मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 17 जुलाई 2017

दिल्ली से चेन्नई : एक लम्बी ट्रेन यात्रा

दिल्ली से चेन्नई : एक लम्बी ट्रेन यात्रा



4 महीने से जिस दिन का इंतज़ार कर रहा था आख़िरकार वो दिन आ गया। आज रात 10 बजे तमिलनाडु एक्सप्रेस से चेन्नई के लिए प्रस्थान करना था। मम्मी पापा एक दिन पहले ही दिल्ली पहुंच चुके थे। यात्रा की सारी तैयारियां भी लगभग पूरी हो चुकी थी। मैं सुबह समय से ऑफिस  के लिए निकल गया। चूंकि ट्रेन रात में 10:30 बजे थी इसलिए ऑफिस से भी समय से पहले निकलने की कोई जल्दी नहीं थी, पर ये घुम्मकड़ मन कहाँ मानता है और 4 बजे ही ऑफिस से निकल गया। घर आकर तैयारियों का जायजा लिया और बची हुई तैयारियों में लग गया। 7 बजे तक सब कुछ तैयार था, बस अब जाते समय सामान उठाकर निकल जाना था। साढ़े सात बजे तक सब लोग खाना भी खा चुके और 9 बजने का इंतज़ार करने लगे। अभी एक घंटा समय हमारे पास बचा हुआ था और इस एक घंटे में मेरे मन में अच्छे-बुरे खयाल आ रहे थे, अनजान जगह पर जहाँ भाषा की समस्या सबसे ज्यादा परेशान करती है उन जगहों पर पता नहीं क्या क्या समस्या आएगी। इसी उधेड़बुन में कब एक घंटा बीत गया पता नहीं चला।


8:30 बज चुके थे और अब हम घर से निकलने के लिए तैयार हुए। पहली समस्या यहाँ से नई दिल्ली तक पहुंचने की थी। मेट्रो में इस समय इतनी भीड़ होती है कि सपरिवार यात्रा करना आसान काम नहीं था। ऑटो से जाने पर 2 ऑटो चाहिए वो भी दिक्कत वाली बात थी। अब ये तय किये कि जिंदगी में पहली बार ओला कैब से सफर किया जाये और झट ओला कैब का ऐप डाउनलोड किया और उसके बाद घर से निकल लिए। ठीक 9 बजे घर से निकले और मुख्य सड़क पर जाकर ओला कैब बुक किया तो नई दिल्ली का किराया 178 रुपये दिखा रहा था मैंने झट से कैब बुक किया। कुछ देर में कैब आ गयी हम सब बैठ गए और ठीक 10 बजे नई दिल्ली स्टेशन पहुंच गए। प्लेटफार्म पर जाते जाते 10:15 बज चुके थे। वहां गया तो देखा कि ट्रेन प्लेटफॉर्म पर पहले से ही मेरा इंतज़ार कर रही थी। हम 5 लोग थे और सीट भी इस बार बहुत तरीके से मिली थी और केवल इस ट्रेन में ही नहीं, इस समूची यात्रा में जितने भी टिकट थे सब एक ही तरह से था। 5 सीटों में लोअर, मिडिल, अपर, साइड लोअर और साइड अपर बर्थ थी और किसी दूसरे से कोई मतलब नहीं जब मर्ज़ी सो जाओ और जब मर्ज़ी बैठो। ठीक 10:30 बजे ट्रेन नई दिल्ली से चेन्नई के लिए रवाना हो गई। कुछ ही देर में ट्रेन हज़रत निजामुद्दीन स्टेशन को पार कर गई।

पूरा विवरण पढ़ने के लिए  यहाँ क्लिक करें

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें