मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

प्रेम - एक शाश्वत सत्य !

जल  को
मछलीयों बतखों से
था प्रेम
तथापि पाल रखे थे उसने
शार्क व्हेल और घड़ियाल

वायु को 
विविध गंधो  और
सुगंधों से
था प्रेम
तथापि पाल रखे थे उसने
दुर्गंधों के जाल


आकाश को
 सैकड़ों सूर्यों से
 उल्का पिंडों से
 था प्रेम
तथापि
उसमें पल रहे  है अगणित
 सौर्य मंडलों  की माल

और
परम  ब्रह्म  को
अग्नि जल
वायु पृथ्वी और
आकाश से था  अगाध प्रेम
क्योंकि
उससे उद्भव हुए थे
शक्ति और महाकाल !!

जैसा कि होना था,
पृथ्वी  को
तमाम पशुओं  से
पंछियों से
था  अगाध प्यार
यद्यपि पालना पड़ा  उसे भी
मनुष्य सा इक काल !

2 टिप्‍पणियां: