मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 8 मई 2015

कुमार विश्वास से बकवास तक की यात्रा

कुमार विश्वास से बकवास तक की यात्रा 

'आप ' पार्टी के कुमार विश्वास आजकल चर्चा -कुचर्चा में हैं। चर्चा में रहना उन्हें बाखूबी आता है। मसलन स्वयं पर टमाटर अंडे फिंकवाना उनका मौलिक अभ्यास हो गया है। यहां तक के मुंह पे स्याही पुतवा लेना भी उनके शौक में शामिल है। दरअसल 'आप '  पार्टी के अराजक कहे जाने वाले लोगों ने ऐसी ऐसी हरकतें की हैं कि लोगों में उनकी विश्वसनीयता खत्म हो गई है। अब जनसामान्य की दृष्टि में कुमार विश्वास ,कुमार बकवास हो गए हैं। हम तो नहीं चाहते कि उनका ऐसा यश फैले पर किस्से इस तरह से फैलते हैं तो बहुत सारी पर्तें खुलतीं हैं।

जिस मुस्लिम महिला ने खुद को बदनाम किये जाने को कुमार विश्वास से जोड़ा है उसकी मांग मात्र इतनी है कि इस मामले में सार्वजनक खंडन करके उनकी टूटती पारिवारिक ज़िंदगी को बचा लें क्योंकि उनके शौहर ने बदनामी की वजह से उस महिला को घर से बाहर कर दिया है। उस महिला के दो बच्चे हैं जिन पर इस तरह की परेशानी में पड़ जाने वाली महिला ने यदि कुमार विश्वास से ये अपेक्षा की है कि वह ऐसी बातों का खंडन करें खासकर तब जब वह कुमार विश्वास के चुनाव के दौरान अमेठी में उनके पक्ष में वहीँ रहकर प्रचार कर चुकीं हैं।

अब इन सब बातों को देखते हुए कुमार विश्वास का मीडिया कर्मियों पर झल्लाना समझ से परे है। मीडियाकर्मी महिलाओं से यह कहना कि तुम्हारे घर में बहन बेटियां नहीं हैं ये तो विश्वास की भाषा नहीं है। शायद इसी वजह से लोगों ने उन्हें कुमार बक़वास कहना शुरू कर दिया है। पता नहीं माँ बाप ने उनका नाम विश्वास कुमार रखा होगा पर शीर्षासन करके वे कुमार विश्वास हो गए। पर विश्वास से बकवास तक की यात्रा लोक मन को भी दुःख देती है।

जब उस महिला के पति महिला आयोग में हाज़िर होकर अपनी बात कह चुके हैं तो उस कुमार विश्वास को क्या दिक्कत है कि वह उस महिला  से अपने कथित संबंधों को सार्वजनिक खंडन करे। सार्वजनक जीना जिस पर वैयक्तिक नैतिकता की खाल ओढ़ना ये लोक मन को स्वीकार नहीं। हमें इस बात का दुःख है कि स्वयं को कुमार बकवास कहे जाने के औचित्य को वे सिद्धांत का जामा पहना रहे हैं। लोकापवाद का निराकरण बहुत ज़रूरी है।

She Calls Me 'Bhaiya', Says AAP's Kumar Vishwas, Blames BJP for Defamation
The Delhi Commission for Women has summoned prominent Aam Aadmi Party leader Kumar Vishwas and his wife on a complaint by a woman volunteer of his party, who wants him to make a public clarification that they were not in an "illicit relationship" whi...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें