मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 14 मई 2016

लहू का दोष  
सुनो,
रुको/सुनो,
सड़क पर, गली में, नाली के अंदर
बहता यह लहू
अगर तुमको दिखाई नहीं देता
तो इस लहू का ही दोष होगा,
शायद यह लहू रंगहीन होगा.
पर देख सकते हो तो देख लो
यह छलनी सीना
यह कुचली देह
यह फूटा सिर.
रुको और देख लो,
यह सब अभी इसी पल,
कौन जाने कब किस पल
ऐसा ही कुछ
तुम्हारे साथ भी घट जाये.
तुम्हें बहता लहू दिखाई नहीं देता
लहू से सने हाथ दिखाई नहीं देते
अँधेरे को चीरती चीखें सुनाई नहीं देतीं
तो यह तुम्हारा दुर्भाग्य ही है
क्योंकि यह सब यहीं हैं
जैसे मृत्यु यहीं है
यह सब तुम्हारी ओर बढ़ रही हैं
जैसे मृत्यु तुम्हारी ओर बढ़ रही है,
हर पल, हर क्षण.
सुनो,
कोई चिल्लाया
शायद किसी कंस ने
किसी नवजात को मार गिराया.
सहमो मत
सहमा हुआ व्यक्ति
बहुत धीरे मरता है
और
एक दुखदायी मौत ही मरता है.
रुको और लौट आओ,  
लौट आओ
और भिगो लो अपने हाथ
इस बहते लहू में
अभी इसी क्षण.
फिर शायद
तुम भयभीत न रहो
फिर शायद
तुम्हें दिख जाये
बहता लहू
लहू से सने हाथ
हाथों में खंजर .
फिर शायद
तुम्हारे हाथों में
जुम्बिश आ जाये
और तुम्हारा लहू
सड़क पर, गली में, नाली के अंदर
बहते इस बैरंग लहू में
रंग ले आये.   
(कई वर्ष पुरानी घटना है. एक पत्रकार और उसकी पत्नी को किसी नेता के गुंडों ने पीछा कर मारा और अंततः उनकी हत्या कर दी. लोग बस चुपचाप देखते रहे. कोई उनकी सहायता के लिए आगे न आया. उस घटना के वर्णन ने मुझे बहुत बैचेन किया था और मैंने यह कविता लिखने का प्रयास किया था. ऐसी घटनायें लगातार घट रही हैं पर हम कुछ सुन. देख नहीं पा रहे)


© आइ बी अरोड़ा 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें