मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 31 जुलाई 2018

चन्द माहिया : क़िस्त 50

चन्द माहिया : क़िस्त 50

1

पल जो भी गुज़र जाता
छोड़ के कुछ यादें
फिर लौट के कब आता ?

2
होता भी अयाँ कैसे
दिल तो ज़ख़्मी है
कहती भी ज़ुबाँ कैसे ?

3
 तुम ने मुँह फेरा है
टूट गए सपने
दिन में ही अँधेरा है

4
शोलों को भड़काना
ये भी सज़ा कैसी
भड़का के चले जाना

5
इक नन्हीं सी चिड़िया
खेल रही जैसे
मेरे आँगन गुड़िया


-आनन्द.पाठक-

सोमवार, 30 जुलाई 2018

Laxmirangam: बात कहनी है...

Laxmirangam: बात कहनी है...: बा त कहनी  है. तुमसे अब बात यही कहनी है  कि तुमसे बात नहीं करनी है. जुबां से मैं भी तुमसे कुछ न कहूँ न मुख से तुम भी मुझस...

Free counters!

रविवार, 22 जुलाई 2018

कविता: उपदेशों की गंगा

कविता: उपदेशों की गंगा
सारांश:

हींग      लगे  ना    फिटकरी,
            रंग       आ     जावे,     चोखा।
उपदेश  दे     कर   जग    में,
            ठग  भी   दे    जावे,     धोखा।

बस उपदेशों के ऊपर प्रस्तुत है मेरी ये
रचना:
राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता
404/13, मोहित नगर
देहरादून
*******************************
उपदेशों की गंगा

गाँव      था   एक  बहुत  ही,     न्यारा।
जब       भी   उस   गाँव   में,
            मरता              था, 
            किसी    का    कोई,     प्यारा।
------------------------------------------------
रोना      धोना   तब  उसके,
            परिवार   में     मच,  जाता था।
फिर      उसकी  अर्थी   को,
            अच्छे  से  सजाया,  जाता था।
------------------------------------------------
4          कन्धों पर उसे तब,
            शमशान  ले  जाया, जाता था।
राम    नाम  सत्य  है,
सत्य बोलो   गत   है, 
            ऐसा      भी  बोला,  जाता था।

बिछुड़   गया          राजेन्द्र,
            जिन  अपनों से वो,
            उनका  रो  रो  कर,
            हाल      बुरा     हो,  जाता था।
------------------------------------------------
ठीक     उसी           समय,  
            वहाँ   एक  सनकी,    
            ना                जाने,  
            कहाँ    से        आ,  जाता था।
हँस       हँस  कर ढोल पीट,
            शव यात्रा के साथ,
            चलते  हुवे  राजेन्द्र,  
            वो ऐसा  भी कहता, जाता था।
------------------------------------------------
अरे       क्यों     रोते      हो ?
            मृत्यु   तो  है   एक,     बहाना।
अज़र    अमर आत्मा ने तो,
            बदल  लिया आज़,
            बस   अपना चोला,     पुराना।

फिर      काहे     का  इतना,        रोना।
------------------------------------------------
रोने       की     नहीं राजेन्द्र,
            जश्न की घड़ी है ये,    तुम्हारी।
गीता     में    तो   ऐसा    ही,
            कह     गए    कृष्ण,     मुरारी।
------------------------------------------------
तभी      अचानक  एक दिन,
            वक़्त  के थपेड़ों की,
            उसे      पड़    गयी,        मार।
एक्सी   डेन्ट  से जब उसके,
            इकलौते   बेटे     से,
            जिन्दगी         गयी,        हार।
------------------------------------------------
बिछुड़ने से   अपने  बेटे   के,
            वो  तब  दहाड़ें मार,
            राजेन्द्र,  रोने    लग,  गया था।
दूसरों    को      बोले     हुवे,
            गीता के उपदेश को,
            वो बिल्कुल ही भूल,  गया था।
------------------------------------------------
तभी      किसी ने बोला उसे,
            क्यों  रोते  हो  भाई ?
            मृत्यु   तो  है   एक,     बहाना।
अज़र    अमर आत्मा  ने तो,
            बदल  लिया  आज़,
            बस   अपना  चोला,    पुराना।
------------------------------------------------
तब       वो    संभला   और,
            तुरंत  ही  ये  बोला,
            क्षमा    करो    मुझे,       भाई।
आज़     समझ गया मैं,  क़ि,    
            बुरा वक़्त आने पर,
            जग में सारे उपदेश,
            भूल   जाता  इंसान,    
            ये   ही   है   कड़वी,   सच्चाई।
********************************
अंत      में  अब राजेन्द्र  की,
            सुन  लो  एक  बात,  हैरत की।
सोने      जैसी शुद्ध खरी  है,
            ये      बात,      24,  कैरेट की।
------------------------------------------------
एक       ने  दुसरे   से  पूछा,
            जग  में कौन  सा है,
            सब     से  आसान, लेना देना।
दुसरे ने  तब पहले  से कहा,
            किसी   से   सलाह,       लेना। 

और      किसी  को  उपदेश,        देना।
------------------------------------------------
हींग      लगे  ना    फिटकरी,
            रंग       आ     जावे,     चोखा।
उपदेश  दे     कर   जग    में,
            ठग  भी   दे    जावे,     धोखा।
------------------------------------------------
धर्म       का  मुखौटा   पहने,
            बड़े  बड़े पंडालों में,
            कुछ ठग भी  आज़,
            उपदेशों  की   गंगा,   बहाते हैं।
पकड़े    जाने  पर  जेल  की,
            हवा      भी       वो,    खाते हैं।
------------------------------------------------
उपदेशों की   गंगा   जग   में, 
            बस दूसरों  के लिए,
            ही                बहाई,  जाती है।

जब       अपनी           बारी,  आती है।
वो         गंगा  तब  ना जाने,
            कहाँ              सूख,   जाती है।
------------------------------------------------
नहीं      रहती वो  किसी भी,  काम की।
प्रेम       से   बोलो,   जै   श्री,   राम की।
********************************
कविता: राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता
404/13, मोहित नगर
देहरादून

शनिवार, 21 जुलाई 2018

चन्द माहिया :क़िस्त 49

चन्द माहिया : क़िस्त 49

:1:
ये इश्क़ है जान-ए-जां
तुम ने क्या समझा
ये राह बड़ी आसां ?

:2:
ख़ामोश निगाहें भी
कहती रहती हैं
कुछ मन की व्यथायें भी

:3:
कुछ ग़म की सौगातें
जब से गए हो तुम
आँखों में कटी रातें


:4:
वो जाने  किधर रहता
एक वही तो है
जो सब की खबर रखता

:5:
माया को सच माना
मद में है प्राणी
 है कितना अनजाना

-आनन्द.पाठक-


कविता: "बदरा की आत्मकथा"

कविता: बदरा की आत्मकथा

सारांश:


सभी     इस       बात    का,   
            ध्यान         रखना,     ज़्यादा। 
जब      भी    बरसे   बदरा,
            इसके   पानी   का,
            तब    हो  सरंक्षण
            इसी में हम सबका,    फायदा।

बदरा   की   आत्मकथा   से  शुरू  होती
और अंत में इस शिक्षा को देती, मेरी ये 
कविता:
राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता


404/13, मोहित नगर
देहरादून
*******************************
बदरा की आत्मकथा

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,    ठिकाना।
भटकता पथिक             मैँ,
            कौन  मंजिल   मेरी
            कहाँ                 है,       जाना ?
------------------------------------------------
याद     तीख़ी   दिलावे  वो।

हवा का मुझे,   डोलाना  वो,
            तब मेरा यहाँ वहाँ,   
            आपस   में     और,
            पर्वतों              से,    टकराना।
गरज     कर तब वो अपना,
            क्रोध   भी  राजेन्द्र,    दिखाना।
बिजली  का भी तब       वो,    कड़कना।
बच्चों    के      साथ   साथ,
            बड़ों  का  भी   तब,
            डर      से    दुबक,        जाना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,    ठिकाना।
------------------------------------------------
दिल      कचोट  जावे    वो।

देख       सूखे  खेत   में  वो,
            दो   बूढ़ी     आँखें,
            जर्जर  शरीर  और,
            हथेली की ओट से,
            उनका   वो    मुझे,     ताकना।

चातक   पंछी  का  भी   वो,
            स्वाति   नक्षत्र  में
            मेरे  आने  की राह,      देखना।

मेरे        भूजल    का     भी,
            राजेन्द्र            वो
            पाताल    में    चले,        जाना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,    ठिकाना।
------------------------------------------------
नदी       तालाब          और,       झरने।
मेरी       इन्तजार में  लगे हैं,    तड़फ़ने।
------------------------------------------------
पशु       पंछी    और  सभी,        इंसान।
मुझे       ना   देख   हो  रहे,       बेजान।
उनके     लिए   तो   मैँ    हूँ,     भगवान्।
------------------------------------------------
सारे       खेत              और,  खलियान।
वो         पेड़     पौधे   और,       बागान।
बिन      मेरे  खो रहे अपनी,      पहचान।
------------------------------------------------
इन        सबका    माली मैँ।
सबकी   करता रखवाली मैँ।

कर्म       है    मेरा    सबको,
            अच्छे    से    सींच,       जाना।
सबकी  बेजान हुई रगों का,
            तब     फिर      से,
            जिन्दा             हो,       जाना।
नव       अंकुर   का      तब,
            राजेन्द्र,      फूटना
            और    नव  जीवन,        पाना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,    ठिकाना।
------------------------------------------------
मन को  तृप्त कर जावे  वो।
मेरी       पहली वर्षा  का वो।

धरती    की            प्यास,      बुझाना।
मिट्टी     की   सौंधी  सुगंध
            का भी  वो राजेन्द्र,       
            तब मुझ तक पहुँच,        जाना।
मदहोश  मेरा    तब        हो,        जाना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,     ठिकाना।
------------------------------------------------
मन को  बहुत  ही  भावें वो।
खेतों में फसलें  लहरावें जो।
चहूँ ओर रंगीन फिजायें वो।

मौसम   तब   हो  जावे  जो,
            राजेन्द्रबहुत   ही,     सुहाना।
पत्थरों   से  भी  निकले  जो,
            संगीत   तब   और,
            पंछियों  का भी वो,  चहचहाना।
नभ् में   सबका वो  शेप,       बनाना।
कोयल   की   कू   कू    और,
            मेंढक   का भी तब
            वो  टर्र  टर्र   वाला,
            अपना           गीत,       गाना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,    ठिकाना।
------------------------------------------------
दृष्य वो दिल को, छूवे यहाँ।
मासूम   से  जो बच्चे   वहाँ।
बारिस   में  भीग  रहे  जहाँ।
कश्ती    से   खेल रहे   वहाँ।
रिश्तों    का ना, बंधन जहाँ।


उनका   वो   खेल  खेल   में,
            राजेन्द्र,       लड़ना,   झगड़ना।
फिर      से खुश  होना और,  मुस्कुराना।
ठण्डी     फुहारों   से    भीगे,
            चेहरे      से       वो,
            पानी  की  बूंदों का,     टपकना।
भीगे      बालों  की लटों का,
            वो       माथे      पे,   चिपकना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,    ठिकाना।
------------------------------------------------
याद      बहुत ही, आवें वो।
मन  को बहुत  रिझावें  वो।

पेड़ों      पर  पड़े  झूले   वो,
            मस्ती  में   सबका,      झुलना।
हाथों      में       भी    मेहंदी,     लगाना।
हरियाली तीज़    पर      वो,
            तीज़   फंक्शन  में,
            सबका       हँसना,      हँसाना।
सावन   के   गीतों  का  भी,
           राजेन्द्र, गाना और,  गुनगुनाना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,     ठिकाना।
------------------------------------------------
देख      आनंद  दे जावें  वो।
सजी     धजी    कांवड़ें   वो।
रंग        बिरंगी  कतारें  वो।

