मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 8 मार्च 2019

अकेली नहाती लड़की

भीषण ग्रीष्म
धरती छूकर जलते पैर
बड़ी कठीनाई से पहुचता था
बिना चप्पलों के
तालाब के किनारे
उस पेड़ के नीचे ।
एक गौरैया गर्मी से बेहाल
किनारे पानी में
हो रही थी लोटपोट।
फिर पानी से बाहर रही थी फूदक ।
फरफरा रही थी पंख
झाड़ रही थी पांखों की बूंदें
अल्हड़ता के साथ
आसपास से अनभिग
व स्वयं में तल्लीन।
स्मरण हो आया वो अरसा अचानक
चक्र उस घटनाओ का
देखकर सहसा
तालाब में
अकेली नहाती लड़की
व झटक कर झाड़ती बालों से बूंदे ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें