मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 22 अक्तूबर 2014

शेर सुनाता हूँ मैं ......


तुझे याद ना करूँ तो दिल कहता है
कि रूठ जाऊंगा
उसे क्या ख़बर कि तेरी याद आयी
तो मैं टूट जाउंगा 

***

बेखोफ़ करते थे इशक
अब आलम ये है के रहते है खुद को छिपाए हुए
नज़र किसी से मिलती है
तो डरता हूँ शायद एक और बेवफ़ा हम पे नज़र है लगाये हुए 

***

कहती है तू
तेरी याद मैं भुला दूँ
जीने का बस एक ही बहाना
वोह भी मैं गवा दूँ 

***

रात देखे थे तूने जो तारे
आसमान से टूटते हुए
वो अरमान थे मेरे
मुझ से ही रूठते हुए 


***

खुशी का एहसास वोह जाने 
जिसने गम का दरिया देखा हो 
प्यार की कीमत वोह जाने
जिसने बेवफाई का मन्ज़र देखा हो 

***

यादों के साये ने 
तुझे मिलने की आग 
कई बार लगाई है 
जाने क्या क्या कर के ये आग 
मैंने हर बार भुजाई है  

***

तेरे प्यार की सुलगती चिंगारी ने 
सब कुछ तो जला डाला 
मैंने भी राख के इस ढेर को 
दिल में ही छुपा डाला 

***

में हनुमान तो नहीं
जो सीना चीर के दिल में राम दिखा दूँ
एक आम सा इन्सान हूँ
तमन्ना है कि तुझे अपना बना लूँ

***

4 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति...........दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें! मेरी नयी रचना के लिए मेरे ब्लॉग "http://prabhatshare.blogspot.in/2014/10/blog-post_22.html" पर सादर आमंत्रित है!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रभात जी धन्यवाद... आप को भी दीपावली शुभ हो ....आप की रचना पड़ी बहुत सुंदर भाव है ....दिया एक मिट्टी का जलाना है.. मंगल कामनाएँ

      हटाएं
  2. मित्र !आप को सपरिवार दीपावली की शुभकामना ! सुन्दर प्रस्तुतीकरण !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. देवदत्त जी धन्यवाद् ...आप को भी दीपावली की ढेर सारी मंगल कामनाएँ

      हटाएं