मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


फ़ॉलोअर

सोमवार, 31 अगस्त 2015

अब तो हरिहर ही लाज रखे -डॉ वागीश मेहता


आज पढ़िए जाति परस्त और राष्ट्रविरोधी राजनीति को बे -नकाब करती डॉ। वागीश मेहता की रचना जिसका ज़िक्र हम पिछले कई दिनों से कर रहे थे और जिसकी कुछ शीर्ष पंक्तियों का हम ने दीगर रिपोर्टों में  इस्तेमाल भी किया था :

                      अब तो हरिहर ही लाज रखे 

                                            -------------------डॉ वागीश मेहता 

जय सोनी मोनी मूढ़ मते ,

जो केजरवाल से गए छले ,

अब तो हरिहर ही लाज रखे। 
                    
                 (१  )
उस मधुबाला ने फंद  रचे ,

सुर असुर लबों  पर जाम रखे  ,

फिर नव-हेलन सी आ विरजी ,

रजधानी दिल्ली के दिल में ,

वो रोम  रोम से हर्षित है ,

अब तो हरिहर ही लाज रखे। 

              (२ )

वह आयकर का उत्पाती था ,

खुद को समझे सम्पाती था ,

प्रखर सूर्य जब तपता था ,

वह ऊँची उड़ानें  भरता था ,

अब एनजीओ के धंधे थे ,

कुछ पास कि बिजली खम्भे थे ,

वह दांत निपोरे आता था ,

फट खम्बों पर चढ़ जाता था ,

तब हैरां  होते चमचे थे ,

अब तो हरिहर ही लाज रखे। 

विशेष :सम्पाती  जटायु  का बड़ा भाई था ,जो सूर्य के पास जाना चाह रहा था पर इस प्रयास में उसके पंख जल गए थे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें