मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 28 जून 2019

चन्द माहिया :क़िस्त 60

चन्द माहिया : क़िस्त 60

:1:
हूरों की जीनत में
डूबा है ज़ाहिद
कुछ ख़्वाब-ए-जन्नत में

:2:
घिर घिर आए बदरा
बादल बरसा भी
भींगा न मेरा अँचरा

:3:
ग़ैरों की बातों को
मान लिया तूने
सच,झूठी बातों को

:4:
इतना ही फ़साना है
फ़ानी दुनिया मे
जाना और आना है

:5:
तुम कहती, हम सुनते
बीत गए वो दिन
जब साथ सपन बुनते

-आनन्द.पाठक-

मंगलवार, 25 जून 2019

मैं बीज




कल जो मैं सोया

बंद कमरा देख बहुत रोया ।

आंखें ना खुलती थी

 गर्मी भी कुछ भिगोती थी ।

हवा की थी आस

 लगती थी बहुत प्यास ।

ना आवाज़ ना शोर

थी शांति चहुँ ओर ।

हाथ कहीं बंधे से थे

पैर भी खुलते न थे ।

थी बहुत निराशा

मिली ना कोई आशा।

 एक कतरा अमृत का

कुछ जीवन सा दे गया

आंखें तो खुली नहीं

पर खुश्क लबों को

  भिगो गया।

 लंबे समय की

खुश्की का  साथ

प्रतिदिन रहती बस

उस क्षण  की याद

 उसी बंदीगृह में  सुनी

 एक धीमी सी आवाज़

कुछ तो था उसमें  जो जगा

मुझमें नये जीवन का अहसास

फिर एक अविरल धारा बही

मैं झारोझार नहाया

हाथ कुछ खुलने लगे थे

पैर ज़मीं में धंसने लगे थे

एक स्पर्श से मैं  चौंक  गया

किसी  ने मेरे तन को छुआ

मैं मदमस्त  लहराने  लगा

मेरा मन गीत गाने लगा

गुनगुनाहट ने दी  शक्ति नयी

जोर लगाया तभी  आँखें खुली

चौंधियाई आँखें न

 सह पाईं यह वार

सामने  था अनोखा

  सुंदर सपनीला  संसार।

काश कि उस अँधेरे में

मैं यह समझ पाता

हर दुख के बाद

 सुख अवश्य आता।

सुख का प्रकाश

सबको है लुभाता।

पर सच यह है -

सुख- दुख का परचम

सिक्कों के दो

पहलू  सा लहराता।

पल्लवी गोयल
चित्र गूगल से साभार

शुक्रवार, 21 जून 2019

मासूम बच्चे
साहब बिहार में नन्हें और मासूम बच्चों की मरने की संख्या दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है ,आप कहें तो कल आप का एक दौरा बिहार में बच्चों को देखने का फिक्स कर डायरी में नोट कर लूं ,असिस्टेंट ने मंत्री जी से पूछा ।
मंत्री : अरे पगला गए हो का ,कल विश्व योग दिवस है , लाखों लोग कल योग करने सुबह इंडिया गेट पर आयेगा ,सबसे मिलना जुलना भी होगा और इससे हमरा वोट बेंक भी बढ़ेगा ,कल योग में शामिल होने जाना है।सुबह जल्दी जगा देना I
और फिर नेता जी खांसते और हांफते हुए अपने बेड रूम में सोने चल दिये ।
संजय कुमार गिरि

एक ग़ज़ल : हुस्न हर उम्र में जवाँ देखा---

एक ग़ज़ल : हुस्न हर उम्र में  जवां देखा---

हुस्न हर उम्र में जवाँ देखा
इश्क़ हर मोड़ पे अयाँ  देखा

एक चेहरा जो दिल में उतरा है
वो ही दिखता रहा जहाँ देखा

इश्क़ तो शै नहीं तिजारत की
आप ने क्यों नफ़ा ज़ियाँ  देखा ?

और क्या देखना रहा बाक़ी
तेरी आँखों में दो जहाँ देखा

बज़्म में थे सभी ,मगर किसने
दिल का उठता हुआ धुआँ देखा ?

हुस्न वालों की बेरुख़ी  देखी
इश्क़ वालों  को लामकां देखा

सर ब सजदा हुआ वहीं’आनन’
दूर से उनका आस्ताँ देखा 

-आनन्द पाठक-

शनिवार, 15 जून 2019

चन्द माहिया : क़िस्त 59

चन्द माहिया : क़िस्त 59

:1:
सब क़स्में खाते हैं
कौन निभाता है
कहने की बाते हैं

:2:

क्या हुस्न निखारा है
जब से डूबा मन
उबरा न दुबारा है

:3:
इतना न सता माहिया
क्या थी ख़ता मेरी
सच,कुछ तो बता माहिया

:4:
बेदाग़ चुनरिया में
दाग़ लगा बैठे
आकर इस दुनिया में

:5:

धरती रह रह तरसी
बदली आई तो
आ कर भी नहीं बरसी

-आनन्द.पाठक-

रविवार, 9 जून 2019

मत्त सवैया मुक्तकमाला (2019 चुनाव)

मत्त सवैया मुक्तकमाला (2019 चुनाव)

हर दल जो टुकड़ा टुकड़ा था, इस बार चुनावों ने छाँटा;
बाहर निकाल उसको फेंका, ज्यों चुभा हुआ हो वो काँटा;
जो अपनी अपनी डफली पर, बस राग स्वार्थ का गाते थे;
उस भ्रष्ट तंत्र के गालों पर, जनता ने मारा कस चाँटा।

इस बार विरोधी हर दल ने, ऐसा भारी झेला घाटा;
चित चारों खाने सभी हुए, हर ओर गया छा सन्नाटा।
जन-तंत्र-यज्ञ की वेदी में, उन सबकी आहुति आज लगी;
वे राजनीति को हाथ हिला, जल्दी करने वाले टा टा।

भारत में नव-उत्साह जगा, रिपु के घर में क्रंदन होगा;
बन विश्व-शक्ति उभरेंगे हम, जग भर में अब वंदन होगा;
हे मोदी! तुम कर्मठ नरवर, गांधी की पुण्य धरा के हो;
अब ओजपूर्ण नेतृत्व तले, भारत का अभिनंदन होगा।

तुम राष्ट्र-प्रेरणा के नायक, तुम एक सूत्र के दायक हो;
जो सकल विश्व को बेध सके, वैसे अमोघ तुम सायक हो;
भारत भू पर अवतरित हुये, ये भाग्य हमारा आज प्रबल;
तुम धीर वीर तुम शक्ति-पुंज, तुम जन जन के अधिनायक हो।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
25-05-19

शनिवार, 8 जून 2019

एक ग़ज़ल : जब भी ये प्राण निकले--

एक ग़ज़ल : जब भी ये प्राण निकले---

जब भी ये प्राण निकलें ,पीड़ा मेरी  घनी हो
इक हाथ पुस्तिका  हो .इक हाथ  लेखनी हो

सूली पे रोज़ चढ़ कर ,ज़िन्दा रहा हूँ कैसे
आएँ कभी जो घर पर,यह रीति  सीखनी हो

हर दौर में रही है ,सच-झूठ की लड़ाई
तुम ’सच’ का साथ देना,जब झूठ से ठनी हो

बेचैनियाँ हों दिल में ,दुनिया के हों मसाइल
याँ मैकदे में  आना .खुद से न जब बनी  हो

नफ़रत से क्या मिला है, बस तीरगी  मिली है
दिल में हो प्यार सबसे , राहों में रोशनी हो

चाहत यही रहेगी ,घर घर में  हो दिवाली
जुल्मत न हो कहीं पर ,न अपनों से दुश्मनी हो

माना कि है फ़क़ीरी ,फिर भी बहुत है दिल में
’आनन’ से बाँट  लेना , उल्फ़त जो बाँटनी हो

-आनन्द.पाठक-

बुधवार, 5 जून 2019


मुफ्त,मुफ्त,मुफ्त......
अब दिल्ली में औरतें  मेट्रो और बसों में मुफ्त यात्रा कर पायेंगी.
कल टीवी में कुछ लोगों के उद्गार सुन समझ आया कि इस देश में  पढ़े-लिखे लोगों को भी सरलता से बहकाया जा सकता है.
केजरीवाल जी स्वयं इनकम-टैक्स विभाग में काम कर चुके हैं और भली-भांति जानते हैं कि सरकार अगर एक पैसा भी कहीं खर्च करती है तो अंततः वह खर्च देश को लोगों को ही उठाना पड़ता है.
अब चूँकि मुफ्त यात्रा सच में मुफ्त नहीं होगी तो इस व्यय का बोझ कौन उठाएगा? निश्चय ही केजरीवाल और उनके सहयोगी तो नहीं उठाएंगे. यह बोझ देश की जनता को ही उठाना पडेगा. या तो टैक्स बढ़ाए जायेंगे या फिर कर्जा लिया जायेगा. टैक्स हर व्यक्ति को देना पड़ेगा, उस गरीब को भी जो भीख मांग कर गुज़ारा करता है. कर्जा आने वाली पीढ़ियाँ अदा करेंगी, निश्चय ही टैक्स भर कर.
यह बात तो सब राजनेता और टैक्स अधिकारी जानते हैं कि  धनी लोगों को टैक्स की मार से कोई फर्क नहीं पड़ता. जितना टैक्स बढ़ता है उतना ही टैक्स चोरी करने में वह सब माहिर हो जाते हैं.
अंततः बढ़े हुए टैक्स का बोझ तो मध्य वर्ग और गरीब लोगों को ही झेलना पड़ता है.  ऐसा अब भी होगा. मुफ्त यात्रा का खर्च आम लोग ही उठाएंगे, वह लोग भी जो कभी मेट्रो में यात्रा नहीं करेंगे. एक तरह से इस कानूनी प्रपंच द्वारा ग़रीबों का पैसा उनसे लेकर संपन्न वर्ग को हस्तांतरित कर दिया जाता है.
जिस दिन हम लोग यह बात समझ जायेंगे, उस दिन राजनेता हमें मुफ्त पानी, मुफ्त बिजली, मुफ्त मेट्रो यात्रा, मुफ्त, मुफ्त, मुफ्त............ का लालच देकर मूर्ख नहीं बना पायेंगे.