मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 16 अगस्त 2014

खिसियानी बिल्ली खम्ब खम्बा नोंचे

Image result for rahul and sonia gandhi in pictures together

कुछ दिन पहले कांग्रेस के महासचिव और वैसे सब कुछ ,(सर्वेसर्वा) श्रीमान श्री राहुल गांधी गुस्से से भरे हुए लोकसभा अध्यक्ष के आसन परिकर के पास पहुँच गए और वहां जाकर उन्होंने लगभग शोर के अंदाज़ में दो बातें कही। एक तो ये कि उन्हें सुना नहीं  जाता बस एक ही आदमी को सुना जाता है। उनका इशारा प्रधानमंत्री मोदी की तरफ था और दूसरी बात उन्होंने कही कि जब से मोदी जी प्रधानमन्त्री बने हैं देश में साम्प्रदायिक दंगे बढ़ गए हैं। संसद में इस पर बहस होनी  चाहिए।

अतिअल्प संख्यक कांग्रेस की हालत को देखकर सरकार ने साम्प्रदायिकता पर बहस कराने की मंजूरी दे दी। दो तीन दिन बहस चली और मज़े की बात यह है कि राहुल गांधी बहस करने से पीछे हट गए। कांग्रेसी बहस करने वालों में उनका नाम नहीं था। पता नहीं किस वजह से उनकी   माता जी भी चुप रहीं। वे संसद से बाहर तो साम्प्रदायिकता बढ़ने का शोर करती हैं पर संसद में कुछ नहीं बोलीं। इससे मुद्दे पर उनकी गंभीरता का पता लोगों को लग गया है। लगभग फतवे के अंदाज़ में वे मीटिंगों में बोलती हैं पर जब गंभीर रूप से कुछ कहने का का अवसर आता है तो वे चुप हो जाती हैं। राहुल गांधी का लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी के पास पहुंचना तो ऐसा लग रहा था जैसे कोई खिसियाना बिल्ला खम्बा  नोंच रहा हो।मुहावरे में तो बिल्ली शब्द है पर उनके जैसे पुरुष व्यक्तित्व के लिए बिल्ली शब्द कहना तो कोई ठीक बात तो नहीं।

कांग्रेस के उकील प्रवक्ता स्वयं को हिंदी अंग्रेजी भाषा का विशषेज्ञ समझने वाले मनीष तिवारी का क्या विचार है ?क्या उनकी निगाह में कोई बढ़िया मुहावरा  सकता है ,जो राहुल गांधी की मनस्थिति का सही दिग्दर्शन करता हो ?सबको इंतज़ार रहेगी।

खिसियानी बिल्ली खम्ब खम्बा नोंचे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें