मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 5 सितंबर 2019

घर


तुमने देखा तो होगा 
मेरा घर 
मैं मेरे घर में 
अपनों के बीच 
अपनेपन से 
रहती हूँ ..


‘मेरे ’  घर में 
तीन बेडरूम एक हॉल 
और किचन के अलावा 
एक स्टोररूम और 
पूजा का एक कोना है ..

और हाँ
अपनी हैसियत के 
हिसाब से 
सजा रखा है 
मैंने  घर अपना ..

हर रोज़ 
बाई आती है
मेरे  घर 
जो झाड़ू पोछा 
कर जाती है ..
और 
जहाँ तहाँ जमी धूल,
और उग आए 
मकड़ी के जालों को 
साफ़ कर जाती है ..

गर कोई 
जानता नहीं है 
तो ये कि मैं ..
ख़ुद अपने ही भीतर 
एक आलीशान से 
कई कमरों वाले 
घर में 
न जाने कितने ‘मैं’ 
के साथ 
रहती हूँ  !!

कौन सी ‘मैं’
और कितनी ‘मैं ‘
किस कमरे में 
रहती है,
ये ख़ुद मैं  भी 
नहीं जानती !!

कितनी ही अलमारियाँ
और कितने ही खाने 
उगा रखे है मैंने 
अपने भीतर  ...
जिनमे कई कई 
‘मैं ’ और मेरी 
अच्छी बुरी यादें ...
बातें दफ़न है !!


मेरे भीतर 
पनपते और फैलते हुए 
इस घर में 
जो जमी हुई 
अहं की  धूल ...
मोह, द्वेष,काम ,
और क्रोध के मकड़जाल है,
उन्हें साफ़ करने के लिए 
कोई कामवाली 
नहीं मिलती मुझे !


कितने ही अंधेरे 
फैले है 
मेरे दिलो दिमाग़ के 
अंधे कुएँ में ...
और 
उम्र के तहखानों में !!
डरती हूँ मैं 
इन डरावने कोनों और 
भयावह कमरों में 
झाँकते हुए !!

हाँ ...
कुछ एक 
सुकून भरे 
एकांत है 
मेरे भीतर ...
जिनमें में 
प्रायः छुप जाती हूँ मैं 
कितनी ही 
अनचाही परिस्थितियों में ...

पिछली दफ़ा 
जब किन्ही 
मुश्किलातों से 
दो चार हुई थी 
तब ..
अपने ही भीतर 
किसी कोने में 
छुप गई थी मैं 
... 
...
...
खो गई  हूँ 
तब से ही
ख़ुद की बनी 
ख़ुद की बुनी 
इस भूलभुलैया में ....

सुनो ..
गर प्रेम में हो मेरे 
तो यक़ीनन 
मुझमे समाहित हो तुम 
गर मुझ में विचरते  हुए 
कदाचित 
कहीं मिल जाऊँ कभी 
बुला लेना 
मिला देना 
मुझे मुझसे 
कि अरसा हुआ है 
मुझे मैं हुए हुए ...

#मैं_ज़िंदगी 

2 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (07-09-2019) को "रिश्वत है ईमान" (चर्चा अंक- 3451) पर भी होगी।


    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं