मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


फ़ॉलोअर

रविवार, 20 सितंबर 2020

मेरी बर्बादी में कल तुम भी तो शामिल थे

 

मेरी बर्बादी में कल तुम भी तो शामिल थे

दुश्मनों की आबादी में कल तुम भी तो शामिल थे

 

वाह तुम गवाह हो गए उस मजलूम की तलाक पे

कल इनके ही शादी में तुम भी तो शामिल थे

 

देख लोग फिर खूं पीने लगे है दूजे का शहर में

इस खूंखार आॅधी में तुम भी तो शामिल थे

 

सियासत तुमने धरती को लाल लाल कर दिया है

इस नफरतों की वादी में तुम भी तो शामिल थे

 

कल हमने तुम्हे देखा था गलियों में मत माॅगते

हाॅ लिबास-ए- खदी में तुम भी तो शामिल थे

 

एक नया युग एक नया मुल्क बनाना था तुम्हे

कल विकास की मुनादी में तुम भी तो शामिल थे

 



 sanjay kumar maurya

6 टिप्‍पणियां: