मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 20 जनवरी 2019


एक लघु कथा
यह तीसरी लड़की है जो तुमने पैदा की है.  इस बार तो कम से कम एक लड़का जन्मती,’ उसकी आवाज़ बेहद सख्त थी.
एक कठोर, गंदी अंगुली शिशु को टटोलने लगी; यहाँ, वहां. भय  की नन्ही तरंग शिशु के नन्हें हृदय में उठी और उसे आतंकित करती हुई कहीं भीतर ही समा गई. अपने-आप से संतुष्ट अंगुली हंस दी.
सब जानते हुए भी, अपने में सिकुड़ी हुई, माँ मुंह फेर कर लेटी रही. ऐसा हर बार हुआ था. अपनी सिसकियाँ दबाने के अतिरिक्त उसके पास कोई विकल्प नहीं था.
दिन बीते और हर बीते दिन के साथ घृणा और आतंक की लहरें भी बढ़ती गईं. हर दिन बच्ची को लगता कि वह प्राणहीन होती जा रही थी. पर अंगुली की कामुकता थी कि बढ़ती ही जा रही थी.
आज बच्ची का सोलहवाँ जन्मदिन था, वह सहमी हुई थी. उसने माँ की ओर देखा. माँ की आँखें शुष्क और सूनी थीं. उसके आंसू तो कब के खत्म हो चुके थे, सिसकियाँ निर्जीव हो चुकीं थीं.
जैसे ही क़दमों की आहट बच्ची की ओर आने लगी, भयभीत सी  वह अपने में सिमट गई. उसे लगा की उसकी बहनें कितनी भाग्शाली थीं, उन्हें इतने जन्मदिन सहने न पड़े थे.

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (21-01-2019) को "पहन पीत परिधान" (चर्चा अंक-3223) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    जवाब देंहटाएं