मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 26 दिसंबर 2013

राह तो किस्मत बनाती हे------पथिक अनजाना






                                                                राह तो किस्मत बनाती हैं  ४३०
 कशमकश हैं कि लोग पैसा दिमाग
से कमाते या किस्मत से पा जाते हैं
दुनिया कहती पैसा दिमाग से कमाया
जाता राह तो किस्मत बनाती है
मान्यता है कि जहाँ लक्ष्मी रहती
वहाँ सरस्वती साथ नही होती है
दिमाग का नाता शैतानियत से माना
गया है जाने लक्ष्मी क्यों बहकाती है
सरस्वती मेहनत व कृपा से जबकि
लक्ष्मी किस्मत से मिल जाती है
http://pathic64.blogspot.com
पथिक  अनजाना

3 टिप्‍पणियां:

  1. शायद लोगों में भूल धरना है ....लक्ष्मी और सरस्वती में बैर नहीं परन्तु गहरी सम्बन्ध है |
    विद्या ददाति विनयम ,विनायाद्यती पात्रताम
    पात्रत्वाद धनं आप्नोति ,धनात धर्म तत: सुखं |
    नई पोस्ट मेरे सपनो के रामराज्य (भाग तीन -अन्तिम भाग)
    नई पोस्ट ईशु का जन्म !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (27-12-13) को "जवानी में थकने लगी जिन्दगी है" (चर्चा मंच : अंक-1474) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं