मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 23 जून 2014

सबसे बड़े टेलिस्कोप से ऐलियन को खोजेगा नासा

जैक सिम्पसन 

विज्ञानियों ने एक ऐसा टेलिस्कोप बनाने की घोषणा की है जो हमें इस बात के बारे में अहम सुराग दे सकता है कि लाखों मील दूर ऐलियन की मौजूदगी है या नहीं। द एटलास्ट नामक टेलिस्कोप दुनिया का सबसे शक्तिशाली टेलिस्कोप होगा जो धरती से 30 प्रकाश वर्ष की दूरी पर स्थित ग्रहों और सोलर सिस्टम के वातावरण का विश्लेषण कर पाने में सक्षम होगा। उम्मीद जताई जा रही है कि यह टेलिस्कोप एस्ट्रोनॉमर्स को अंतरिक्ष के अनजाने इलाकों की तस्वीर भी दे पाएगा, जिससे यह पता चल पाएगा कि इन जगहों पर अलौकिक जीवन जैसा कुछ मौजूद है या नहीं।

इन ग्रहों का विश्लेषण करने में सक्षम यह टेलिस्कोप अब तक का सबसे बड़ा टेलिस्कोप होगा। यह आकार में 44 फीट लंबे हब्बल टेलिस्कोप से भी 4 गुना ज्यादा बड़ा होगा। इसके अंदर 52 फीट व्यास वाला शीशा लगा होगा, जो इंसान द्वारा निर्मित अब तक का सबसे बड़ा शीशा होगा।


भारी-भरकम आकार के कारण कोई रॉकेट इस टेलिस्कोप को अंतरिक्ष में ले जाने में सक्षम नहीं होगा। इसलिए एस्ट्रोनॉट्स कंस्ट्रक्शन वर्कर्स की एक टीम को नासा के ऑरियन रॉकेट द्वारा अंतरिक्ष में ले जाया जाएगा जो इस टेलिस्कोप को धरती से 10 लाख मील की दूरी पर स्थापित करेगी। इस प्रॉजेक्ट की डीटेल्स इस हफ्ते पोर्ट्समाउथ में होने वाली नैशनल एस्ट्रॉनमी मीटिंग में रॉयल एस्ट्रॉनमी सोसाइटी के प्रेजिडेंट मार्टिन बैरिस्टो का खुलासा करेंगे। बैरिस्टो के अनुसार यह टेलिस्कोप एस्ट्रोनॉमर्स तो 60 नए ग्रहों को खोजने और जीवनके लक्षण के लिए जरूरी ऑक्सीजन और अन्य गैसों के लेवल का पता लगाने में मदद करेगा।


बैरिस्टो ने संडे टाइम्स से कहा, 'यह टेलिस्कोप 30 प्रकाश वर्ष की दूरी तक तारों के आसपास स्थित धरती के समान ग्रहों को देख सकता है। इस दूरी के बीच लाखों सितारे मौजूद हैं और हमें उम्मीद हैं कि इनमें से कुछ हजार सितारें सूरज की तरह होंगे।'

उन्होंने कहा, 'ग्रह के मिलने पर यह टेलिस्कोप ग्रह के वातावरण में मौजूद ओजोन, मीथेन, ऑक्सीजन और अन्य गैसों के बारे में विश्लेषण करेगा, जिससे वहां संभावित जीवन की मौजूदगी का पता लगाया जा सके।' ऐसा माना जा रहा है कि द एटलास्ट टेलिस्कोप की परियोजना के पूरा करने के लिए दुनिया भर की अंतरिक्ष एजेंसियों के सहयोग की जरूरत पड़ेगी। बैरिस्टो ने कहा, 'नासा सबसे बड़ी अंतरिक्ष स्पेस एजेंसी होने के कारण इस प्रॉजेक्ट में मुख्य भूमिका निभाएगी लेकिन हम यूरोपियन स्पेस एजेंसी (ब्रिटेन इसका सदस्य है) से इस प्रॉजेक्ट  पर चर्चा कर चुके हैं। इस प्रॉजेक्ट के 2030 में पूरा होने की उम्मीद है।'







2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (24-06-2014) को "कविता के पांव अतीत में होते हैं" (चर्चा मंच 1653) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं