मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 3 दिसंबर 2014

"शीतलता बढ़ गई पवन में" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

शीतलता बढ़ गई पवन में।
कुहरा छाया नील गगन में।
IMG_0829
चारों ओर अन्धेरा छाया,
सूरज नभ में है शर्माया,
पंछी बैठे ठिठुर रहे हैं,
देख रहे हैं घर-आँगन में।
कुहरा छाया नील गगन में।

वाहन की गति हुई मन्द है,
चहल-पहल हो गई बन्द है,
शीतल धुआँ नजर आता है,
ऊनी कपड़े लदे बदन में।
कुहरा छाया नील गगन में।

3 टिप्‍पणियां:

  1. सचमुच फ़िजा में ठंढ बढ़ गयी है,बहुत बढियाँ

    उत्तर देंहटाएं


  2. ठंडो रे ठंडो के दिन आ गयी ....
    बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं