मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 19 जून 2021

अनुभूतियाँ: क़िस्त 08

अनुभूतियाँ : क़िस्त 08

 

1
दोनों के जब दर्द एक हैं,
फिर क्यों दिल से दिल की दूरी
एक साथ चलने में क्या है ,
मिलने में हैं क्या मजबूरी ?

 
2
रात रात भर तारे किस की ,
देखा करते  राह निरन्तर  ?
और जलाते रहते ख़ुद को
आग बची जो दिल के अन्दर ।

 
3
कितनी बार हुई नम आँखें,
लेकिन बहने दिया न मैने।
शब्द अधर पर जब तब उभरे
कुछ भी कहने दिया न मैने ।

 
4
छोड़ गई तुम, अरसा बीता,
फिर न बहार आई उपवन में ।
लेकिन ख़ुशबू आज तलक है,
दिल के इस सूने आँगन  में ।
 

 

-आनन्द.पाठक-

 


हर तरफ है मौत फिर डरना डराना छोड़ दो,



हर तरफ है मौत फिर डरना डराना छोड़ दो,

अपने साहिल को भी तुम अपना बताना छोड़ दो ।


अर्थियों के संग भी अपना कोई दिखता नहीं,

आज से अपनों पे अपना हक जताना छोड़ दो ।


जब तलक दस्तक न दे वो दर्द तेरे द्वार पे,

ज़िन्दगी की खुशियों को यूँ ही गँवाना छोड़ दो ।


अस्पतालों से निकलती लाशों को देखो ज़रा,

कह रहीं हैं अपनों से नफ़रत बढ़ाना छोड़ दो ।


ज़िन्दगी में ऐसा मंज़र आएगा सोचा न था,

आदमी से 'हर्ष' अब मिलना मिलाना छोड़ दो ।


-------हर्ष महाजन 'हर्ष'

◆◆◆

आइये समंदर को बदल डालें

 

आइये समंदर को बदल डालें

...

आइये आज समंदर को बदल डालें ,
मेरे  कुछ शेर हैं उनमें वज़न डालें |
मगर बदलूं कैसे बदनसीब मुक़द्दर, 
चलो हाथ की लकीरों में खलल डालें |

_________हर्ष महाजन

गुरुवार, 17 जून 2021

किरीट सवैया (8 भगण 211)

(किरीट सवैया)

भीतर मत्सर लोभ भरे पर, बाहर तू तन खूब
सजावत।
अंतर में मद मोह बसा कर, क्यों फिर स्वांग रचाय दिखावत।
दीन दुखी पर भाव दया नहिँ, आरत हो भगवान
मनावत।
पाप घड़ा उर माँहि भरा रख, पागल अंतरयामि
रिझावत।।
*********
*किरीट सवैया* विधान

यह 8 भगण (211) प्रति पद का वर्णिक छंद है। हर सवैया छंद की तरह इसके भी चारों पद एक ही तुकांतता के होने चाहिए। 12, 12 वर्ण पर यति रखने से रोचकता बढ जाती है।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया

शारदी छंद "चले चलो पथिक"

(शारदी छंद)

चले चलो पथिक।
बिना थके रथिक।।
थमे नहीं चरण।
भले हुवे मरण।।

सुहावना सफर।
लुभावनी डगर।।
बढ़ा मिलाप चल।
सदैव हो अटल।।

रहो सदा सजग।
उठा विचार पग।।
तुझे लगे न डर।
रहो न मौन धर।।

प्रसस्त है गगन।
उड़ो महान बन।।
समृद्ध हो वतन।
रखो यही लगन।।
=============
*शारदी छंद* विधान

"जभाल" वर्ण धर।
सु'शारदी' मुखर।।

"जभाल" =  जगण  भगण  लघु
।2।  2।।  । =7 वर्ण, 4चरण दो दो सम तुकान्त
*****************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया

रविवार, 13 जून 2021

एक गीत : ज़िन्दगी से लड़ रहा हूँ --

 एक गीत : ज़िन्दगी से लड़ रहा हूँ ---


ज़िन्दगी से लड़ रहा हूँ ,मैं अभी हारा नहीं हूँ ,

बिन लड़े ही हार मानू ? यह नहीं स्वीकार मुझको ।


जो कहेंगे वो, लिखूँ मैं ,शर्त मेरी लेखनी पर,

और मेरे ओठ पर ताला लगाना चाहते हैं ।

जो सुनाएँ वो सुनूँ मैं, ’हाँ’ में ’हाँ’ उनकी मिलाऊँ

बादलों के पंख पर वो घर बनाना चाहते हैं॥


स्वर्ण-मुद्रा थाल लेकर आ गए वो द्वार मेरे,

बेच दूँ मैं लेखनी यह ? है सतत धिक्कार मुझको।


ज़िन्दगी आसां नहीं तुम सोच कर जितनी चली हो,

कौन सीधी राह चल कर पा गया अपन ठिकाना ।

हर क़दम, हर मोड़ पर अब राह में रहजन खड़े हैं

यह सफ़र यूँ ही चलेगा, ख़ुद ही बचना  या बचाना ।


जानता हूँ  तुम नहीं मानोगी  मेरी बात कोई-

और तुम को रोक लूँ मैं, यह नहीं अधिकार मुझको।


लोग अन्दर से जलें हैं, ज्यों हलाहल से बुझे हों,

आइने में वक़्त के ख़ुद को नहीं पहचानते हैं।

नम्रता की क्यों कमी है, क्यों ”अहम’  इतना भरा है

सामने वाले को वो अपने से कमतर मानते हैं।


एक ढूँढो, सौ मिलेंगे हर शहर में ,हर गली में ,

रूप बदले हर जगह मिलते वही हर बार मुझको।


-आनन्द.पाठक- 


गुरुवार, 3 जून 2021

कहानियां - एक गीत

 कहानियां ....

सुनाएगा जमाना कुछ 

कहानियां ...

वक्त के धारों की

बहते किनारों की 

कहानियां ...

कहानियां..

कहानियां ...


जब हम मिले थे पहले 

दिल धड़का हौले हौले

शोर उठा फिर मुझमें 

ढूंढूं मैं खुद को तुझमें 

इश्क़ ने   कोई दस्तक दी थी 

ख्वाबों में शिरकत की थी 

इश्क़ में .....इश्क़ ने  की कितनी  ...

मनमानियां ...नादानियां ...

आहों में सिमटी 

आहों में लिपटी 

 कहानियां 

तेरी मेरी कहानियां


धड़कन  के ताने बाने 

मैं जानू न तू ही जाने 

उलझी मैं ऐसी उनमें

जलूं फिर बुझूं  मैं खुद में 

तुझमें मैं ऐसे खो  गई 

आधी  थी पूरी हो गई  

जिस्म ने तेरे 

तन से मेरे 

की कितनी 

शैतानियां ... मनमानियां

आग में लिपटी 

आग में झुलसी 

अपनी जवानियां 

तेरी मेरी कहानियां 

कहानियां ...

कहानियां ...

Aha haha ..

Lala ..

Lalaaa..





 Sad part ...


मेरी तेरी है  कहानियां 

कहानियां ...


तुम मुड़ गए क्यों हमदम 

कह न सके कुछ भी हम

कब से खड़े है वहां पर 

छोड़ गए थे जहां पर 

आखों से धोते है, गम 

गुजरे  न वक्त ,न ही हम 

ज़ख़्म हरे है मन में 

न  जान है तन में 

सूने से इस तन  की 

टूटे से इस मन की 

तन्हाइयां  

मीलों तक फैली 

तन्हाइयां 

आंखों की जुबां से 

तेरी आंखों को बुलाती है 

विरानियां

वीरानियां ...


कहानियां ...

तेरी मेरी कहानियां ...