मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 7 अगस्त 2016

🌹 तन्हाई 🌹

(एक किसान के जीवन में) 

जीवन सरीता में,  
                       डोले मेरी नैया क्युँ ?

तुमको हैं ,सुख का सागर, 
         मुझे खुशियों से किनारा क्युँ ?

धुप से लड़ता,मै,
                     रज कण बहाता हूँ |

तन चंदन घिसकर, 
           अस्तित्व तिलक लगता हूँ |

   देता सबको उजाला मैं, 
                मेरे जीवन में अंधियारा क्युँ |

जीवन सरीता मे, 
              डोले मेरी नैया क्युँ |

तुमको हैं सुख का सागर, 
           मुझे खुशियों से किनारा क्युँ |

मेरी तन्हाई की धरती पर, 
                      कहते हो तुम ,सुख की बरखा हो |

जब सब साथ है तुम्हारे, 
                                क्यो तुम घबराते हो ?

जब तुम थे ,साथ हमारे तो, 
                              जिंदगी मैने ठुकराई क्युँ ??

जीवन सरिता में ,
                           डोले मेरी नैया क्युँ ??

तुमको हैं सुख का सागर, 
                   मुझे खुशियों से किनारा क्युँ?? 

आँखों की बेटी से,
                  हुई   दुःख की सगाई है | 

सूख चले हैं आँसू, 
             आँखों में बसी बस अब तन्हाई है |

तन्हाई की दुनियां में, ए मालिक, 
                         मेरी बस्ती बसाई क्युँ ?

जीवन सरीता मे ,
              डोले मेरी नैया क्युँ ??

तुमको हैं सुख का सागर, 
         मुझे खुशियों से किनारा क्युँ ??

                     जी. एस. परमार 
........................9179236750.............
प्रतीक... 

तन चंदन घिसकर.... कड़ी मेहनत से 
अस्तित्व तिलक...... जीवित रहना 
म. उजाला...........        अन्न 
अंधेरा......... गरीबी 
जिंदगी ठुकराना.  .....आत्महत्या 
आँखों की बेटी...... आँसू 
............................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें