मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 20 अक्तूबर 2014

मुठ्ठी बंद है तो लाख की ,खुल गई तो ख़ाक की

मुठ्ठी बंद है तो लाख की ,खुल गई तो ख़ाक की

ज़रुरत इस सूक्ति के मर्म को समझने की है। नादाँ दोस्त से  दानिशमंद दुश्मन अच्छा होता है। हमारी लेखनी

को कांग्रेस के खिलाफ न समझा जाए। जो लोग कह रहे हैं कि प्रियंका लाओ कांग्रेस बचाओ उनसे पूछा जाना

चाहिए अगर ये पटाखा भी फुस्स हो गया तो फिर क्या नेहरूजी को वापस लाएंगे। इंदिराजी को वापस लाएंगे। वे

तो हैं नहीं। इसीलिए समझदारी इसी में अपनी साख को बचा के रखा जाए। अपना सब कुछ दांव पे न लगाया

जाए।

To lay all your eggs in one basket is not intelligence .


'प्रियंका गांधी लाओ 'नारा लगाने वालों से ये पूछा जाना चाहिए क्या राहुल बुझा हुआ पटाखा हैं ?अगर प्रियंका

भी न चली तब क्या फिर देश छोड़कर चले जाएंगे।जो सोनिया -राहुल हार गए हैं वे अब प्रियंका को दाँव  पर

नहीं

लगा सकते।युधिष्ठिर ने यही गलती की थी अपना सब कुछ द्यूत कीड़ा (ज़ूए )में हारने के बाद द्रोपदी को भी

दांव पे लगा दिया था।  नतीजा हम सब के सामने है भारत में नारी की इज़्ज़त हमेशा ही दाँव  पे लगी  रहती है।

ये लोग महाभारत ही पढ़ लें। तो थोड़ा समझ आ जाए। जो लोग अपना तीन मिनिट का भाषण भी

पहले लिखकर लिखवा कर फिर लिखा हुआ पढ़ते हैं शायद उनकी समझ में कुछ आ जाए।

She's back! 'Priyanka lao, Congress bachao' posters resurface in face 


of 


assembly losses


The "Priyanka lao" slogans are back on display again, this time after yet another dismal electoral showing by the Congress Party.   While the partymen couldn't openly blame the results on Rahul Gandhi in the aftermath of the Lok Sabha elections, party cadres started waving banners calling on the elder daughter of the Gandhi family, Priyanka, to lead the party into the state assembly polls to express their anger.

On Sunday, once counting began and BJP looked poised to sweep Haryana and become the largest party in Maharashtra, Congress workers once again assembled outside the Delhi office armed with their Priyanka banners:
 Priyanka and Rahul. Reuters image.

View image on Twitter
Seen outside Congress Office in


Priyanka Lao Congress bachao - YouTube

www.youtube.com/watch?v=M1_MsczwRfs
1 day ago - Uploaded by IndiaTV
Congress party workers protest outside Congress office with banners saying 'Priyanka Lao Congress bachao ...
Missing

2 टिप्‍पणियां:

  1. अभी जो पटाखे इक्ट्ठा किये हैं उनको जलाओ बहुत आवाज करेगें :)
    फुस्स को छोड़ दो :D

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं