मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2015

जिंदगी हर किसी की





जिंदगी हर किसी की मिल जाती है कहानी में
वो आदमी भी सिकन्दर था कभी जवानी में

पहचानने से बज्म में इन्कार करता है उसे
खत वो अनगिनत जिसकी छुपा रखा है सिरानी में

कोई समझे कहाॅ दिल की हालात-ए-रंग क्या क्या है
जाकर देख ले हर साख को उजड़़े हुए बगानी में

मुहब्बत में बड़़े किस्से हुए इस जमीं के हर शहर में
डूबकर भी मर गए कुछ आॅख की पानी में

लवण्डर से महकते उसके लिबास भी खूब होंगे
मैं गम लिए बैठा हूं उसके इश्क़ की निशानी में

हर शख़्स है चित्रों में किरदार अपना ढूढ़ता फिरता
मैं प्रेम का प्यासा अभी खोया हुआ कबीरा की बानी में

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें