मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 14 अक्तूबर 2018

दर्द का समंदर

जब टूटता है दिल

धोखे फरेब से

अविश्वास और संदेह से

नफरतों के खेल से

तो लहराता है दर्द का समंदर

रह जाते हैं हतप्रभ

अवाक् इंसानों के रूप से

सीधी सरल निष्कपट जिन्दगी

पड़ जाती असमंजस में

बहुरूपियों की दुनिया फिर

रास नहीं आती

उठती हैं अबूझ प्रश्नों की लहरें

आता है ज्वार फिर दिल के समंदर में

भटकता है जीवन

तलाशते किनारा

जीवन की नैया को

नहीं मिलता सहारा

हर और यही मंजर है

दिल में चुभता कोई खंजर है

मरती हुई इंसानियत से

दिल जार जार रोता है

ऐसे भी भला कोई

इंसानियत खोता है

जब उठता दर्द का समंदर

हर मंजर याद आता है

डूबती नैया को कहां

साहिल नजर आता है!!!

(अभिलाषा चौहान)



16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 16 अक्टूबर 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर आभार आपका यशोदा जी 🙏 शुभ प्रभात

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (16-10-2018) को "सब के सब चुप हैं" (चर्चा अंक-3126) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  4. सादर आभार आपका आदरणीय 🙏 मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए 🙏

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रिय अभिलाषा जी- संयोगवश आज आपकी रचना तक पहुंची और आपके परिचय तक भी | आपके बारे में जानकर बहुत अच्छा लगा |रचना बहुत अच्छी है | जीवन का गहन दर्शन लिए | हार्दिक बधाई |

    जवाब देंहटाएं
  6. समंदर के लहरों की तरह निरंतर बहती सी रचना अति सुंदर शुभकामनाएं अभिलाषा जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्नेहसिक्त प्रतिक्रिया के लिए आपका सादर आभार
      सुप्रिया जी

      हटाएं
  7. वाह!!!
    उम्दा अभिलाषा जी भावों को बहुत सुंदरता से पेश किया आपने।

    जवाब देंहटाएं
  8. स्नेहसिक्त प्रतिक्रिया के लिए आपका सादर आभार
    कुसुम दी 🙏

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर रचना अभिलाषा जी ...धोखे और फरेब से दिल जब टूटता है,सच वह तड़प दर्द के समन्दर सी ही होती है...लाजवाब भावाभिव्यक्ति..

    जवाब देंहटाएं