मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 22 जनवरी 2017

एक ग़ज़ल : यकीं होगा नहीं तुम को.....

एक ग़ज़ल : यकीं होगा नहीं तुम को....

यकीं होगा नहीं तुमको  मिरे तर्ज़-ए-बयाँ  से
जबीं का एक ही रिश्ता तुम्हारे आस्ताँ  से

फ़ना हो जाऊँगा जब राह-ए-उल्फ़त में तुम्हारी
ज़माना तुम को पहचानेगा  मेरी दास्ताँ  से

मिली मंज़िल नहीं मुझको भटकता रह गया हूं
बिछुड़ कर रह गया  हूँ  ज़िन्दगी के कारवाँ से

यूँ उम्र-ए-जाविदाँ  लेकर यहाँ पर कौन आया 
सभी को जाना होगा एक दिन तो इस जहाँ  से

चमन को है कहाँ फ़ुरसत कि होता ग़म में शामिल
बिना खिल कर ही रुख़सत हो रहा हूँ मैं यहाँ से

बनाया खाक से मुझको तो फिर क्यूँ बेनियाज़ी !
कभी देखा तो होता हाल-ए-’आनन’ आस्माँ  से

-आनन्द पाठक-
08800927181

 शब्दार्थ
तर्ज़-ए-बयाँ से = कहने के तर्रीक़े  से
जबीं = माथा/ सर/पेशानी
आस्तां = दहलीज /चौखट
उम्र-ए-ज़ाविदां = अमर /अनश्वर
बेनियाज़ी =उपेक्षा
हाल-ए-आनन = आप द्वारा सॄजित ये बन्दा [आनन] किस हाल में है । सवाल परवरदिगार से है

शनिवार, 21 जनवरी 2017

उर्दू बह्र पर एक बातचीत :किस्त 21[ज़िहाफ़ात]

                                  उर्दू बह्र पर एक बातचीत : क़िस्त 21 [ज़िहाफ़ात]

[[Disclaimer Clause  : वही जो क़िस्त 1 में है]

.............. पिछली कड़ियों में मैने ज़िहाफ़ात के बारे में कुछ चर्चा की थी जैसे सबब-ए-ख़फ़ीफ़ पर लगने वाले ज़िहाफ़ ,सबब-ए-सक़ील पर लगने वाले ज़िहाफ़ ,वतद-ए-मज्मुआ पर लगने वाले ज़िहाफ़ या वतद-ए-मफ़रुक़ पर लगने वाले ज़िहाफ़। साथ ही मुफ़र्द ज़िहाफ़ की चर्चा की और मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ की भी। फिर आम ज़िहाफ़ और ख़ास ज़िहाफ़ क्या होते हैं पर भी बात चीत की । हम ये तो दावा नहीं कर सकते  कि   सारे ज़िहाफ़ात की चर्चा मुकम्मल हो गई मगर इतना ज़रूर है कि  कुछ हद तक चर्चा हुई  है जिससे ये समझा जा सकता है कि  ज़िहाफ़ क्या होता है और कैसे अमल करता है।दो या दो से अधिक ज़िहाफ़ [मुरक़्क़ब ज़िहाफ़] कैसे किसी सालिम रुक्न के टुकड़े [अजज़ा] पर अमल [व्यवहॄत] होता है । विशेष जानकारी के लिए अरूज़ की किसी भी मुस्तनद [प्रमाणिक]  किताब से सन्दर्भ लिया जा सकता है।

एक बात तो तय हैं कि ये सारे ज़िहाफ़ात उर्दू शायरी के ’सालिम’ रुक्न के अवयवों [ अजज़ा [जिनकी संख्या 8-है] पर ही लगता है।ये मुफ़र्द या मुरक़्क़ब] ज़िहाफ़ कभी ’मुज़ाहिफ़’ रुक्न पे अमल नहीं करते -ये अरूज़ की बुनियादी उसूल के ख़िलाफ़ होगा।
हाँ दो ज़िहाफ़ ऐसे हैं जो ’मुज़ाहिफ़’ पर अमल करते हैं -सालिम’-रुक्न पर नहीं और वो है

(1) तस्कीन-ए-औसत का अमल
(2)  तख़्नीक़     का अमल 
आज हम इन्ही दोनों तरक़ीब-ए-अमल पर चर्चा करेंगे
अर्कान का सारा खेल  हर्फ़-ए-’हरकत-ओ-साकिन का है ।
तस्कीन-ए-औसत : अगर किसी -’एक ही मुज़ाहिफ़ रुक्न ’- में    3-मुत्तहर्रिक [ यानी हरकत लगा हुआ हर्फ़]  लगातार और एक साथ आ जाये तो बीच का ’हर्फ़-ए-हरकत’ साकिन हो जाता है  शर्त यह कि इस अमल से  [ग़ज़ल या शे’र की ] बह्र  का वज़न न बदल जाये ।और  बरामद रुक्न को ,’मस्कून’ कहते हैं
[यही ’औसत’  गणित में भी बोलते है-यानी 3-संख्याओं का ’औसत’ निकालना यानी ’बीच’ वाला अंक]
अब कुछ ऐसे अल्फ़ाज की चर्चा कर लेते है जिस में 3-हर्फ़ मय हरकत आता ह॥  आखिरी वाला हर्फ़ तो ख़ैर ’साकिन’ होगा ही  [कारण की उर्दू ज़बान में कोई लफ़्ज़ ’हरकत’ पर नहीं गिरता -बल्कि ’साकिन; पर ही गिरता है]
अकसर्----हरकत्----...कसरत्.........रमज़ान्....बरकत्   वग़ैरह वग़ैरह । ज़ाहिर है कि इसमें शुरु के 3-हर्फ़ पर लगातार हरकत [जबर  की हरकत है ]
अगर् अरूज़् की भाषा मे कहें तो [ सबब  की परिभाषा अगर आप को याद हो तो ]
अकसर्   = 1 1 2  =यानी सबब-ए-सक़ील [11]+सबब-ए-ख़फ़ीफ़[2]
हरकत्   = 1 1 2  =यानी सबब-ए-सक़ील [11]+सबब-ए-ख़फ़ीफ़[2]
कसरत्   =1 1 2  =यानी सबब-ए-सक़ील [11]+सबब-ए-ख़फ़ीफ़[2]
बरकत्   =1 1 2  =यानी सबब-ए-सक़ील [11]+सबब-ए-ख़फ़ीफ़[2]
तस्कीन-ए-औसत के अमल से इसे हम पढ़ेंगे
अक् सर्.. ..........हर् कत्..........कस् रत् ........बर् कत् ...........

अक् सर् =2 2 =यानी सबब्-ए-ख़फ़ीफ़्
हर् कत् =2 2  =यानी  सबब्-ए-ख़फ़ीफ़्
कस् रत्= 2 2 = यानी सबब्-ए-ख़फ़ीफ़्
बर् कत् = 2 2 =यानी  सबब्-ए-ख़फ़ीफ़्

हालांकि 4-हर्फ़ी जुमला का यहाँ सबब से काम तो चल गया ।मगर अरूज़ में इसे ’ फ़ासिला’ कहते हैं ।इसकी चर्चा मैने पहले नहीं किया कारण कि ज़रूरत ही नहीं पड़ी   ।थोड़ी सी चर्चा यहाँ कर लेते है। फ़ासिला की 2-क़िस्में होती है}
(1) फ़ासिला सुग़रा
(2) फ़ासिला कबरा

फ़ासिला सुग़रा = वो 4-हर्फ़ी जुमला/कलमा  जिसमें हर्फ़ क्रमश:   हरकत+हरकत+हरकत+साकिन हो
फ़ासिला कबरा = वो 5-हर्फ़ी जुमला/कलमा  जिसमें हर्फ़ क्रमश:   हरकत+हरकत +हरकत+हरकत+साकिन  हो

[अरबी ज़ुबान , 5-हर्फ़ी जुमला या कलमा तो afford कर सकता परन्तु उर्दू जुबान में ऐसे लफ़्ज़ मुश्किल से मिलते है ,कम ही प्राप्य है।
 मिलने को तो उर्दू जुबान में ’सबब-ए-सक़ील’ या वतद-ए-मफ़रुक़ के independent अल्फ़ाज़ भी नहीं मिलते है]
अब तस्कीन-ए-औसत पर एक बार फिर आते हैं
तस्कीन-ए-औसत :-अगर किसी -’एक ही मुज़ाहिफ़ रुक्न ’- में    3-मुत्तहर्रिक [ यानी हरकत लगा हुआ हर्फ़]  लगातार और एक साथ आ जाये तो बीच का ’हर्फ़-साकिन हो जाता है  शर्त यह कि इस अमल से  [ग़ज़ल या शे’र की ] बह्र न बदल जाये । 
”एक ही मुज़ाहिफ़ रुक्न ’- से मेरा आशय है कि जब सालिम रुक्न पर हम मुफ़र्द[एकल] या मुरक़्क़ब[ मिश्रित] ज़िहाफ़ का अमल कर रहे थे तो अजब अजब क़िस्म और शकल की मुज़ाहिफ़ रुक्न बरामद हो रहा था और कभी कभी तो ऐसी भी शकल बरामद हो रही थी कि 3-मुतहर्रिक हर्फ़ एक साथ सिलसिलेवार भी मिल मिल रहा था } बस यहीं ’और ऐसी ही ’मुज़ाहिफ़ रुक्न की शकल ’पर तस्कीन-ए-औसत का अमल होता है । आप चाहे तो करें और एक नई रुक्न बना लें और न चाहें तो न करें -आप की मरजी।वज़न में कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा।
 आप ऊपर देख ही रहे हैं  कि चाहे तस्कीन-ए-औसत का अमल करे न करे वज़न 4-ही रहेगा बस लफ़्ज़ की अदायगी बदल जायेगी
जब सालिम रुक्न ’फ़ा इला तुन [2 12 2]’ पर ज़िहाफ़ ख़ब्न का अमल किया था तो -फ़ इला तुन [1 12 2]  मिला था  यानी [ फ़े-ऐन-लाम-अलिफ़-ते- नून]   जिसमे ’फ़े-ऐन-लाम’ 3-मुतहर्रिक है जो एक साथ लगातार आ गए।अब तस्कीन-ए-औसत  का अमल [इस मुज़ाहिफ़ शकल पर} किया जा सकता है जिस की बदौलत जो बीच में -ऐन [मुतहर्रिक है] को साकिन किया जा सकता है ।
तब?
 तब फ़े+ऐन [साकिन][2]  ...,लाम+अलिफ़[साकिन][2] ..... ते+नून [साकिन][2]  हो सकता है यानी  तस्कीन-ए-औसत की अमल से एक रुक्न [2 2 2] भी बरामद की जा सकती है तब इसका रुक्न का  नाम-’मख़्बून मस्कून’ होगा ।
मस्कून -शब्द जोड़ने से यह पता चलता है कि यह रुक्न तस्कीन-ए-औसत से बरामद हुई है । आगे की चर्चा में यथा स्थान जहाँ जहाँ इसकी ज़रूरत पड़ेगी हम निशान्दिही करते चलेंगे।

तस्कीन-ए-औसत  की ताक़त का अन्दाज़ा आप इस बात से लगा सकते है कि इस के अमल से रुबाई की एक वज़न से 24- वज़न बरामद किए जा सकते हैं । कैसे ? इस बात की चर्चा हम आगे करेंगे जब रुबाई के अर्कान की चर्चा करेंगे
इसी प्रकार इसी अमल से  ’माहिया’ के एक वज़न से 18-रुक्न बरामद किए जाते है

तख़्नीक़ का अमल :- अगर किसी दो {पास पास के )मुज़ाहिफ़ रुक्न में 3-मुतहर्रिक [यानी हरकत लगा हुआ हर्फ़] लगातार और एक साथ आ जाये तो बीच का मुतहर्रिक -साकिन हो जाता है शर्त यह कि इस अमल से बह्र न बदल जाए  । अगर आप  ध्यान से देखे तो दोनो का अमल लगभग एक जैसा ही है बस फ़र्क़ है तो मुज़ाहिफ़ रुक्न की position  का।यानी इस परिभाषा को यूँ भी परिभाषित कर सकते है
अगर किसी मुज़ाहिफ़ रुक्न के आखिर में ’मुतहर्रिक’ हर्फ़ आता है और ठीक उसके सामने वाला रुक्न वतद-ए-मज्मुआ हो [बज़ाहिर दो हरकत होगा ही होगा]  तब 3-मुतहर्रिक जमा हो गए तो सर-ए-वतद[जो अब बीच में आ गया ]  को साकिन कर देगे जो अपने से सामने वाले रुक्न के मुतहर्रिक से जुड जायेगा और सबब-ए-ख़फ़ीफ़ का वज़न देखा । इस स्थिति में हासिल रुक्न को ’मुख़्निक़’ कहते है

इन दोनो ज़िहाफ़ात की चर्चा विस्तार से यहाँ करना ग़ैर मुनासिब होगा ।आगे की चर्चा में जब कहीं इस तर्क़ीब की ज़रूरत पड़ेगी तो बीच बीच में Hint करते चलेंगे।ख़ुदा ख़ुदा कर के तबसिरा-ए-ज़िहाफ़ात  सरसरी तौर पे खत्म हुआ।

अब आगे की किस्त में-- उर्दू शायरी में प्रचलित 19- बहर की चर्चा  अश’आर सहित करेंगे

--इस मंच पर और भी कई साहिब-ए-आलिम मौज़ूद हैं उनसे मेरी दस्तबस्ता [ हाथ जोड़ कर] गुज़ारिश है कि अगर कहीं कोई ग़लत बयानी या ग़लत ख़यालबन्दी  हो गई हो तो निशान्दिही ज़रूर फ़र्मायें ताकि मैं ख़ुद को  दुरुस्त कर सकूं और बा करम मेरी मज़ीद [अतिरिक्त] रहनुमाई भी फ़र्माये ।मम्नून-ओ-शुक्रगुज़ार रहूँगा।

अभी नस्र के कुछ बयां और भी हैं..........
ज़िहाफ़ात् के कुछ निशां और भी हैं.....


[नोट् :- पिछले अक़सात के आलेख आप मेरे ब्लाग पर  भी देख सकते हैं 

www.urdu-se-hindi.blogspot.com
or
www.urdusehindi.blogspot.com

-आनन्द पाठक
08800927181

शुक्रवार, 20 जनवरी 2017

दो मुक्तक

                                 दो  मुक्तक
:1:
बात यूँ ही  निकल गई  होगी
रुख़ की रंगत बदल गई होगी
नाम मेरा जो सुन लिया  होगा
चौंक कर वो सँभल गई होगी

:2;

कौन सा है जो ग़म दिल पे गुज़रा नहीं
बारहा टूट कर भी  हूँ   बिखरा   नहीं
अब किसे है ख़बर क्या है सूद-ओ-ज़ियाँ
इश्क़ का ये नशा है जो  उतरा नहीं

शब्दार्थ
सूद-ओ-जियाँ = लाभ-हानि

आनन्द.पाठक
08800927181

बुधवार, 18 जनवरी 2017

उर्दू बह्र पर एक बातचीत : क़िस्त 20 [मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ात[

उर्दू बह्र पर एक बातचीत " क़िस्त 20 [मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ात]

[[Disclaimer Clause  : वही जो क़िस्त 1 में है]

 ----पिछली कड़ी में हम 4-मुरक़्क़ब ज़िहाफ़्  ख़ब्ल्......शक्ल्.......ख़रब्.......सरम्...... पर् चर्चा कर चुके हैं । अब कुछ और मुरक़्क़ब  ज़िहाफ़ात की चर्चा करेंगे

5-ज़िहाफ़ सतर : यह मिश्रित [मुरक़्क़ब] ज़िहाफ़ भी दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ ख़रम+ क़ब्ज़ से मिल कर बना है । मुज़ाहिफ़ को ’अस्तर’कहते हैं  और यह ज़िहाफ़ भी सदर/इब्तिदा से मख़्सूस है
चूँकि ख़रम का ज़िहाफ़ ’मफ़ा ईलुन’ से मन्सूब है। ’मफ़ा’ के मीम [सर-ए-वतद ] को गिराना -ख़रम कहलाता है अत: यह ज़िहाफ़ ’मफ़ाईलुन’ पर लगता है और् पाँचवें मुक़ाम् पर् जो साकिन् [सबब्-ए-ख़फ़ीफ़् का ] का गिराना क़ब्ज़् कहलाता है 
मफ़ा ई लुन् [12 2 2 ]+सतर् = फ़ा  इ लुन्  [2 12 ] यानी पहले मक़ाम् से ’मीम्’ गिरा दिया और् पाँचवें मुक़ाम् से ’ये’ [ई =ऐन्+ये] गिरा दिया तो बाक़ी बचा ’फ़ा इ लुन् [ऐन् मुतहर्रिक् है ] जिसे ’फ़ाइलुन्;[212] से बदल् लिया

6-ज़िहाफ़् ख़ज़्ल्  :-यह् भी  एक् मिश्रित् ज़िहाफ़ है जो मुफ़र्द [एकल] ज़िहाफ़ इज़्मार+तय्य के संयोग से बना है । मुज़ाहिफ़ का नाम  ’मख़्ज़ूल’ है  । यह आम ज़िहाफ़  है।
आप जानते है - ज़िहाफ़ इज़्मार का काम है सालिम रुक्न के सबब-ए-सकील  के  दूसरे स्थान पर जो मुतहर्रिक है]-को साकिन करना और ज़िहाफ़ तय्य का काम है सालिम रुक्न के सबब-ए-ख़फ़ीफ़ के चौथे स्थान पर हो-जो साकिन है को गिराना ।
अब यह सूरत सिर्फ़ एक ही सालिम रुक्न में ही सम्भव  [मुमकिन] है और वह  सालिम रुक्न है ’मु त फ़ा इलुन [1 1 2 12]= जिस में  मु त [1 1][सबब-ए-सकील]+फ़ा [2] [सबब-ए-ख़फ़ीफ़]+ इलुन [12] [वतद-ए-मज्मुआ] है
  मु त फ़ा इलुन [1 1 2 12] + ख़ज़्ल = मुत् फ़ इलुन् [ 2 1 12] यानी दूसरे मुक़ाम् पर् जो -त- [जो मुतहर्रिक् है] को साकिन् किया तो-त्-[साकिन्] बचा जो मीम् के साथ् मिल् कर् -मुत् [2] बना लिया । और् - फ़ा - [फ़े+अलिफ़] का अलिफ़ जो चौथे स्थान पर है -तय्य’ के अमल से गिरा दिया तो बचा फ़े [मुतहर्रिक वज़न 1] इस प्रकार अमल के बाद जो शेष रुक्न बची वो बची मुत् फ़ इलुन् [ 2 1 12 [ जिसे रुक्न् -मुफ़् त इलुन् से बदल् लिया 

7- ज़िहाफ़ क़सम :- यह मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ भी दो मुफ़र्द [एकल] ज़िहाफ़ असब+अज़ब से मिल कर बना है मुज़ाहिफ़ को ’अक़सम’ कहते है । यह ज़िहाफ़ भी सदर और इब्तिदा से मन्सूब है
आप जानते है कि ज़िहाफ़ ’असब’ का काम है सबब-ए-सक़ील के दूसरे मुत्तहर्रिक [जो किसी  सालिम रुक्न  के पांचवें मुक़ाम पर आता हो तो ] को साकिन करना 
और अजब का काम है वतद-ए-मज्मुआ के सर-ए-रुक्न को ’ख़रम’ करना यानी कहीं  ’मुफ़ा’ [वतद मज्मुआ ] आए तो मीम को गिराना ।आप अगर ग़ौर से देखें तो ’सबब-ए-सक़ील [2-हर्फ़ी] का हर्फ़-ए-दोयम पाँचवे मक़ाम पर तभी आयेगा जब कि इस के पहले वतद [3 हर्फ़ी] आता हो । और ऐसा बस एक ही रुक्न है -मफ़ा इ ल तुन’ [1 2 1 1 2] जो ये शर्त पूरी करता है
मुफ़ा इ ल तुन [12 1 1 2]+ क़सम = फ़ा इल् तुन् [ 2 2 2 ] यानी ज़िहाफ़् ’अज़ब्’ से मुफ़ा का ’मीम्’ गिरा दिया और् ज़िहाफ़् असब् से ’इ ल ’ [सबब्-ए-सक़ील्] के ’लाम’ को साकिन् कर् दिया तो बाक़ी बचा फ़ा इल् तुन् [2 2 2] जिसे रुक्न् ’मफ़् ऊ लुन्’ [2 2 2] से बदल लिया ।[इ ल [1 1]  सबब्-ए-सक़ील्  जब  इल् [2] हो जाता है तो सबब्-ए-ख़फ़ीफ़् का वज़न् देता है ]
8-ज़िहाफ़ जमम :-यह मुरक़्क़ब [ मिश्रित]ज़िहाफ़ दो मुफ़र्द [एकल] ज़िहाफ़ अज़ब+अक़्ल से मिल कर बना है । इस की मुज़ाहिफ़ शकल को ’अज़्म’ कहते हैं और यह ज़िहाफ़ भी शे’र में सदर/इब्तिदा से  मख़्सूस है 
  आप जानते हैं   [और जैसा  ऊपर लिख भी चुके हैं] कि अजब का काम है वतद-ए-मज्मुआ के सर-ए-रुक्न को ’ख़रम’ करना यानी कहीं  ’मुफ़ा’ [वतद मज्मुआ] आए तो ’मीम’ को गिराना । और ’ज़िहाफ़ ’अक़्ल’ का काम है -सबब-ए-सक़ील के मुतहर्रिक दोयम [यानी सबब-ए-सक़ील में दूसरे स्थान पर का मुत्तहर्रिक अगर पाँचवें स्थान पर आए तो ]---को गिराना है। हम यह भी जानते हैं कि यह स्थिति सिर्फ़ एक रुक्न में बन सकती है और वो रुक्न है-मुफ़ा इ ल तुन ; जिसम वतद-ए-मज्मुआ [3]+सबब-ए-सक़ील [2]+सबब-ए-ख़फ़ीफ़[2] आता है 
मुफ़ा इ ल तुन [12 1 1 2 ]+ जमम = फ़ा इ तुन [2 1 2] यानी मुफ़ा का ख़रम कर दिया यानी मीम गिरा दिया  तो बचा ’फ़ा’[2] और अक़्ल के अमल से ’इ ल ’ [सबब-ए-सक़ील ] का लाम गिरा दिया तो बचा खाली -इ[1] यानी मुज़ाहिफ़ रुक्न हो गई -फ़ा इ तुन [2 1 2] जिसे मानूस रुक्न ’फ़ाइलुन’ [212] से बदल लिया
 एक बार दोनो ज़िहाफ़ ’क़सम’ और ’जमम’ को ध्यान से देखें ---कोई फ़र्क़ नज़र आता है ? जी हाँ है फ़र्क़ । और वो फ़र्क़ है मात्र  हर्फ़-ए-सक़ील के हर्फ़-ए-दोयम मुतहर्रिक में । पहले केस में यह  ’साकिन’ करार पाता है जब कि दूसरे केस में यह ’साकित’ यानी गिरा दिया गया है 
चलते चलते एक बात और ---हम नौ मश्क़ शायर [यानी नवी नवी  शायर जो शायरी करते हैं ] तो 2122  1222  22  122 .....जैसे अलामत लगा कर शायरी करते है ..यह तरीक़ा शुरुआती दौर में तो काम कर जाता है मगर गहराईयों में उतरने  पर यह निज़ाम भी बहुत  कारगर नहीं होता  " देख कर नहीं बता सकते कि 1 की अलामत साकिन के लिए है या हरकत के लिए है जैसे 
इल  और इल्  दोनो ही सबब है  पहले का वज़न 1 1 है और दूसरे का वज़न 2 है ।पर जब -ल- मय हरकत होगा तब भी वज़न 1 से दिखाते है और जब -ल- मय साकिन होगा तब भी वज़न 1 से ही दिखाते हैं ।
मगर घबराइए नहीं------ फिर भी गिर्दान 1222  2122   2212....अलामत बहुत हद तक कारगर साबित होती है। यह बात तो मैने यूँ ही लिख दी--बात चली तो बात निकल आई
खैर ..अब अगले ज़िहाफ़ पर चलते है 

9- ज़िहाफ़ नक़्स : यह मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ भी दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ असब+कफ़्फ़ से मिल कर बना है इसके मुज़ाहिफ़ को -मन्क़ूस- कहते हैं
ज़िहाफ़ ’असब’ का काम तो आप ने ऊपर देख ही लिया है कि कैसे अमल करता है।ज़िहाफ़ असब का काम है अगर सालिम रुक्न में -सबब-ए-सक़ील के दूसरे मुत्तहर्रिक जो किसी  सालिम रुक्न  के पांचवें मुक़ाम पर आता हो तो उस को साकिन करना और ज़िहाफ़ कफ़्फ़ का काम है कि सालिम रुक्न में सबब-ए-ख़फ़ीफ़ का साकिन अगर ’सातवें’ मुक़ाम पर आता है तो उसको गिराना ।  ऐसी स्थिति -  एक ही रुक्न में आती है और वो वही रुक्न है --मुफ़ा इ ल तुन् [12 1 1 2] जो उपर लिखा है 
मुफ़ा इ ल तुन [12 1 1 2] +नक़्स  = मुफ़ा इ ल् तु [1 2 2 1] यानी पाँचवे मुक़ाम् पर् जो-ल- मुतहर्रिक् है -को साकिन् -ल्- करना और् सातवें मुक़ाम् पर् जो -न्- साकिन् है -को गिराना तो बाक़ी बचा मुफ़ा इल् तु [ 12 2 1]  यहां-तु [1] मय् हरकत् बचा
जिसे -मफ़ा ईलु [12 21] से बदल् लिया 
10- ज़िहाफ़्  अक़्स् :-यह् मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ दो  ज़िहाफ़  अज़ब+नक़्स से मिल कर बना है दूसरे शब्दों में आप यह भी कह सकते हैं कि यह 3-मुफ़र्द ज़िहाफ़ अज़ब+असब+कफ़ से मिल कर बना है  ,इसके मुज़ाहिफ़ का नाम ’अक़स’ है और यह ज़िहाफ़ भी शे’र के सदर/इब्तिदा मुक़ाम के लिए निर्धारित है
अजब का काम है वतद-ए-मज्मुआ के सर-ए-रुक्न को ’ख़रम’ करना यानी कहीं  ’मुफ़ा’ [वतद मज्मुआ ] आए तो मीम को गिराना और ज़िहाफ़ असब का काम है सबब-ए-सक़ील के मुतहर्रिक दोयम [जो किसी सालिम रुक्न के पाँचवे मुक़ाम पर आता हो] को साकिन करना और ज़िहाफ़ कफ़ का काम है सबब-ए-ख़फ़ीफ़ के साकिन [जो सालिम रुक्न के सातवें मुक़ाम पर आता हो] को गिराना ।अब ऐसी स्थिति तो सिर्फ़ एक ही सालिम रुक्न में हो सकती है और वो है -मुफ़ा इल तुन
मुफ़ा इ ल तुन् [12 1 1 2] + अक़्स = फ़ा इल् तु [2 2 1 यानी अज़ब् से मुफ़ा को ख़रम् किया यानी मीम् को गिरा दिया तो बचा -फ़ा’ ,ज़िहाफ़् असब् से चौथे स्थान पर जो [सबब-ए-सक़ील का ] -ल-मुतहर्रिक है को साकिन किया तो बचा -इ ल् - और् ज़िहाफ़् कफ़् से सातवें मुक़ाम पर जो नून साकिन है -को गिरा दिया तो बचा -तु-।इस प्रकार कुल मिला कर बाक़ी बचा --फ़ा इल् तु [2 2 1] जिसे रुक्न् -मफ़् ऊ लु [2 2 1] से बदल् लिया

11- ज़िहाफ़ क़तफ़ =यह मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ असब+हज़्फ़  से मिल कर बना है और मुज़ाहिफ़ को ’मक़्तूफ़’ कहते हैं और यह ज़िहाफ़ शे’र के मुक़ाम अरूज़ और जर्ब से मख़्सूस है
आप जानते है कि ज़िहाफ़ ’असब’ का काम है सबब-ए-सक़ील के दूसरे मुत्तहर्रिक जो किसी  सालिम रुक्न  के पांचवें मुक़ाम पर आता हो तो उस को साकिन करना और ज़िहाफ़ हज़्फ़ का काम है  सालिम रुक्न के  आख़िर में [अगर सबब-ए-ख़फ़ीफ़ आता हो तो ]  ’को गिराना । अब ऐसा रुक्न तो बस एक ही है -मुफ़ा इ ल तुन [1 2 1 1 2 ] यानी वतद[मुफ़ा]1 2  +सबब-ए-सक़ील[ इ ल ] 1 1  +सबब-ए-ख़फ़ीफ़ [तुन] 2 , जिस पर यह अमल हो सकता है
मुफ़ा इ ल तुन [12 1 1 2] + क़तफ़  = मुफ़ा इ ल् [ 12 2] यानी इ ल के लाम् को साकिन् कर् दिया तो बचा -ल्- और् हज़्फ़् से तुन् गिरा दिया तो  बचा  -मुफ़ा इल् [1 2 2] जिसे -फ़ऊलुन् [1 2 2] से बदल् लिया

12-ज़िहाफ़ ख़ल’अ = यह मुरक़्क़ब ज़िहाफ़  दो मुफ़र्द ज़िहाफ़  ख़ब्न+क़त’अ के संयोग से बना है  और मुज़ाहिफ़ का नाम -मख़्लू’अ-होगा और यह ज़िहाफ़ भी शे’र के अरूज़ और जर्ब के मुक़ाम से निर्धारित है 
आप जानते हैं कि ज़िहाफ़ ख़ब्न का काम है सबब-ए-ख़फ़ीफ़ [जो रुक्न के शुरु में आता हो तो  ] के हर्फ़-ए-साकिन को गिराना है और ज़िहाफ़ क़त’अ का काम है वतद-ए-मज़्मुआ [अगर रुक्न के आखिर में आता हो] को साकिन को गिराना और उससे पहले जो हर्फ़-ए-मुतहर्रिक है को साकिन करना } अब ऐसा रुक्न तो बस एक ही है जिसमे सबब-ए-ख़फ़ीफ़ शुरु[2]  में आता है और वतद मज़्मुआ रुक्न[21] के आख़िर में आता है और वो रुक्न है --मुस् तफ़् इलुन् [2 2 12]
मुस् तफ़् इलुन् [ 2 2 12] + ख़ल’अ = मु तफ़् इ ल् [1 2 2] यानी मुस् का -स्-गिरा दिया और इलुन् का -न्- गिरा दिया और् उस् से पहले जो मुतहर्रिक् -लु- है उसे साकिन् कर दिया तो बाक़ी बचा मु तफ़् इल् [1 2 2] जिसे मानूस् रुक्न् -फ़ऊलुन् [1 2 2] से बदल लिया  
13-ज़िहाफ़ नह्र =यह मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ जद्द’अ+कसफ़ से मिल कर बना है और मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मन्हूर्। यह ज़िहाफ़ भी शे’र के अरूज़ और जर्ब मुक़ाम से मख़सूस है
आप जानते हैं किसी रुक्न के शुरु  में 2-सबब-ए-ख़फ़ीफ़ लगातार आए तो इसको गिराना ’जद्द’अ कहलाता है और किसी रुक्न के आखिर में वतद-ए-मफ़रुक़ [हरकत+साकिन+हरकत] आए तो हरकत दोयम को गिरा देना ’कसफ़’कहलाता है । अब ऐसी स्थिति  तो सिर्फ़ एक ही रुक्न में होगी और वो रुक्न है -मफ़ ऊ लातु’ [बह्र-ए-मुक़्तज़िब का बुनियादी रुक्न]
मफ़ ऊ लातु 2 2 2 1]  + नह्र = ला [2] यानी ज़िहाफ़ जद्द’अ की अमल से दोनो सबब-ए-ख़फ़ीफ़ मफ़ और ऊ दोनो गिरा दिया और कस्फ़ के अमल से लातु का मुतहर्रिक -तु-गिरा दिया तो बाक़ी बचा -ला [लाम+अलिफ़] [2] इसे मानूस रुक्न फ़े’अ [2] यहाँ ऐन साकिन है  
14-ज़िहाफ़् सलख़ = यह् मुरक़्क़ब् ज़िहाफ़् दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ जब्ब+वक़्फ़ से मिल कर बना है और मुज़ाहिफ़ को -मस्लूख़्-कहते हैं 
आप जानते हैं कि ज़िहाफ़ ’जब्ब’ का काम है दो अस्बाब-ए-ख़फ़ीफ़ [जो किसी रुक्न के आख़िर में आते हों] को एक साथ गिराना और वक़्फ़ का काम है वतद-ए-मफ़रूक़ के मुतहर्रिक दोयम को साकिन करना 
तो ऐसी स्थिति सिर्फ़ एक सालिम रुक्न में आता है और वो रुक्न है -फ़ा’अ ला तुन [21 2 2 ] यानी बहर-ए-रमल  का बुनियादी रुक्न का मुफ़स्सिल शकल है
फ़ा’अ ला तुन [2 1 2 2] + सलख = फ़ा’अ [2 1] यहाँ -ऐन साकिन है । यानी ज़िहाफ़ जब्ब से दोनों  सबब-ए-ख़फ़ीफ़ [जो रुक्न के अन्त में है] -ला- और -तुन- गिरा दिया और फ़ा’अ [जिस में -ऐन- मुत्तहर्रिक है ] को साकिन कर दिया तो बचा -ऐन [साकिन] अत: बाक़ी बचा -फ़ा’अ [ बसकून-ए-ऐन ] [21]
15-ज़िहाफ़ दरस = यह मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ क़स्र+बतर से मिल कर बना है और मुज़ाहिफ़ का नाम है -मद्रूस् ।यह ज़िहाफ़ भी अरूज़ और जर्ब से मख़्सूस है
आप जानते है कि ज़िहाफ़ कस्र का काम है सबब-ए-ख़फ़ीफ़ [अगर रुक्न के आख़िर मे हो तो ] के हर्फ़-ए-साकिन को गिराना और उस से पहले के मुतहर्रिक को साकिन करना  और [अगर किसी रुक्न के आखिर में सबब-ए-ख़फ़ीफ़ हो और उस से पहले वतद-ए-मज्मुआ हो तब]  ज़िहाफ़ बतर का काम है -वतद-ए-मज्मुआ को गिराना 
ऐसी स्थिति तो निम्न रुक्न में बनती है फ़ा इला तुन  [ 2 12 2]
फ़ा इला तुन् [2 12 2] + दर्स = फ़ा त् [21] यानी ज़िहाफ़् कस्र् से तुन का -न-[नून] गिरा दिया और इस से पहले जो मुतहर्रिक -तु- है को साकिन कर दिया तो -त्- बचा और ज़िहाफ़ बतर से वतद -ए-मज्मुआ -इला- गिरा दिया तो बचा रह गया- फ़ा -और -त्- यानी  -फ़ा त् [2 1] जिसे मानूस् रुक्न् -फ़ा’अ [21] [बसकून्-ए-ऐन्] से बदल् लिया

16-ज़िहाफ़ जह = यह भी एक मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ है जो दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ बतर+हज़्फ़ से मिल कर बना है और मुज़ाहिफ़ का नाम है ---मजहूफ़
आप जानते हैं कि [अगर किसी रुक्न के आखिर में सबब-ए-ख़फ़ीफ़ हो और उस से पहले वतद-ए-मज्मुआ हो तब]ज़िहाफ़ बतर का काम है -वतद-ए-मज्मुआ को गिराना [
और [अगर सबब-ए-ख़फ़ीफ़ रुक्न के आख़िर में आता हो तो ] ज़िहाफ़ हज़्फ़ का काम है सबब-ए-ख़फ़ीफ़ को गिराना  सालिम रुक्न ’फ़ा इला तुन’ ही एक ऐसा सालिम् रुक्न् है जो यह शर्त पूरा  करता है
  फ़ा इला तुन [2 12 2 ] + जह्फ़ = फ़ा [2] यानी ज़िहाफ़ बतर की अमल से वतद-ए-मज्मुआ [ इला 1 2 ] गिरा दिया और ज़िहाफ़ हज़्फ़ की मदद से सबब-ए-ख़फ़ीफ़ -’ तुन’[2] गिरा दिया तो बाक़ी बचा ’फ़ा’ [2] जिसे मानूस रुक्न ’फ़े’अ [2]  [बसकून-ए-एन]से बदल लिया
17 ज़िहाफ़ रब्ब’अ = यह भी एक मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ है जो दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ ख़ब्न +बतर से मिल कर बना है और जिसके  मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मरबू’अ
आप जानते ही हैं कि ज़िहाफ़ खब्न का काम है सबब-ए-ख़फ़ीफ़ [जो रुक्न के शुरु में आता हो] का हर्फ़-ए-साकिन को  गिराना और  ज़िहाफ़ बतर का काम है -वतद-ए-मज्मुआ को गिराना [अगर किसी रुक्न के आखिर में सबब-ए-ख़फ़ीफ़ हो और उस से पहले वतद-ए-मज्मुआ हो तब] अब ऐसी शर्त तो सालिम रुक्न ’फ़ा इला तुन [2 12 2] में ही आती है 
फ़ा इला तुन [2 12 2] +रब्ब’अ = फ़ तुन् [1 2] यानी ज़िहाफ़ ख़ब्न के अमल से सबब-ए-ख़फ़ीफ़ -फ़ा[2] का अलिफ़ गिरा दिया तो बचा -फ़े- और बतर के अमल से -वतद-ए-मज्मुआ -इला- [12] गिरा दिया तो बाक़ी बचा तुन्-[2]
इस प्रकार बचा -फ़ तुन् [12] जिसे मानूस रुक्न -फ़ ’अल् [1 2] से बदल् लिया यहाँ -ल्- साकिन् है  और् ऐन् मय् हरकत् है  जो ’अ [ऐन+लाम् मिलकर ’अल्- [2] बना लिया सबब्-ए-ख़फ़ीफ़]
---------------------------------------
(क)    अभी मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ का ज़िक़्र ख़त्म  नहीं हुआ । ये तो मात्र उन ज़िहाफ़ात का ज़िक़्र ख़त्म हुआ जिनके मुरक़्क़ब का कोई नाम होता है । दो या दो से अधिक ज़िहाफ़ हैं  ऐसे हैं  जो किसी सालिम् रुक्न् पर् अलग् अलग् अमल् तो करते हैं मगर् उनका  कोई संयुक्त मुर्क़्क़ब नाम तो नहीं है,  परन्तु सालिम रुक्न के टुकड़ों पर one by one काम करते हैं ,अमल करते हैं और उनके मुज़ाहिफ़ नाम में इन दोनों मुफ़र्द ज़िहाफ़ का नाम शामिल कर लेते  हैं । मुफ़र्द [एकल] ज़िहाफ़ कभी भी हासिल-ए-मुज़ाहिफ़ पर नहीं लगाते यानी मुज़ाहिफ़ का मुज़ाहिफ़ नहीं होगा -उसूलन ये ग़लत होगा
(ख) ऐसा नहीं है कि मुज़ाहिफ़ पर ज़िहाफ़ नहीं लगते । लगते हैं --ज़रूर लगते है । उसके के लिए Exclusively दूसरा निज़ाम [व्यवस्था] है और इस व्यवस्था का नाम है
(i) तस्कीन-ए-औसत का अमल 
(ii) तख़्नीक़ का अमल 

  और् ये दोनो ज़िहाफ़ -मात्र मुज़ाहिफ़ रुक्न पर ही अमल करते है ......सालिम रुक्न पर अमल नहीं करते ।
बेहतर होगा कि इसकी चर्चा हम अलग से और विस्तार से किसी अगली क़िस्त में करें तो भ्र्म की गुंजाइश नहीं रहेगी और बात भी साफ़ साफ़ समझ में आ जायेगी।
(ग)   और भी बहुत से मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ है जिनका ज़िक़्र यहाँ पर मैने नहीं किया है  जो किसी भी अरूज़ की मुस्तनद [प्रमाणित] किताब में मिल जायेगी । हम ने तो मात्र उन्हीं ज़िहाफ़ात का ज़िक़्र किया है जो मानूस हैं और उर्दू शायरी में कसरत [बहुतायत] से प्रचलित [राइज़] है । एक बात तो तय हैं कि मुतक़्क़ब ज़िहाफ़ जो दो या दो से ज़्यादा एकल ज़िहाफ़ से मिल कर बना है उन तमाम एकल जिहाफ़ का ज़िक़्र और उनके तरीक़-ए-अमल पर चर्चा पहले ही कर चुका हूँ 
अगली कड़ी में ज़िहाफ़ात की चर्चाओं को एक जगह पर sum up करते हुए  ,कुछ अन्य विषयों पर चर्चा करूँगा जिससे  सुधी पाठक गण को विषय को दुहराने और समझने में सुविधा होगी ।    

--इस मंच पर और भी कई साहिब-ए-आलिम मौज़ूद हैं उनसे मेरी दस्तबस्ता [ हाथ जोड़ कर] गुज़ारिश है कि अगर कहीं कोई ग़लत बयानी या ग़लत ख़यालबन्दी  हो गई हो तो निशान्दिही ज़रूर फ़र्मायें ताकि मैं ख़ुद को  दुरुस्त कर सकूं ।बा करम मेरी मज़ीद [अतिरिक्त] रहनुमाई फ़र्माये ।मम्नून-ओ-शुक्रगुज़ार रहूँगा।

अभी नस्र के कुछ बयां और भी हैं..........
ज़िहाफ़ात् के कुछ निशां और भी हैं.....

एक बात बड़े ही अदब से एतराफ़ [स्वीकार] करता हूँ कि इन तमाम अक़्सात और तज़्क़िरात के लिए अपने आलिम अरूज़ी साहिबान  कमाल अहमद सिद्द्क़ी साहब , आलिम जनाब  सरवर आलम राज़ ’सरवर ’ साहब  ,मेरे  बड़े भाई अजीज  दोस्त डा0 आरिफ़ हसन ख़ान साहब  का तह-ए-दिल  से मम्नून-ओ-शुक्र गुज़ार हूँ जिनकी किताबों से  कुछ पढ़ सका ,समझ सका और लिख सका ।वगरना इस हक़ीर कि बिसात कहाँ  । इन तज़्क़िरात में  मेरा कुछ भी नहीं है बस साहिबान  के अरूज़ पर किए गए कामों का हिन्दी तर्जुमा समझिए........

[नोट् :- पिछले अक़सात  [क़िस्तों ]के आलेख [ मज़ामीन ]आप मेरे ब्लाग पर  भी देख सकते हैं 

www.urdu-se-hindi.blogspot.com
or
www.urdusehindi.blogspot.com
-आनन्द.पाठक-
0880092 7181

सोमवार, 16 जनवरी 2017

क्यों चुनते है हम अपराधिक छवि के नेताओं को?
राजनीति में अपराधिक छवि के लोगों का आना हम सब के लिए एक चिंता का विषय होना चाहिए, पर ऐसा है नहीं.
संसद के २०१४ के चुनाव के बाद, एक-तिहाई सदस्य ऐसे हैं जिन के विरुद्ध अपराधिक मामले हैं और इनमें से २१% तो ऐसे सदस्य हैं जिनके विरुद्ध गंभीर मामले हैं.
‘कार्नेगी इंन्डाउमेंट फॉर इंटरनेशनल पीस’ के ‘मिलन वैष्णव’ का मानना है कि लोग अपराधिक छवि के नेताओं को इस लिए चुनते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि ऐसे नेता उनके लिए कुछ कर पायेंगे, खासकर ऐसे प्रदेशों में जहां सरकारी तन्त्र थोड़ा कमज़ोर  हो चुका है.
मिलन वैष्णव की बात कुछ हद तक सही हो सकती है,  पर मेरा मानना है की हम भारतीयों को इस बात से कोई ख़ास फर्क नहीं पड़ता की जिस व्यक्ति को हम चुनकर लोक सभा या विधान सभा या पंचायत वगेरह में भेज रहे हैं उसका चरित्र कैसा है. न्याय की परिभाषा हमारी अपनी ही होती है जो समय और स्थिति के अनुरूप बदलती रहती है. क़ानून और व्यस्था में हमारा अधिक विश्वास नहीं है. दूसरे की सुख सुविधा की चिंता हम कम ही करते हैं.
हम जब सड़कों पर अपनी गाड़ियां दौड़ाते हैं तो इस बात की बिलकुल परवाह नहीं करते कि हमारे कारण दुर्घटना में किसी की जान भी जा सकती है. कुछ दिन पहले जारी की गयी रिपोर्ट के अनुसार २०१५ में लगभग ५ लाख सड़क दुर्घटनाएं घटी जिन में एक लाख सतहत्तर हज़ार लोगों ने जान गवाई, अर्थात हर एक घंटे में कहीं न कहीं बीस लोगों की सड़क दुर्घटनाओं में मृत्यु हुई.
यह एक भयावह स्थिति है पर कितने लोग हैं जो इस बात को लेकर चिंतित हैं. हम अब भी वैसे ही सड़कों पर अपनी गाड़ियां दौड़ाते हैं जैसे दौड़ाते आये हैं. अधिकतर लोग तो सड़क पर किसी को रौंद कर या आहत कर पल भर को रुकते भी नहीं और दुर्घटना स्थल से तुरंत भाग जाते हैं. कोई विरला ही वहां रुक कर ज़ख़्मी की सहायता करता है. 
इस देश में सिर्फ २४ लाख लोग ही मानते हैं कि उनकी आय दस लाख से अधिक है. यह एक हास्यास्पद बात ही है. एन सी आर में ही दस लाख रुपये कमाने वालों की संख्या शायद २४ लाख से अधिक हो.  सत्य तो यह है की लाखों-लाखों  लोग आयकर से बचने के लिए आयकर रिटर्न भरते ही नहीं या फिर झूठे और गलत रिटर्न भरते हैं.
अपने आस पास देख लें, आपको सैंकड़ों ऐसे घर दिखाई दे जायेंगे जो नियम-कानून की अवहेलना कर बनाये गए हैं या जिनमें नियमों के विरुद्ध फेर-बदल किये गए हैं.
सरकारी कार्यलयों में आपके कुछ ही लोग दिखेंगे जो अनुशासन का पालन करते हुए पुरी निष्ठा और लगन के साथ अपना काम करते हैं. अधिकतर तो बस समय काटते हैं या अपने पद का दुरूपयोग करते हैं.
ऐसे कितने ही उदाहरण आपको मिल जायेंगे जो दिखलाते हैं कि  नियम, व्यवस्था, अनुशासन को लेकर हमारा व्यवहार बहुत ही लचीला है. इस कारण हम लोगों को इस बात से कोई ख़ास फर्क नहीं पड़ता कि जिस व्यक्ति को हम अपना वोट दे रहें हैं वह एक अपराधी है या दल-बदलू है या उसका चरित्र संदेहास्पद है.

अगर ऐसा न होता तो इतनी बड़ी संख्या में अपराधिक छवि के लोग संसद, विधान सभाओं और दूसरी अन्य संस्थाओं के लिए न चुने जाते.  दोष राजनीतिक पार्टियों का उतना नहीं जितना नहीं हमारा है. हम अपने को दोषमुक्त मानने के लिए राजनीतिक दलों को दोषी ठहरा देतें हैं. इस कारण निकट भविष्य में स्थिति में किसी सुधार की आशा करना गलत होगा. 

बुधवार, 11 जनवरी 2017

उर्दू बह्र पर एक बातचीत : क़िस्त 19 [मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ात]

उर्दू बह्र पर एक बातचीत " क़िस्त 19 [मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ात]

[[Disclaimer Clause  : वही जो क़िस्त 1 में है]

----- पिछली  क़िस्तों में ,अब तक हम ’मुफ़र्द ज़िहाफ़’ का ज़िक़्र कर चुके है यानी वो एकल ज़िहाफ़ जो सालिम रुक्न पर अकेले और एक बार ही लगता है। मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ -दो या दो से अधिक ज़िहाफ़ - से मिल कर बनता है । कभी कभी इन मिश्रित [मुरक़्क़ब] ज़िहाफ़ का एक संयुक्त नाम भी होता है और कभी कभी नहीं भी होता है । कुछ ऐसे मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ के नाम लिख रहे है जिनके नाम होते है जैसे
1-ख़ब्ल =ख़ब्न +तय्य = मुज़ाहिफ़ नाम होगा- ’मख़्बूल’
2-शकल =ख़ब्न+कफ़्फ़ =मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मश्कूल
3-ख़रब =ख़रम+कफ़्फ़ = मुज़ाहिफ़ नाम होगा-अख़रब
4-सरम =सलम+क़ब्ज़ = मुज़ाहिफ़ नाम होगा-असरम
5-सतर =ख़रम+क़ब्ज़ =मुज़ाहिफ़ नाम होगा-असतर
6-ख़ज़ल =इज़्मार+तय्य =मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मख्ज़ूल
7-क़सम =असब+अज़ब  =मुज़ाहिफ़ नाम होगा-अक़्सम्
8-जमम =अज़ब+अक़ल =मुज़ाहिफ़ नाम होगा-अजम्
9-नक़्स =असब+कफ़्फ़ =मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मन्क़ूस्
10-अक़्स =अज़ब+नक़्स =मुज़ाहिफ़ नाम होगा- अक़स्
11-क़तफ़ =असब+हज़फ़ =मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मक़्तूफ़्
12-ख़ल’अ =ख़ब्न+क़त’अ = मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मख़्लू’अ
13-नहर =जद्द’अ+कसफ़=मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मन्हूर्
14-सलख़ =जब्ब+वक़्फ़ = मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मस्लूख़्
15-दरस =क़स्र+बतर = मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मद्रूस्
16-हज़फ़ =बतर+हज़्फ़ =मुज़ाहिफ़ नाम होगा-महज़ूफ़्
17-रब’अ =ख़ब्न +बतर = मुज़ाहिफ़ नाम होगा-मरबू’अ
 इसके अलावा ,कुछ मुरक़्क़ब  ज़िहाफ़ ऐसे भी हैं जिनका कोई संयुक्त नाम तो नहीं है पर अमल एक साथ करते हैं ।ऐसे ज़िहाफ़ात की चर्चा हम आगे करेंगे


------
1-इसके अलावा भी कभी कभी सालिम रुक्न पर 2-ज़िहाफ़ अलग-अलग लगते है उनका कोई एकल नाम तो नही है परन्तु बहर के नाम में उसे शामिल कर लेते हैं
जिसकी चर्चा बाद में करेंगे
2- ऊपर के लिस्ट में बाईं तरफ़ जो दो अलग अलग ज़िहाफ़ के नाम लिखे हैं उस के बारे में और उनके अमल के तरीक़ों के बारे में पहले ही सविस्तार चर्चा कर चुका हूँ । अब इनका रुक्न पर  "एक साथ" कैसे  अमल करेंगे देखेंगे
3- एक बात साफ़ कर दूं मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ रुक्न पर एक साथ अमल करते हैं ।यह नहीं  कि सालिम रुक्न के किसी टुकड़े पर एक ज़िहाफ़ का अमल करा दिया और मुज़ाहिफ़ रुक्न बरामद हो गई फिर मुज़ाहिफ़ रुक्न पर दूसरे ज़िहाफ़ का अमल कराया। यह उसूलन ग़लत होगा ।मुज़ाहिफ़ पर ज़िहाफ़ नहीं लगाते [ सिवा ’तस्कीन’ और तख़्नीक़’ के जिसकी चर्चा हम बाद में करेंगे।
 4- जब हम मुफ़र्द [एकल] ज़िहाफ़ का ज़िक़्र कर रहे थे तो देखा था कि मुफ़र्द ज़िहाफ़ सालिम रुक्न के किसी ख़ास टुकड़े पर [यानी सबब या वतद पर] ही लगता था और उन्हें श्रेणियों में exclusively  बाँट रखा था जैसे सबब-ए-ख़फ़ीफ़ पर लगने वाले ज़िहाफ़ , वतद-ए-मज्मुआ पर लगने वाले ज़िहाफ़ या सबब-ए-सकील पर लगने वाले ज़िहाफ़ वग़ैरह वग़ैरह ,परन्तु ऐसी श्रेणी विभक्ति ’मुरक़्क़ब ज़िहाफ़’ के case में नहीं किया जा सकता है ।कारण कि मुरक़्क़ब ज़िहाफ़ दो या दो से ज़्यादे मुख़्त्लिफ़ [विभिन्न] मुफ़र्द ज़िहाफ़ के combination से बने है जिनके असरात सालिम रुक्न के अलग अलग टुकड़ो [वतद या सबब] पर एक साथ होंगे अत: मुरक़्क़्ब ज़िहाफ़ as a singleton  किसी ख़ास टुकड़े से मख़्सूस नही किया जा सकता
5- आप् इतने मुफ़र्द् या मुरक़्क़ब् ज़िहाफ़ात् देख् कर् आप् घबड़ाईए नहीं ।अगर आप शायरी करते हैं तो इतने अर्कान और इतने ज़िहाफ़ात में उमीदन आप शायरी नहीं करते होंगे ।आप चन्द मक़्बूल अर्कान और चन्द मक़्बूल ज़िहाफ़त में ही करते होंगे।अत: आप को न तो सारे अर्कान [19] और न ही सारे ज़िहाफ़ात की ज़रूरत पड़ेगी। मुख़्तलिफ़ शायर के मुख़्तलिफ़ अर्कान पसन्ददीदा होते हैं और उन्हीं से मयार की शायरी करते है : अत: ज़िहाफ़ात ..ये क्या होते हैं ..ये कैसे बनते हैं .ये कैसे अमल करते हैं -- के बारे में जानने में क्या हर्ज है।
एक बात और
शे’र-ओ-सुख़न के दो पहलू हैं --एक तो यही ’अरूज़’ का पहलू  और दूसरा ;तग़्ग़ज़्ज़ुल का पहलू --एक दूसरे के पूरक हैं
अरूज़ के बारे में जानना तो मात्र  शायरी का ’आधा’ भाग ही जानना हुआ --औज़ान का...बहर का ...ज़िहाफ़ का ..तक़्ती’अ का जानना हुआ
शायरी की content ,भाव..कथन..असरात ,,तो मश्क़ से ही आती है यह तो फ़न है हुनर है...ख़ुदा  की ने’मत है
अगर दोनो पहलू एक साथ रहें तो फिर मयार की शायरी होगी ....अमर होगी ...सोने पे सुहागा होगा...सोने में सुगन्ध होगा।
  अब हम एक एक कर इन ज़िहाफ़ के अमल देखते हैं

ज़िहाफ़ ख़ब्ल :-यह ज़िहाफ़ दो ज़िहाफ़ के संयोग से बना है  खब्न + तय्य  और् मुज़ाहिफ़ को ’मख़्बूल्’ कहते है ।और यह् एक् आम् ज़िहाफ़ है ।हम ख़ब्न और तय्य के तरीक़ा-ए-अमल की चर्चा पिछली किस्त में कर चुके है। हम जानते हैं कि मुफ़र्द ज़िहाफ़ ख़ब्न और  मुफ़र्द ज़िहाफ़ तय्य .सबब-ए-ख़फ़ीफ़ पर लगते है जिसमे ज़िहाफ़् ख़ब्न् तो सबब्-ए-ख़फ़ीफ़् के दूसरे मुक़ाम् पर् और् ज़िहाफ़ तय्य सबब-ए-ख़फ़ीफ़ के चौथे मुकाम पर असर डालता है  तो यह मिश्रित ज़िहाफ़ ’ख़ब्ल ’ भी  बज़ाहिर ऐसे रुक्न पर लगेगा जो  -सबब[2]+सबब[2]+वतद [3] से बनता ऐसे 2-ही सालिम रुक्न है  मुस् तफ़् इलुन् [2 2 12] और् मफ़् ऊ लातु [2 2 21]

अब हम इस ज़िहाफ़ का अमल देखते हैं
मुस् तफ़् इलुन् [2 2 12] + ख़ब्ल्   = मु त इलुन् [ 1 1 12] यानी  खब्न् से दूसरे स्थान् पर  मुस् का साकिन् -स्- गिरा दिया और् तय्य् से   चौथे स्थान् का साकिन्-फ़्- गिरा दिया तो बाक़ी बचा ’मु त इलुन् [1 1 12]  जिसे मानूस् रुक्न् ’फ़ इ लतुन् [1 1 12] से बदल् लिया
मफ़् ऊ लातु [ 2 2 2 1 ]+ख़ब्ल्  = म अ लातु [1 1 21 ] यानी ख़ब्न् से दूसरे स्थान् मफ़् का  साकिन् -फ़्- और् तय्य् से चौथे स्थान् पर्  "ऊ’ का ’वाव्’ गिरा दिया तो बाक़ी बचा म ’अ [एन् ब हरकत्] लातु [ 1 1 2 1] जिसे मानूस् बहर् -फ़ इ लातु- से बदल् लिया
 जब् बहर रजज़ और बहर मुक़्तज़िब की चर्चा करेंगे तो वहाँ भी इन ज़िहाफ़ की चर्चा करेंगे कि कैसे ये ज़िहाफ़ बहर की रंगारंगी में योगदान करते हैं

 ज़िहाफ़् शकल् : यह् ज़िहाफ़् दो ज़िहाफ़् के संयोग् से बना है ख़ब्न् और् कफ़् से। और् मुज़ाहिफ़् को -मश्कूल् -कहते हैं ।और यह एक आम ज़िहाफ़ है ।हम ख़ब्न और कफ़् के तरीक़ा-ए-अमल की चर्चा पिछली किस्त में कर चुके है।ज़िहाफ़ खब्न् , सबब्-ए-ख़फ़ीफ़् के दूसरे मुक़ाम पर अमल करता है जब कि ज़िहाफ़ कफ़ सबब-ए-ख़फ़ीफ़ के ’सातवें ’ मक़ाम पर अमल करता है }बज़ाहिर यह उन्ही रुक्न में संभव है जो -सबब[2] +वतद[3]+सबब[2] से बनता है और ऐसे रुक्न 2 है जैसे ’फ़ा इला तुन्’ और मुस् तफ़्’अ इलुन् [ मुस तफ़् इलुन् की मुन्फ़सिल् शकल्] जिसमे ज़िहाफ़् खब्न् और् कफ़् लग् सकता है
 फ़ा इला तुन् [2 12 2] + शकल्  = फ़ इला तु [1 12 1] यानी  ज़िहाफ़् ख़ब्न् के अमल् से फ़ा [सबब्-ए-ख़फ़ीफ़् का अलिफ़्] और् ज़िहाफ़् कफ़् की अमल् से सातवें मुक़ाम पर् सबब्-ए-ख़फ़ीफ़् का -न्- को गिरा दिया ,बाक़ी बचा -फ़् इला तु [ 1 12 1]
मुस् तफ़्’अ लुन् [ 2 21 2] +शकल् = मु तफ़्’अ लु [ 1 21 1] यानी ज़िहाफ़् ख़ब्न् से मुस् का -स्-[जो दूसरे मुक़ाम् पर् है  और् ज़िहाफ़् कफ़् लुन् का -न्- [जो सातवें मुक़ाम् पर् है] गिरा दिया तो बाक़ी बचा  मु तफ़्’अ लु [ 121 1] जिसे मफ़ाइलु [12 11] [एन् -ब हरकत्] दे बदल लिया

ज़िहाफ़ ख़रब : यह ज़िहाफ़ दो ज़िहाफ़ -ख़रम+कफ़्फ़ के संयोग से बना है -और मुज़ाहिफ़ को ’अख़रब’ कहते है हम जानते हैं कि ’ख़रम’  वतद [ वतद-ए-मज्मुआ ] पर लगता है और इस का काम है वतद के सर को क़लम करना यानी गिराना और ’कफ़’ का काम है सातवें मक़ाम पर जो सबब-ए-ख़फ़ीफ़ का साकिन है गिराना । और यह तभी मुमकिन है जब रुक्न -वतद [3] +सबब[2]- सबब[2] से बना हो । और 8-सालिम रुक्न में से मात्र 1-रुक्न ही ऐसा है जिसमे यह निज़ाम पाया जाता है
और वह  है----मुफ़ा ई लुन [12 2 2] =वतद+सबब+सबब
मुफ़ा ई लुन [12 2 2 + खरब   =  फ़ा ई लु [2 2 1] यानी मुफ़ा जो वतद-ए-मज्मुआ है का सर ’मु’ [मीम] का ख़रम कर दिया  तो बचा ’फ़ा’ और सातवें  मुक़ाम पर सबब-ए-ख़फ़ीफ़ का  नून साकिन है गिरा दिया तो बाक़ी बचा ई लु [यानी लाम  मय हरकत]
तो हासिल हुआ ’फ़ा ई लु [2 2 1] इसे रुक्न मफ़ऊलु [2 2 1] से  बदल लिया यह् ज़िहाफ़् शे’र् के सदर् और् इब्तिदा के मुक़ाम् पर लगते हैं

ज़िहाफ़ सरम : यह भी एक मुरक़्क़ब [मिश्रित] ज़िहाफ़ है जो दो मुफ़र्द ज़िहाफ़ [एकल] सलम+ क़ब्ज़ से मिल कर बना है ।मुज़ाहिफ़ को ’असरम’कहते हैं। [ वतद मज्मुआ] के सर-ए-वतद को गिराना यानी ख़रम करना ही ’फ़ऊलुन; के केस में सलम कहलाता है और सबब-ए-खफ़ीफ़ के पाँचवें मुक़ाम से हर्फ़-ए-साकिन को गिराना क़ब्ज़ कहलाता । यह स्थिति तभी बन सकती है जब रुक्न में -वतद-ए-मज्मुआ[3]+ सबब-ए-ख़फ़ीफ़ [2] से बना है  और 8-सालिम रुक्न में से 1-ही रुक्न ऐसा है जिसमें यह निज़ाम है और वह है ’फ़ऊलुन’
फ़ऊलुन् [12 2 ]+ सरम् = ऊ लु [21] यानी ख़रम् के अमल् से -मफ़ा [12] वतद् मज्नुआ का ’फ़े’ और् क़ब्ज़् के अमल् से पाँचवें मुक़ाम् पर् का साकिन् -नून्-[न्] गिरा दिया तो बाक़ी बचा -ऊलु [लाम् मय् हरकत्] जिसे रुक्न् -फ़’अ लु [लाम् मय् हरकत्] से बदल् लिया । यह् ज़िहाफ़् शे’र् के सदर् और् इब्तिदा के मुक़ाम् पर लगते हैं

इस सिलसिले के  बाक़ी ज़िहाफ़ात की चर्चा  अगली क़िस्त में करेंगे....

--इस मंच पर और भी कई साहिब-ए-आलिम मौज़ूद हैं उनसे मेरी दस्तबस्ता [ हाथ जोड़ कर] गुज़ारिश है कि अगर कहीं कोई ग़लत बयानी या ग़लत ख़यालबन्दी  हो गई हो तो निशान्दिही ज़रूर फ़र्मायें ताकि मैं ख़ुद को  दुरुस्त कर सकूं ।बा करम मेरी मज़ीद [अतिरिक्त] रहनुमाई फ़र्माये ।मम्नून-ओ-शुक्रगुज़ार रहूँगा।

अभी नस्र के कुछ बयां और भी हैं..........
ज़िहाफ़ात् के कुछ निशां और भी हैं.....


[नोट् :- पिछले अक़सात के आलेख आप मेरे ब्लाग पर  भी देख सकते हैं 

www.urdu-se-hindi.blogspot.com
or
www.urdusehindi.blogspot.com
-आनन्द.पाठक-
0880092 7181

सोमवार, 9 जनवरी 2017

ओम पूरी ने अगर कहीं ओर जन्म लिया होता?
गोविन्द निहालनी के निर्देशन में बनी फिल्म ‘आक्रोश’ देखकर मैं आश्चर्यचकित हो गया था. सबसे चौंकाने वाला था ओम पूरी का अभिनय; लगभग सारी फिल्म में ओम पूरी का एक भी डायलाग नहीं है पर इसके बावजूद उनका अभिनय देखने वाले को झकझोड़ देता है.
उस दिन मन में एक प्रश्न उठा, ‘क्या और अभिनेता है  जो ऐसा अभिनय करने की क्षमता रखता है?’ आज भी जब उस किरदार के विषय में सोचता हूँ तो वह प्रश्न सामने खड़ा हो जाता है.
ओम पूरी ने अभिनय करने की अपनी विलक्षण प्रतिभा का भरपूर प्रदर्शन कई फिल्मों में किया. ‘अर्ध सत्य’ का अनंत वेलेंकर और ‘जाने भी दो यारो’ का आहूजा ऐसे ही दो यादगार किरदार हैं जिन्हें ओम पूरी ने बड़ी सफलता के साथ निभाया था और देखने वालों को मंत्रमुग्ध कर दिया था.  
पर ओम पूरी कभी सुपर स्टार नहीं बन पाये. उन्हें लोगों ने कभी भी उतना सम्मान नहीं दिया जितना वह उन सुपर स्टारों को देतें हैं जिन में अभिनय करने की क्षमता बहुत सीमित है. अगर ओम पूरी जी ने किसी और देश में जन्म लिया होता तो वह अपनी इस प्रतिभा के कारण कब के एक सुपर स्टार बन गए होते. ओम पूरी किसी भी तरह Robert De Niro  या Al Pacino से कम योग्य नहीं थे पर ओम पूरी को अपने देश में वैसा स्थान कभी नहीं मिला जैसा उन दो कलाकारों को अपने देश में मिला है. 
यह विचार करने की बात है कि हम अकसर अतिसामान्य लोगों को सर आँखों पर बैठा लेते हैं और प्रतिभाशाली लोगों की अवहेलना कर देते हैं. आडम्बर हमें सम्मोहित कर देता है और सादगी का हम अपमान कर देते हैं. अपराधियों को हम सत्ता सौंप देते हैं और सीधे-सच्चे लोगों को पीछे धकेले देते हैं. ईमानदारी हमें कष्टकारक लगती है झूठ का रास्ता हमें सरल लगता है.
जिस समाज के लिए सत्य सिर्फ एक नारा भर हो उस समाज में प्रतिभा को रास्ते में खड़े हो कर बिकना ही होगा, सम्मानित तो बस वह होगा जिस के पास प्रतिभा का मोल लगाने का सामर्थ्य होगा.