ज़्यादा ही कमेन्ट मिलेंगे।
मिश्रा जी ने 2 मिनट के लिए अपनी आँखें बन्द की और फिर प्रस्फुटित हुए। बोले आप पोस्ट डाल दो -

’आज के कुछ लेखक घमंडी होते हैं--

--"कुछ"-शब्द ज़रूर लिखना वरना तुम भी लपेटे में आ जाओगे।
धन्य हो प्रभु ! आप महान हो-मैने दोनों हाथ जोड़ लिए।

अस्तु

-आनन्द.पाठक-

मंगलवार, 6 अप्रैल 2021

कुछ अनकही सी …………!: ख्वाब

कुछ अनकही सी …………!: ख्वाब: नन्ही  नन्ही आँखों के वो नन्हे से ख्वाब सुनहरे थे कुछ बिखरे कुछ सवरे जो भी थे वो थे मेरे अपने थे नन्हे से घरोंदें में तेरे मेरे ही दिन ...

शुक्रवार, 2 अप्रैल 2021

इत्तफ़ाक़

इवा .....
इवा .....
(अन्या अपने पति और बेटे के साथ लाउंज की ओर जा रही थी क्यूँकि अभी उसकी फ़्लाइट के जाने में समय था )
अन्या ने पीछे मुड़कर देखा और सोचा यहाँ एयरपोर्ट पर उसे उसके बचपन के नाम से कौन उसे पुकार सकता है भला .......
हो सकता है किसी और का कोई नाम ले रहा हो .....
इवा .....इवा ....मैं आपको ही आवाज़ दे रहा हूँ ...
अरे मुझे पहचाना नही .... मैं ...मैं ....
इवा रुक गयी ....और अपने पति और बेटे से बोली ..कौन है ये जो मुझे मेरे इस नाम से बुला रहा है ??
डयूटी फ़्री शाप से एक आदमी दौड़ता हुआ (शायद कुछ समान ख़रीद रहा था ) बाहर इवा के पास आया और बोला ...
अरे आप तो बिलकुल वैसी की वैसी ही हैं ....बस थोड़ी सी बड़ी हो गयी हैं और पहले से थोड़ी सी ज़्यादा सुंदर और स्मार्ट ....लेकिन अब भी वही शॉर्ट्स वही लोंग टॉप वही टिक टाक फ़ुट वियर कह कर वह ज़ोर से हँसने लगा ।
आवाज़ तो सुनी सुनाई सी लग रही है और चेहरा भी कुछ जाना पहचाना सा लग रहा है लेकिन ....ख़ुद में ही ख़ुद के सवालों में उलझी माथे पर बढ़ती सिलवटें अन्या को परेशान किए जा रही थी, आख़िर ये शख़्स है कौन ? क्यूँ मुझे याद नही आ रहा कहाँ मिली हूँ इससे ?
वह सोच ही रही थी कि उस शख़्स ने अन्या से फिर कहा, ''परेशान होकर आप कितनी प्यारी लगती हैं बिलकुल जैसी बचपन में लगती थीं , मासूम सी ।
अरे मुझे नही पहचान पा रहीं हैं आप, '' मुस्कुराते हुए उसने अन्या से कहा ।
अंन्या के पास जा कर उसने धीरे से कहा, ''कहिए तो फिर से कह दूँ, '' निष्ठुर ।
ओह माई गॉड...... तुम .....विक्की .....तुम यहाँ क्या कर रहे हो ??कहाँ जा रहे हो तुम ??और बड़े स्मार्ट हो गये हो मुझे इतने सालों बाद भी तुम देख कर एक बार में ही पहचान गये, मान गयी मैं तो तुम्हें , ''अन्या ने अपने चिर परिचित आवाज़ में विक्की से बोला ।
आप किधर जा रही हो पहले ये तो बताओ ...?
मैं ....मैं वापस अपने घर जा रही थी अन्या ने हल्की सी मुस्कान होठों पर बिखेरते हुए कहा ।
मतलब ..... घर तो यहीं है ना तो आना होगा न जाना कैसे ??
मैं समझा नही आपकी बात इवा, ''विक्की ने आश्चर्यचकित हो अन्या से पूछा ।
अन्या ने कहा, '' हमें कई साल हो गये हैं जर्मनी में रहते हमने वहाँ की सिटीजनशिप ले ली है तो अब घर हमारा भारत में न हो कर जर्मनी में हो गया है ।
ओह हो .....मतलब आप पूरी की पूरी ही विदेशी हो गयी हैं और सारी की सारी उमीद ही एक झटके में आपने तो तोड़ ही दिया, '' विक्की ने अन्या से कहा ।
इनसे मिलो ये मेरा बेटा है और ये मेरी ज़िंदगी ....हम साथ ही जा रहे हैं तो घर ही जाऊँगी ना .....कहते हुए अन्या खिलखिला कर हंस पड़ी ।
