मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 24 सितंबर 2014

ईशोपनिषद के प्रथम मन्त्र के द्वितीय भाग ..”तेन त्यक्तेन भुंजीथा..." का काव्य-भावानुवाद...... डा श्याम गुप्त.....



ईशोपनिषद के प्रथम मन्त्र  के द्वितीय भाग ..तेन त्यक्तेन भुंजीथा..." का काव्य-भावानुवाद...... 

सब कुछ ईश्वर की ही माया
तेरा मेरा कुछ भी नहीं है |
जग को अपना समझ न रे नर !
तू तेरा सब कुछ वह ही है |

पर है कर्म-भाव आवश्यक,
कर्म बिना कब रह पाया नर |
यह जग बना भोग हित तेरे,
जीव अंश तू, तू ही ईश्वर |

उसे त्याग के भाव से भोगें,
कर्मों में आसक्ति न रख कर|
बिना स्वार्थ, बिन फल की इच्छा,
जो जैसा मिल जाए पाकर |

कर्मयोग है यही, बनाता -
जीवनमार्ग सहज, शुचि, रुचिकर |
जग में रहकर भी नहिं जग में,
होता लिप्त कर्मयोगी नर |

पंक मध्य ज्यों रहे जलज दल,
पंक प्रभाव न होता उस पर |
सब कुछ भोग-कर्म भी करता,
पर योगी कहलाये वह नर ||








4 टिप्‍पणियां:

  1. THE FIRST ALPHABET OF ISHAWARA IS I ,i.e ME THE SELF .THE FIRST TWO LETTERS "IS"

    MEANS ALL ISNESS BELONGS TO THE GOD .

    ये संसार ईश्वर का है तेरा तो तू भी नहीं है ,तू भी तो संसार में ही है ईश्वर से अलग कहाँ है इसलिए जितना ज़रूरी है उतना ले त्याग भावना के साथ।

    बहुत सुन्दर भावानुवाद। एक श्रेष्ठ कार्य कर रहें हैं आप इसका पुण्य आपके खाते में जाएगा। जयश्रीकृष्णा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा विश्लेषण है ...शर्मा जी...धन्यवाद.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत उत्कृष्ट और प्रभावी भावानुवाद....

    उत्तर देंहटाएं