मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 3 फ़रवरी 2019


आँगन का पेड़
घर के आँगन में लगा यह पेड़ मुझ से भी पुराना है. मेरे दादा जी ने जब यह घर बनवाया था, तभी उन्होंने इसे यहाँ आँगन में लगाया था. मेरा तो इससे जन्म का ही साथ है. यह मेरा एक अभिन्न  मित्र-सा रहा है.
इसकी छाँव में मैं खेला हूँ, सुस्ताया हू, सोया हूँ. इसकी संगत में मैंने जीवन की ऊंच-नीच देखी है. मेरे हर सुख-दुःख का साक्षी रहा है. मेरे परिवार का एक अंग-सा बन चुका है. पर आजकल कभी-कभार सोचता हूँ कि इस पेड़ के बिना यह घर कैसा लगेगा, मेरा जीवन कैसा होगा. फिर अपनी सोच ही मुझे कंपा जाती है. भीतर कुछ चुभ जाता है.
जन्म से मैं हर पल, हर घड़ी बढ़ता रहा हूँ. वैसे ही जैसे यह पेड़ बढ़ता रहा है. अब इस पेड़ की शाखाएं आँगन के एक कोने से दूसरे कोने तक घिर आई हैं और आँगन कहीं छिप सा गया है. घर भी बहु-बेटों, पोते-पोतियों से भर गया है. मैं पेड़ की ओर देखता हूँ , वह हंस देता है. पूछता है, क्या निर्णय किया है तुमने?
क्या निर्णय करना है मुझे? मैं चौंक कर पूछता हूँ.
अब मेरी कोई ज़रूरत है इस घर में?
यह घर पहले जितना नहीं रहा.
यही तो मैं कह रहा हूँ, यह घर पहले जैसा नहीं रहा.
हमारे दोनों के विस्तार ने इस घर को बौना बना दिया है. एक समय था जब इस घर का अपना एक व्यक्तित्व था, अपनी एक पहचान थी. समय के बहाव ने इस घर ने कुछ खो दिया है. अब यह अपने-आप में सिमट कर रह गया है.
अपना सारा जीवन इस घर में बिताने के बावजूद मुझे इस परिवर्तन का बहुत देर तक अहसास न हुआ था. फिर एक दिन मैंने इस पेड़ को अपने पर हँसते हुए पाया और मुझे अनुभव हुआ कि बेटे-बहुओं का इस बौने घर में दम घुटने लगा है. वह खुली हवा में सांस लेने को आतुर हैं. कुछ अनबोले प्रश्न हवा में मंडरा रहे हैं.
इस पेड़ का कुछ करना होगा?
“........”
इसने हमारे जीवन में एक अवरोध पैदा कर दिया है.
“.......”
मैं पेड़ की ओर देखता हूँ और चौंक जाता हूँ. इसका स्वरूप मुझसे कितना मिलता है. भ्रम होता है कि  मैं दर्पण में अपने-आप को देख रहा हूँ.
पर यह पेड़ मेरा प्रतिबिम्ब कैसे हो सकता है?
पेड़ मेरे मन के विचार पढ़ लेता है और मुस्कुरा देता है.

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज मंगलवार (05-02-2019) को "अढ़सठ बसन्त" (चर्चा अंक-3238)
    पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया लिखा है आपने।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    जवाब देंहटाएं