विक्की ने तपाक से बोला, बेटा तो कहीं से नही लग रहा आपका, कोई बॉय फ़्रेंड लग रहा है और सर आपके चर्चे तो ख़ूब सुने थे हमने, पहली बार आप से मुलाक़ात हुई ।इवा आपको डिसर्व करती ही हैं इसमें कोई संदेह ही नही, शायद आप से बेहतर जीवन साथी इनके लिए हो भी नही सकता था आपकी ख़ूबसूरती स्मार्ट्नेस और क़ाबिलियत के चर्चे थे जो इवा जी की शादी के तय होने से लेकर शादी हो जाने तक लगभग सालों हर रोज़ हमने सुने हैं । मैं इवा जी का पड़ोसी था ।कभी कभी इवा जी से मैथ्स पढ़ने आता था ।सर आप से मिल कर मुझे बहुत ख़ुशी मिली आज आप से मिल कर जैसे मेरी कोई दिली ख़्वाईश पूरी हो गयी हो ।अन्या के पति ने मुस्कुरा कर विक्की की हर बात का स्वागत किया और पूछा आप कहाँ जा रहे हो ?
विक्की ने अपने ऑफ़िस के काम से बैंकाक जाने की बात बताई ।
तभी अन्या के बेटे ने इशारे से अपनी भूख की बात अन्या को याद दिलाई और अन्या ने अपने पति की ओर देखते हुए कहा, ''तुम दोनो लाउंज में चलो और कुछ खाओ मैं भी दो मिनट में आती हूँ ।
अन्या के पति ने कहा, '' हाँ ठीक है , जल्दी आ जाना तुम्हें अभी चेंज भी करना है और टाइम भी तुमको ही लगना है अभी एक घंटे हैं हमारे पास, ऐसा कहते हुए अन्या के बेटे और पति आगे बढ़ कर लाउंज की सीढ़ियाँ चढ़ने लगे ।
अन्या के पति के जाने के बाद अन्या ने विक्की से बोला, ''तुमने मुझे कैसे पहचान लिया वो भी ऐसी जगह पर जहाँ मैं तो सोच भी नही सकती थी कि हम इस तरह मिलेंगे ।
विक्की अन्या की बात सुन कर हंसने लगा और बोला, '' आपको मुझे पहचानना मुश्किल हो सकता है पर मेरा आपको पहचान ना पाना नामुमकिन है, समझी आप इवा जी ।
ओह ...... अन्या के मुँह से बस इतना ही निकला और वह कुछ बोल ना सकी और मुस्कुरा कर रह गयी ।
विक्की ने कहा, '' आज मेरी आँखे ना भी होती, तो भी मैं आपको पहचान लेता ।कोई अपने पहले प्यार को भूल भी कैसे सकता है तो फिर मैं , मैं ....कभी भी नही भूल पाउँगा आपको इवा और आपका ये पहनावा .... चिरपरिचित अन्दाज़ में शॉर्ट्स ड्रेसस और टिक टाक आपकी चाल कहते हुए हंस पड़ा और फिर कहने लगा, ''आपका पर्फ़्यूम आपकी अदा आपकी झलक आपकी मासूमियत .......छोड़ो न ...मत पूछो ...दीवानगी मेरी थी आप नही समझेंगी,आप थोड़ा भी नही बदलीं ।काश थोड़ी मोटी ही हो गयी होती थोड़ी और प्यारी लगने लगती पहनावा ही चेंज कर लिया होता कम से कम दो चार बच्चों की माँ ही दिखने लगतीं ।आज भी तो आप अपने बचपने की ही तरह कोमल अंग और मन साथ लिए फिर रहीं हैं , ''विक्की ने इवा को मुस्कुराते और एक पुरानी याद के सफ़र से गुज़रते हुए कहा ।
इवा मैं उम्र में आप से भले ही छोटा था पर मेरे प्यार में आप कभी बड़ी हो ही नही पायीं हमेशा एक छोटी कोमल बेबाक़ अपनी ही धुन में रहने वाली मासूम बच्ची ही रहीं,और इसी अदा पर मैं तब से लेकर अब तक मरता आ रहा हूँ,आपके अलावा मुझे कोई भाता ही नही और आप हैं कि समझती ही नही चलो छोड़ो अब आप समझ के करेगी भी क्या ?और तो और समझी तो आप उस दिन भी नही थी जब मैंने आपके गालों पर अपनी उँगलियों से अपने बोसे चिपका दिए थे अपनी इन्ही कोमल हथेलियों में आपका मासूम चेहरा पिंक रोज़ की तरह रख लिया था और आप झटक कर मुझे दूर खड़ी हो गयी थी और....उस दिन जब मैंने अपनी नज़रों में आपकी कई तस्वीर छुपा ली थी और आपको ख़बर तक ना हुई थी ।मैं एक बहाने से आप से मैथ्स पढ़ने आता था और जी भर कर मैं अपनी नज़रों में आपको क़ैद कर के चला जाता था । मैं जान बूझकर आपसे कठिन से कठिन सवाल पूछा करता था, और उसके जबाब में आप परेशान होती थी पेन पेपेर लिए उलझी रहती थीं मैं आपको पढ़ा करता था और आप सवाल सुलझा कर ही मानती थीं । कितनी मासूम थीं आप कितनी कोमल थीं आप ।सच कहूँ इवा, '' इतनी बड़ी दुनिया में घूमते घूमते इतने साल गुज़र गए पर आप सा कोई मिला ही नही मुझे , शायद ईश्वर ने बस एक ही पीस आपको बनाया था और जिस फ़्रेम में आपको बनाया वो फ़्रेम भी तोड़ ही दिया होगा , अच्छी लम्बाई छरहरी काया रंग गोरा सुंदर रेशम से घुंघराले बाल नशीली आँखें, किसी संत का भी ईमान डोल जाय आपको देखकर , एक ही साँस में कहते हुए विक्की ज़ोर से हंसने लगा लेकिन उस हँसी के पीछे छिपी प्रेम की गहराई को अन्या देख रही थी और अपने कोमल और पवित्र मन के किसी कोने में हर बात छिपाती जा रही थी ।
अच्छा बस .....बस ..........
कह लिए ना .......कितने सालों की बातें अभी इस थोड़े से समय में कहते ही रहोगे विक्की ??
छोड़ो ये सब बोलो तुम्हारी ज़िंदगी कैसी चल रही है ?
नेहा कैसी है ? तुम दोनो तो साथ ही हो ना ?
सब बढ़िया है और हम दोनो साथ ही हैं और मेरे दो बच्चे हैं इवा बेटी का नाम रखा है ।
सुनकर अन्या के होठों पर मुस्कुराहट सी दौड़ गयी और बोली मतलब तुमने मेरा नाम अपने पास ही रख लिया और अपनी क्या हालत बना रखी है , पहचान में तो आते ही नही तुम .....चाँद आसमान से उतार लिया है और अपने ही सर रख लिया है टमी तो अपनी अलग ही कहानी कहे जा रही है । सुटेड बूटेड काफ़ी मेच्योर्ड लगने लगे हो ।आवाज़ भी कितनी रौबिली हो गयी है मैं तो तुम्हें बिलकुल ही नही पहचान पा रही थी ।
यहाँ दिल्ली में ही कॉन्फ्रेंस थी उसी में आना हुआ था ।पति देव हमेशा हवा में ही रहते हैं कभी इस देश कभी उस देश, फ़्रीक्वेंट फ़्लायर ठहरे तो सुविधाएँ भी हैं फ़्रेश होने लाउंज में ही जा रही थी, कॉन्फ्रेंस में सब से मिलते मिलाते देर भी हो गयी थी मैं जल्दी भी चली आयी थी और एअरपोर्ट निकलने में देर हो रही थी तो जैसी थी वैसी ही कार में बैठी इधर चली आयी । हमेशा ही सामान बुक करवा कर लाउंज में ही चली जाती हूँ तो लगेज बुकिंग के बाद उधर ही जा रही थी कि तुम्हारी आवज सुन रुक गयी ।
विक्की बातें तो बहुत हैं पर मुझे तुम दस मिनट दो मैं चेंज करके आती हूँ वरना फ़्लाइट में पहुँचने में देर हो जाएगी,मुझे पता है तुम बुरा भी नही मानोगे मुस्कुराकर अन्या ने विक्की से बोला ।
विक्की ने भी पलकें झुका कर अन्या को जाने की इजाज़त दे दी ।
अन्या तेज़ी से दौड़ती हुई लाउंज पहुँची । लाउंज में पहुँचते ही देखा की पति और बेटे अंदर की ओर बैठे हैं और डिनर ले रहे थे लेकिन पति और बेटे को अन्या की चिंता भी हो रही थी कि ना ही उसने कुछ खाया था ना ही रेडी हुई थी ।अन्या पहुँचते ही पति और बेटे से सारी बोलते हुए अपने हैंड बैग ले वाश रूम की ओर भागी और ड्रेस चेंज कर फ़ूड काउंटर से बस दो इडली साम्भर और कुछ ड्राई फ़्रूट्स और कॉफ़ी ले कर पति और बेटे दोनो के साथ बैठ गयी आज अन्या को भारतीय भोजन के कोई ज़ायक़ा नही मिल रहा था नही तो अन्या यहाँ स्वाद ले कर जो भी स्वादिष्ट भोजन मिठाइयाँ पेय पदार्थ होते हैं उन्हें बड़े ही इत्मिनान से खाती थी और अपने मन पसंद संगीत में फ़्लाइट में जाने तक खोयी रहती थी ।
अन्या के पति थोड़े से तल्ख़ लहजे में अन्या से पूछा, '' अन्या ये हैं कौन ?जो तुम्हें इतने अच्छे से जानता है और तो और तुम्हारी बचपन की बातें।
अन्या ने कहा,'' उसने तुम्हें बोला न कि मेरा पड़ोसी था हमारी सोसाइटी में ही फ़ैमिली थी हम सब बच्चे थे हम साथ ही खेलते थे पूरी सोसाइटी में एक फ़मिलियर महोल था सभी आपस में मिल जुल के रहते थे और एक दो साल हम साथ ही थे लेकिन फिर पापा का ट्रान्सफ़र लखनऊ हो गया और हम वहाँ चले गये तो दूरी आ गयी जब विक्की दसवीं में पढ़ता था मैं भी ग्यारहवीं या बारहवीं में थी, '' सुनकर अन्या के पति सहज हो गये ।
अन्या को जल्दी भी थी वापस विक्की से मिलने की इसलिए अन्या ने सब जल्दी ही कर लिया और अपने पति बेटे से बोली मैं नीचे चलती हूँ विक्की मेरा इंतज़ार कर रहा है और किसी को इंतज़ार करवाना अच्छा नही लगता तो तुम दोनो आओ वैसे भी फ़्लाइट की बोर्डिंग अनाउन्स्मेंट हो ही चुकी है तो दस ही मिनट तो है,मैं विक्की के साथ नीचे हूँ तुम दोनो आओ फिर तुम्हारे साथ फ़्लाइट में चलूँगी, कहते हुए अन्या हैंड बैग ले नीचे आ गयी ।
अन्या को आते देख विक्की की प्रतिक्षित आँखें खुली की खुली ही रह गयी उसे एक पल को लगा कि वह इवा नही कोई और है और विक्की अन्या को सिर से पावं तक निहारे जा रहा था अन्या जैसी किसी लहराती हुई नदी की तरह तेज़ वेग सी उसकी ओर चली आ रही थी और विक्की को आज ऐसा लग रहा था की उस बहाव में बह भी जाएगा
तभी अन्या विक्की के पास आते ही बोली ऐसे क्या देख रहे हो विक्की, ऐसा लग रहा है जैसे कि तुम मुझे पहली बार देख रहे हो । यार ...अभी तो मैं यहीं से गयी थी न ...वही हूँ चेंज नही हो गयी हूँ कह कर उन्मुक्त हँसी से खिलखिला पड़ी ।
इवा सच कह रही हैं आप तो बदल ही गयी हैं, ये लोंग बूट ये स्किनी जींस ये हेवी फरदर लॉंग जैकेट ये हेयर स्टाइल कुछ भी तो अपना सा नही लग रहा मुझे । अचानक से ऐसा लग रहा है जैसे किसी विदेशी अजनबी के सामने खड़ा हूँ , '' कहते हुए विक्की ने सर झुका लिया और अन्या सुनते ही ज़ोर से फिर खिलखिला कर हंस पड़ी ।अन्या जब हंस रही थी तो उसकी रेशमी ज़ुल्फ़ों की लटे उसके गालों पर आ गिरीं और हँसते हँसते उसका चेहरा भी सुर्ख़ हो चुका था और इधर विक्की का धैर्य अपने ही दिल से बेक़ाबू होता जा रहा था और एक बार फिर वह इवा के चेहरे को अपने हथेलियों से छू लेना चाहता था और जैसे ही विक्की ने ऐसा करने के लिए हाथ उठाया ही था कि उसकी नज़र ऊपर लाउंज से निकलते हुए उसके पति और बेटे पर पड़ गयी और विक्की ने अन्या के चेहरे से उसकी लटे किनारे करते हुए बोला ये शरारती लटें भी न बिलकुल आप पर ही गयी हैं कभी भी इधर उधर मचल जाती हैं बिना सोचे कि इससे किसी को कितनी परेशानी भी हो सकती है ।
अन्या ने विक्की से बोला, '' छोड़ो उसे यार .....
