मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 7 फ़रवरी 2014

गजल

जब से दौलत हमारा निशाना हुआ
तब से ये जिंदगी कैद खाना हुआ ।

पैसे के नाते रिश्‍ते दिखे जब यहां
अश्‍क में इश्‍क का डूब जाना हुआ ।

दुख के ना सुख के साथी यहां कोई है
मात्र दौलत से ही जो यराना हुआ ।

स्वार्थ में कुछ भी कर सकते है आदमी
उनका अंदाज अब कातिलाना हुआ ।

गैरो का ऊॅचा कद देखा जब आदमी
छाती में सांप का लोट जाना हुआ ।

रेत सा तप रहा बर्फ सा जम रहा
जब से गैरों के घर आना जाना हुआ ।

जो खुदा सा इबादत करे पैसो का
या खुदा आपका मुस्कुराना हुआ ।

हाथ फैलाये आना औ जाना है
अब दो गज का ही तो आशियाना हुआ ।
--------------------------------

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 08/02/2014 को लिंक की जाएगी............... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    कृपया पधारें ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (08-02-2014) को "विध्वंसों के बाद नया निर्माण सामने आता" (चर्चा मंच-1517) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो खुदा सा इबादत करे पैसो का
    या खुदा आपका मुस्कुराना हुआ ।

    हाथ ।फैलाये आना औ जाना है
    अब दो गज का ही तो आशियाना हुआ ।

    बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं