मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 15 जून 2019

चन्द माहिया : क़िस्त 59

चन्द माहिया : क़िस्त 59

:1:
सब क़स्में खाते हैं
कौन निभाता है
कहने की बाते हैं

:2:

क्या हुस्न निखारा है
जब से डूबा मन
उबरा न दुबारा है

:3:
इतना न सता माहिया
क्या थी ख़ता मेरी
सच,कुछ तो बता माहिया

:4:
बेदाग़ चुनरिया में
दाग़ लगा बैठे
आकर इस दुनिया में

:5:

धरती रह रह तरसी
बदली आई तो
आ कर भी नहीं बरसी

-आनन्द.पाठक-

रविवार, 9 जून 2019

मत्त सवैया मुक्तकमाला (2019 चुनाव)

मत्त सवैया मुक्तकमाला (2019 चुनाव)

हर दल जो टुकड़ा टुकड़ा था, इस बार चुनावों ने छाँटा;
बाहर निकाल उसको फेंका, ज्यों चुभा हुआ हो वो काँटा;
जो अपनी अपनी डफली पर, बस राग स्वार्थ का गाते थे;
उस भ्रष्ट तंत्र के गालों पर, जनता ने मारा कस चाँटा।

इस बार विरोधी हर दल ने, ऐसा भारी झेला घाटा;
चित चारों खाने सभी हुए, हर ओर गया छा सन्नाटा।
जन-तंत्र-यज्ञ की वेदी में, उन सबकी आहुति आज लगी;
वे राजनीति को हाथ हिला, जल्दी करने वाले टा टा।

भारत में नव-उत्साह जगा, रिपु के घर में क्रंदन होगा;
बन विश्व-शक्ति उभरेंगे हम, जग भर में अब वंदन होगा;
हे मोदी! तुम कर्मठ नरवर, गांधी की पुण्य धरा के हो;
अब ओजपूर्ण नेतृत्व तले, भारत का अभिनंदन होगा।

तुम राष्ट्र-प्रेरणा के नायक, तुम एक सूत्र के दायक हो;
जो सकल विश्व को बेध सके, वैसे अमोघ तुम सायक हो;
भारत भू पर अवतरित हुये, ये भाग्य हमारा आज प्रबल;
तुम धीर वीर तुम शक्ति-पुंज, तुम जन जन के अधिनायक हो।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
25-05-19

शनिवार, 8 जून 2019

एक ग़ज़ल : जब भी ये प्राण निकले--

एक ग़ज़ल : जब भी ये प्राण निकले---

जब भी ये प्राण निकलें ,पीड़ा मेरी  घनी हो
इक हाथ पुस्तिका  हो .इक हाथ  लेखनी हो

सूली पे रोज़ चढ़ कर ,ज़िन्दा रहा हूँ कैसे
आएँ कभी जो घर पर,यह रीति  सीखनी हो

हर दौर में रही है ,सच-झूठ की लड़ाई
तुम ’सच’ का साथ देना,जब झूठ से ठनी हो

बेचैनियाँ हों दिल में ,दुनिया के हों मसाइल
याँ मैकदे में  आना .खुद से न जब बनी  हो

नफ़रत से क्या मिला है, बस तीरगी  मिली है
दिल में हो प्यार सबसे , राहों में रोशनी हो

चाहत यही रहेगी ,घर घर में  हो दिवाली
जुल्मत न हो कहीं पर ,न अपनों से दुश्मनी हो

माना कि है फ़क़ीरी ,फिर भी बहुत है दिल में
’आनन’ से बाँट  लेना , उल्फ़त जो बाँटनी हो

-आनन्द.पाठक-

बुधवार, 5 जून 2019


मुफ्त,मुफ्त,मुफ्त......
अब दिल्ली में औरतें  मेट्रो और बसों में मुफ्त यात्रा कर पायेंगी.
कल टीवी में कुछ लोगों के उद्गार सुन समझ आया कि इस देश में  पढ़े-लिखे लोगों को भी सरलता से बहकाया जा सकता है.
केजरीवाल जी स्वयं इनकम-टैक्स विभाग में काम कर चुके हैं और भली-भांति जानते हैं कि सरकार अगर एक पैसा भी कहीं खर्च करती है तो अंततः वह खर्च देश को लोगों को ही उठाना पड़ता है.
अब चूँकि मुफ्त यात्रा सच में मुफ्त नहीं होगी तो इस व्यय का बोझ कौन उठाएगा? निश्चय ही केजरीवाल और उनके सहयोगी तो नहीं उठाएंगे. यह बोझ देश की जनता को ही उठाना पडेगा. या तो टैक्स बढ़ाए जायेंगे या फिर कर्जा लिया जायेगा. टैक्स हर व्यक्ति को देना पड़ेगा, उस गरीब को भी जो भीख मांग कर गुज़ारा करता है. कर्जा आने वाली पीढ़ियाँ अदा करेंगी, निश्चय ही टैक्स भर कर.
यह बात तो सब राजनेता और टैक्स अधिकारी जानते हैं कि  धनी लोगों को टैक्स की मार से कोई फर्क नहीं पड़ता. जितना टैक्स बढ़ता है उतना ही टैक्स चोरी करने में वह सब माहिर हो जाते हैं.
अंततः बढ़े हुए टैक्स का बोझ तो मध्य वर्ग और गरीब लोगों को ही झेलना पड़ता है.  ऐसा अब भी होगा. मुफ्त यात्रा का खर्च आम लोग ही उठाएंगे, वह लोग भी जो कभी मेट्रो में यात्रा नहीं करेंगे. एक तरह से इस कानूनी प्रपंच द्वारा ग़रीबों का पैसा उनसे लेकर संपन्न वर्ग को हस्तांतरित कर दिया जाता है.
जिस दिन हम लोग यह बात समझ जायेंगे, उस दिन राजनेता हमें मुफ्त पानी, मुफ्त बिजली, मुफ्त मेट्रो यात्रा, मुफ्त, मुफ्त, मुफ्त............ का लालच देकर मूर्ख नहीं बना पायेंगे.

गुरुवार, 30 मई 2019

प्रेम शाश्वत है

प्रेम एक शब्द -
एक नाद है
एक ऊर्जा है
उसे माध्यम चाहिए
पृथ्वी पे
पनपने  के लिए ...
जैसे मैं और तुम !

 प्रेम का
आह्लाद का
कोई स्वरूप नहीं होता
ये निर्गुण निराकार होता  है
ॐ के उस शब्द की तरह
शुद्ध और . सात्विक !

सुनो....
हमारा प्रेम ...
हमारा नेह आह्लाद  ..
शाश्वत है
परमब्रह्म की तरह ...

ये प्रेम हुआ है
 बेसाख़्ता ही  ...
और ये तुमसे
प्बातें करता है
आँखो के ज़रिए
मन के रास्ते ....
और
जुड़  जाते  है तंतु
तुम्हारे मन के ..
मेरे अवचेतन मन से
बिना किसी डोर  के ...
बंधन के ...

जानते हो ?
ये जो अनश्वर
शाश्वत प्रेम है न ?
ये मौन में गुंजायमान है ..
और नाद में ख़ामोश !
चेतना में निष्क्रिय
और
निष्क्रियता में चेतना
का आभास है  !
ये यत्र तत्र सर्वत्र है
व्योम में ..समस्त ब्रह्मांड में ...
आदि से और अनादि तक !

ये मौन नेह तुम्हारा
ये शाब्दिक प्रेम तुम्हारा
प्रतिध्वनित होता  है ...
और रह रह टकराता है
ईश्वर के  हृदय से ...
उनके अंतःकरण से ...

और फिर वो नाद
और वो आह्लाद ...
और दशों दिशाएँ से
प्रेम में तल्लीन में
मुझे ख़ुद में तलाशता
और रह रह पुकारता है  ..
......  ऐ लड़की!
चली आओ ...
उस ऊष्मा को
उस ऊर्जा को
ख़ुद  में प्रवाहित कर
एक नए युग
एक ने ब्रह्मांड का
निर्माण करो तुम !!
निर्वाण करो तुम !

बुधवार, 29 मई 2019

चन्द माहिया : क़िस्त 58

चन्द माहिया : क़िस्त 58

:1:
सदचाक हुआ दामन
तेरी उलफ़त में
बरबाद हुआ ’आनन’

:2:
क्यों रूठी है ,हमदम
कैसे मनाना है
कुछ तो सिखा जानम

:3:
दिल ले ही लिया तुमने
जाँ भी ले लेते
क्यों छोड़ दिया तुमने ?

:4:
गिर जाती है बिजली
रह रह कर दिल पर
लहरा के न चल पगली

:5:
क्या पाना क्या खोना
जब से गए हो तुम
दिल का खाली कोना



-आनन्द.पाठक--

शनिवार, 25 मई 2019


मोदी जी की जीत-एक विश्लेषण
 मोदी जी की चुनावों में प्रचंड जीत का कई बुद्धिमान लोग अब प्रचंड विश्लेषण कर रहे हैं. पर आश्चर्य है कि कोई भी विश्लेषक उन मुद्दों की ओर संकेत नहीं कर रहा जो मेरी समझ उतने  महत्वपूर्ण रहे जितने महत्वपूर्ण अन्य मुद्दे थे जिन पर बुद्धिजीवी  ज़ोर दे रहे हैं.
मोदी जी को लगभग सब राज्यों में पचास प्रतिशत से अधिक मत मिले जो एक असामान्य  घटना है. विचार करने वाली बात है कि इतने अधिक लोग मोदी जी के पक्ष में क्यों खड़े हो गये?
मुख्य कारण है कि (कांग्रेस के प्रचार के बावजूद) अधिकतर लोग महसूस करते हैं कि मोदी जी पूरी तरह ईमानदार व्यक्ति हैं. भारत अधिकांश राजनेता भ्रष्ट हैं, यह बात जनता से छिपी नहीं है. ऐसे वातावरण में मोदी जी की ईमानदारी ने लोगों को बहुत प्रभावित किया है. लोगों को इस बात का भी अहसास है  कि जितने भी नेता मोदी जी के विरूद्ध लामबंद हुए हैं  उन में से कई  भ्रष्टाचार में पूरी तरह लिप्त हैं.
दूसरी बात, लोगों को महसूस हो रहा था कि यह पहली सरकार थी जो सब लोगों के साथ बराबरी का व्यवहार कर रही थी. अब तक सिर्फ बराबरी का एक प्रपंच था जिसके सहारे तुष्टिकरण की राजनीति की जाती थी. इस तुष्टिकरण की राजनीति से गरीब अल्पसंख्यकों का कितना लाभ हुआ वह एक अलग बहस का विषय है.
तीसरा कारण था कई योजनाओं को कार्यान्वित करने में मोदी जी की सफलता. जो लोग सिस्टम के बाहर हैं उन्हें इस बात का ज़रा भी अहसास नहीं है कि पिछले चालीस-पचास वर्षों में सिस्टम इतना बिगड़ चुका है कि इस सिस्टम से कोई काम लेना एक चुनौती होता है. ऐसी पृष्ठभूमि में अगर मोदी जी कुछ योजनाओं को सफलतापूर्वक लागू कर पाए तो वह एक प्रशंसा की बात है. लोगों ने चुनाव में उन्हें वोट देकर अपना आभार व्यक्त किया है.
अगला कारण रहा विरोधियों का मोदी जी को लगातार अपशब्द कहना. जितने भद्दे अपशब्द मोदी जी को कहे गये, उतने शायद शिशुपाल ने श्री कृष्ण को न कहे होंगे. पर जो राजनेता यह अपशब्द कह रहे थे उन्हें इस बात का बिलकुल ज्ञान नहीं था कि वह सिर्फ मोदी जी को अपमानित न कर रहे थे. वह उन सब लोगों को भी अपमानित कर रहे थे जिन्होंने मोदी जी को चुना था, जो उनसे प्रभावित थे, जो उन्हें फिर से चुनना चाहते थे. इन मतदाताओं को बार-बार अपमानित कर के कांग्रेस और दूसरे दलों के नेताओं ने सुनिश्चित कर दिया कि वोटिंग के दिन वह सामान्य जन वोट देने अवश्य जाएँ और मोदी जी को वोट देकर अपने अपमान का बदला लें. इतना ही नहीं इन में से कई मतदाताओं ने यह भी सुनिश्चित किया होगा कि उनके घर-परिवार के सब लोग मत-दान करें.
लोक सभा और राज्य सभा में जिस प्रकार का व्यवहार विपक्षी दलों ने किया उससे भी कई मत-दाता पूरी तरह निराश थे. आप अपनी सुख-सुविधाओं को तो त्यागना नहीं चाहते, पर सरकार को चलने नहीं देंगे, ऐसी राजनीति कम से कम नई पीढ़ी को तो पसंद नहीं है.
अन्य  कारणों के विषय में टीवी पर खूब चर्चा हो रही है. इस लिए उन पर कुछ लिखना आवश्यक नहीं है.
मेरा तो यह मानना है कि जब तक विपक्ष में मोदी जी जैसा ईमानदार नेता नहीं उभरता, जो सिर्फ और सिर्फ देश के विषय में सोचे और जिसके पास भविष्य की अपनी कोई परिकल्पना हो, तब तक मोदी जी  का सामना करना किसी विपक्षी नेता के लिए संभव नहीं  है.