अन्या ने विक्की के रूमानियत को यही बढ़ने से रोकते हुए कहने लगी , ''बचपन के बाद आज ऐसे तुमसे मिल कर बचपन में ही मैं चली गयी मैं तो और सारे चेहरे एक साथ ही सामने आ गये पर ख़बर किसी की नही है किसी को ।कभी तो हम सब एक दूसरे को ऐसे ही याद आते होंगे न , या याद करते होंगे न ।
विक्की ने अन्या को छेड़ते हुए कहा, इवा, आप तो यूँ ना बोलिए, कभी ग़लती से भी याद किया होता मुझे तो आज आपको पहचानने में इतना वक़्त ना लगता या फिर आपके अपने उनके प्यार ने हम सब के लिए कोई जगह ही ना छोड़ी हो, वक़्त ही ना दिया हो कि मुझ नाचीज़ जैसी फ़ितरत को याद करने की ज़हमत भी आप उठाती ।
सब सुनकर अन्या विक्की से कहने लगी, '' विक्की , जिस शादी प्यार जैसी चीज़ों से मुझे जो डर लगता था ना शायद मेरे पति जैसा कोई मुझे ना मिलता तो अब तक तो मैं इस दुनिया ही में ना होती , मैं कहो तो सारी दुनिया से चिल्ला कर बता दूँ कि मुझे जैसा जीवन साथी मिला है वैसा कम ही ख़ुश नसीब होंगे जिन्हें मिला होगा, उसे मेरी उसी सादगी और निश्छलता से ही प्यार हुआ था वह कभी नही चाहता था कि मैं बदलूँ, मैं कभी उदास हो बैठी होती हूँ तो बच्चों सी बदमाशियाँ कर मुझे हँसा देते हैं ।अन्या अपनी दास्ताँ विक्की को सुना ही रही थी कि अन्या के पति की आवाज़ ने अन्या को चौकाते हुए पीछे से बोला, किसी बातें हो रहीं हैं मैडेम ?
अन्या ने अपने पति की ओर देखते हुए जबाब में कहा, ''तुम्हारी ही ...... तारीफ़ तो ये दिल तुम्हारे अलावा किसी की करता ही नही है न , झूठी भी तारीफ़ इससे नही होती, कहते हुए अन्या खिलखिला कर हंस पड़ी ।
यार ...टाइम तो हो गया है, अन्या ने पति की ओर देखते हुए बोला ।
पति ने इशारे में हाँ के लिए सर हिलाया और कहा कि अब चलना चाहिए ।
चलने के नाम से ही विक्की के चेहरे पर वही दर्द फिर उभर आया लेकिन दर्द इस बार अन्या के चेहरे पर भी साफ़ दिखाई दे रहा था इस बार इस दर्द में विक्की अकेला नही था अन्या भी दर्द की भागीदार थी ।
लेकिन दोनो ने जल्दी ही ख़ुद को सम्भालते हुए बिछड़ने के दर्द को अपनी मुस्कुराहट के पीछे छुपा लिया ।
अन्या ने अपने पति का हाथ थाम फ़्लाइट में जाने के लिए क़दम बढ़ाया ही था कि पति ने अन्या से इशारों में कुछ कहा और अन्या पीछे मुड़ विक्की के पास गयी और उसे एक प्यार भरी झप्पी दी और बोली तुम्हारा प्यार उधार ....इस जन्म में नही किसी और जनम में चुका दूँगी इस बार माफ़ कर दो मैंने जानबुझ कर कुछ नही किया लेकिन फिर भी अनजानी सी एक ग़लती की तुम्हारी मैं गुनहगार हो गयी मुझे माफ़ कर देना ।
विक्की ने उसके होंठों पर अपनी ऊँगली रखते हुए कहा, इवा आप गुनहगार नही मेरा प्यार हैं मैं कई जन्मों तक आपका इंतज़ार कर सकता हूँ और करूँगा .....माफ़ी ना माँगों आप मुझे भी थोड़ा प्यार से याद कर लेना ......बस .....।
हाथों से हाथ छूटते .....अन्या ने पलकों को झपका कर मंज़ूरी दे कि वह विक्की की बात रखेगी और मुस्कुराती हुई जा कर अपने पति से लिपट कर थैंक्स कहते हुए उनको कई चुम्बन दे डाले और उसके काँधे पर सिर टिका दिया और बेटे का हाथ थाम लिया ।
दोनो अपने बेटे के साथ चलते हुए फ़्लाइट के अंदर जा चुके थे और कुछ ही देर में फ़्लाइट के दरवाज़े भी बंद हो गये और (एअर lufthansa )फ़्लाइट अपनी मंज़िल के लिए टेक ऑफ़ हो गयी ।

बुधवार, 31 मार्च 2021

अनुभूतियाँ 07

 

अनुभूतियाँ :  07

 

1

प्रेम स्नेह जब रिक्त हो गया

प्रणय-दीप यह जलता कब तक?

रात अभी पूरी बाक़ी है

बिन बाती यह चलता कब तक?

 

2

दुष्कर थीं पथरीली राहें-

हठ था कि तुम साथ चलोगी।

कितना तुम को समझाया था,

हर ठोकर पर हाथ मलोगी।

 

3

जीवन पथ का राही हूँ मैं,

एक अकेला कई रूप में ।

आजीवन चलता रहता हूँ,

कभी छांव में ,कभी धूप में।

 

4

बिना बताए चली गई तुम ,

क्या थी ग़लती,सनम हमारी।

इतना तो बतला कर जाती,

कब तक देखूँ राह तुम्हारी ।

 

-आनन्द.पाठक-

शुक्रवार, 26 मार्च 2021

मैं ज़िंदगी

 मैं 'ज़िंदगी' ...

चलिए .... आज थोड़ी गुफ्तगू करते है .... थोड़ा मुझ से ... थोड़ा सा खुद से .. खुद को रूबरू करते है ... बस आप कहे ... और मैं सुनूं ... चलिए न .. आज.... थोड़ा यूं करते है !! आज कुछ खुद से कुछ ज़िंदगी से ऐसी ही खूबसूरत आरज़ू करते है !!