मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 3 दिसंबर 2013

अकुला रही सारी मही ................. ( अन्नपूर्णा बाजपेई )

अकुला रही सारी मही
       किसको पुकारना है सही ।  
 सोच रही अब वसुंधरा
       कैसा कलुषित समय पड़ा 
बालक बूढ़े नौजवान
       गिरिवर तरुवर आसमान
        किसको पुकारना .........
अखंड भारत सपना
        देखा था ये अपना
 खंडित हो कर बिखर रहा
         न जन मानस को अखर रहा
अकुला रही .................
   ढूँढने पर भी अब मिलते
          राम कृष्ण से पुरुषोत्तम नहीं
अर्जुन कर्ण गदाधर भीम नहीं
          भगत सुभाष से नायक नहीं
           अकुला रही .............
रण बांकुरों से वसुंधरा
           हर युग मे अल्हादित रही
किन्तु अहो ! क्या कोई
           बचा अब बांका लाल नहीं
अकुला रही सारी मही
किसको पुकारना ............ 






3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (04-12-2013) को कर लो पुनर्विचार, पुलिस नित मुंह की खाये- चर्चा मंच 1451
    पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर रचना है।

    (आल्हादित )

    रण बांकुरों से वसुंधरा
    हर युग मे अल्हादित रही

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 07/12/2013 को चलो मिलते हैं वहाँ .......( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 054)
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    उत्तर देंहटाएं