मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 14 अक्तूबर 2014

कौन हो तुम ....


मैं जानता हूँ तुझे
तू आज का इन्सान है
तू सोचता कुछ और है
तेरे दिल में कुछ और है
तू कहता कुछ और है
और लिखता कुछ और है

आखिर तू भी तो मजबूर है
आज की दुनियाँ में
हर अंदाज़ में
हर बात में
स्वार्थ ही तो राज़ है

तु उजालों में रहता है
अंधेरों को फैलाता है
अनजाने में हर कोई फिर भी
तेरे ही गुण गाता है

तू बददुआ है
मेरे समाज के गलीचे की
जो समय की धूल में
बहुत तर बतर है
झाडूं तो धूल
मुझ पे गिरेगी
इसपर चलूँ तो
मिट्टी गलीचे पे और चढ़ेगी

उधेङूँ तो समाज टूट जायेगा
क्यों की सिर्फ़ धागा रह जायेगा
इस ज़र ज़र गलीचे को
फिर पींजना होगा
सब पाप धूल में उड़ जाएँगे
कताई और बुनाई में
कई जनम बीत जाएँगे
मगर फिर से एक नये
समाज बनाने के
ख़वाब मिल जाएँगे

पर इस पुराने गलीचे को
कौन उधेड़ पायेगा

क्यों कि तु आज का इन्सान है ...

                         ........मोहन सेठी

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना बुधवार 15 अक्टूबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    जवाब देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. अनुषा जी प्रोत्साहन के लिये आप का धन्यवाद ..मंगलकामनाएँ

      हटाएं