मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 26 अक्तूबर 2014

चन्द माहिया : क़िस्त 10


:1:
रंगोली आँगन की
देख रही रस्ता 
गोरी के साजन की

:2:

धोखा ही सही ,माना
अच्छा लगता है 
तुम से धोखा खाना

:3:

औरों से रज़ामन्दी
तेरी महफ़िल में 
मेरी ही जुबांबन्दी

:4:

माटी से बनाते हो 
क्या मिलता है जब
माटी में मिलाते हो ?

:5:

गो नज़र न आता है
दिल में है कोई
जो राह दिखाता है 

-आनन्द.पाठक-
09413395592

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (27-10-2014) को "देश जश्न में डूबा हुआ" (चर्चा मंच-1779) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आ0 शास्त्री जी
      चर्चा में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद
      सादर
      -आनन्द.पाठक-

      हटाएं
  2. इने -गिने शब्द
    कितना कुछ कह जाते हैं
    जब हों समर्थ !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आ0 प्रतिभा जी
      ुत्साह वर्धन के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद
      सादर
      -आनन्द.पाठक-

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. आ0 परी जी
      यह ’हाइकू’ नहीं है ..अपितु इसे ’माहिया’ कहते हैं.माहिया के बारे में संक्षिप्त जानकारी मेरे ब्लाग पर www.urdu-se-hindi.blogspot.com मेरे आलेख में उपलब्ध है। आप ने पुरानी फ़िल्म ’फ़ागुन’ 1958[भारत भूषण- मधुबाला] वाली में एक गाना था ---तुम रूठ के मत जाना ----वो हिन्दी में पहली माहिया थी -ऐसा लोग कहते हैं
      -आनन्द.पाठक

      हटाएं