कांवड़ियों का  हर  की पौड़ी,  
            पे      वो   राजेन्द्र,
            गंगा  जल     लेने,        आना।
कंधे      पे  कांवड़ कतार में,
            मीलों पैदल  ले  के,       जाना।

तेज       धूप      तो    कभी,  
            वर्षा      में      चल,
            रंग उनके पड़ जाते,       काले।
पैरों       में    भी   पड़  जाते,       छाले।

जोरों     से    तब  मिल कर,
            उनका वो,बम  बम,  
            भोले     का   नारा,     लगाना।
अंत में   भगवान्  शिव   पर,
            राजेन्द्रगंगा  जल,    चढ़ाना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,    ठिकाना।
------------------------------------------------
हर वर्ष समय पर आता मैँ।
भरपूरपानी भर लाता मैँ।
प्यासी  धरती   रिझाता मैँ।

सफल   रहा मेरा इस बरस
            का          राजेन्द्र,        आना।
काम      मेरा अब हुवा पूरा,
            इस    बरस     तो,
            अब   अगले बरस
            मुझे   फिर  से  है,         आना।
भरपूर   पानी  भर  कर   है,         लाना।
तब       तक मुझे  भूल  ना,        जाना।

उमड़ता घुमड़ता  बदरा   मैँ,
            ना  कोई   ठौर  ना,    ठिकाना।
भटकता पथिक             मैँ,
            कौन  मंजिल  मेरी
            कहाँ                 है,       जाना ?
*******************************
अंत में   अब राजेन्द्र की भी,
            सुन लो  सभी  एक,      व्यथा।
बदरा    ने     तो   सुना   दी,
            अपनीपूरी आत्म        कथा।
------------------------------------------------
पर        सुन  लो सभी एक,     सच्चाई।
ये         आत्मकथा  अपनी,  
            उसने    पूरी      ना,      सुनाई।

अधूरी    जो  रह  गयी   उसे,
            राजेन्द्र  से  सुनलो,         भाई।
------------------------------------------------
कभी     कभी इसे क्रोध भी,
            राजेन्द्र,         ,     जाता है।
बदरा    ये तब पूरा ही फट,     जाता है।
------------------------------------------------
बाढ़       के   साथ     साथ,
            तब ये कहर भी ढा,   जाता है।
बस्तियों को भी  बर्बाद कर,    जाता है।
------------------------------------------------
कभी     कभी तो कुछ ऐसा
            भी   अनोखा    हो,    जाता है।
पड़       जाता  ये  कमजोर,
            तब वर्ष 2 वर्ष को,
            ये  गायब  ही   हो,    जाता है।

पानी     नहीं   बरसता  तब,
            और  पानी  का तो,
            अकाल           पड़,    जाता है।
सारे      खेत खलियान तब,
            जाते    सूख   और,
            चहूँ ओर हाहाकार,
            राजेन्द्र,          मच,    जाता है।
------------------------------------------------
इसलिए राजेन्द्र   की  सभी,
            इस      बात    का,   
            ध्यान         रखना,     ज़्यादा।   
जब       भी   बरसे   बदरा,
            इसके   पानी   का,
            तब    हो  सरंक्षण
            इसी में हम सबका,    फायदा।
------------------------------------------------
पानी     बचाओ देशबढ़ाओ,
            ये  ही  है, आज का,       नारा।
नहीं      तो      भविष्य    में
            बिन  पानी  आदमी,
           क्या            करेगा,     बेचारा।
------------------------------------------------
राजेन्द्र  की      ये     व्यथा,
            गर्      हो      जावे,          दूर।
मेरे        देश     में        तब
            पानी   हो   जावेगा,     भरपूर।
------------------------------------------------
बात      भी बन जावेगी तब,
            हम  सभी   के   ही,   काम की।
प्रेम       से    बोलोजै  श्री,    राम की।
*******************************
कविता: राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता


404/13, मोहित नगर
देहरादून