मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 1 मार्च 2018

होली पर एक भोजपुरी गीत---

होली पर एक ठे भोजपुरी गीत रऊआ लोग के समने--अशीरवाद चाही ]
होली पर सब मनई लोगन के हमार बधाई बा
--------होली पर एक भोजपुरी गीत-----------

कईसे मनाईब होली ? हो राजा !
कईसे मनाईब होली ........
आवे केS कह गईला अजहूँ नS अईला
न ’एसमसवे" भेजला नS पइसे पठऊला
पूछा नS कईसे चलाईला खरचा-
तोहरा का मालूम? परदेसे रम गईला
कईसे सजाईं रंगोली , हो राजा !
कईसे सजाईं रंगोली......
मईया के कम से कम लुग्गा तS चाही
’नन्हका’ छरिआईल बा जूता तS चाही
मँहगाई मरले बा कि आँटा बा गीला-
’मुनिया’ कs कईसे अब लहँगा सियाई ?
कईसे सियाईं हम चोली ? हो राजा !
कईसे सियाईं चोली....
’रमनथवा’ मारे ला रह रह के बोली
’कलुआ’ मुँहझँऊसा करेला ठिठोली
पूछेलीं गुईयां सब सखियाँ सहेली
अईहैं नS ’जीजा’ का अबकीओ होली?
खा लेबों जहरे कS गोली, हो राजा !
खा लेबों जहरे कS गोली........
अरे! कईसे मनाईब होली हो राजा..कैसे मनाईब होली
-आनन्द.पाठक
एसमसवे = S M S ही

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-03-2017) को "जला देना इस बार..." (चर्चा अंक-2897) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी बहुत बहुत धन्यवाद आप का

      होली की हार्दिक शुभकामनाएं~---सादर

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (02-03-2017) को "जला देना इस बार..." (चर्चा अंक-2897) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    रंगों के पर्व होलीकोत्सव की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं