मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 28 अक्तूबर 2014

अपनी करनी आप भरेगा ,ये कर्मन को सार ,

अपनी करनी आप भरेगा ,ये कर्मन को सार ,

कबिरा बड़ी है मार ये ,जो चित  से दियो उतार। 

बतलाते चलें आपको ये पंक्तियाँ महाकवि कबीर दास रचित नहीं है उनकी 

मूल 

पंक्ति है :

उलटी मार कबीर की जो चित से दियो उतार ,

(दूसरी पंक्ति हमने याद नहीं हैं )

कुछ लोगों के अनुसार उलटी के स्थान पर बड़की शब्द आया है इस पंक्ति 

में 

यानी मूल पंक्ति है :

बड़की मार कबीर की जो चित से दियो उतार। 

बहरसूरत बतलादें स्थानापन्न पंक्तियाँ हमारे आग्रह पर डॉ.वागीश मेहता 

जी ने 

लिखीं हैं व्यस्तता के चलते बीजक और कबीर ग्रंथावली न देख सके सो 

हमारी 

ज़िद पे उल्लेखित पंक्तियाँ लिख दी।  

कबीर दास कहते हैं उलटी मार कबीर की जो चित  से दियो उतार यानी 

मूर्ख 

व्यक्ति से उसके स्तर पर जाकर मत उलझो उसकी उपेक्षा करो वही मार 

उसके 

लिए बड़की बन जाएगी। असहनीय हो जाएगी। 

Fools use the knife to stab you in the back ,Wise use the knife to 

cut the cord and free themselves from the fools .

सारा खेल उन वासनाओं 

(desires )का है जो जन्मना हैं ,उन इम्प्रेशन्स का है जो व्यक्ति जन्म से 

ही लिए 

आया है इस जगत में। हर व्यक्ति अपने संसार से बोल रहा है। अपना 

बोया 

काट 

रहा है। हमारे पूर्व जन्म के  संचित कर्मों का अंश ही ये जन्मना वासनाएं हैं 

जिन्हें 

हम लेकर इस संसार में आये हैं। उन्हें कैसे बदलियेगा। किसी को कुछ 

सीख न 

दियो अपना रवैया बदल लेवो। वही तुम्हारे लिए श्रेयस है। 

अन्यत्र भी कबीर ने कहा है -

कबिरा  तेरी झोंपड़ी गलकटियन के पास ,

करेंगे सो भरेंगे तू क्यों भयो उदास। 

इस पर भी गौर फरमाइए -

कबीर दास की उलटी बानी ,

बरसे कंबल भीगे पानी। 

पानी यहां ज्ञान का प्रतीक है। जीवात्मा को अपने स्वभाव

 सत्यम ज्ञानम् अनन्तं से 


परिचित होना चाहिए था लेकिन जीव माया (संसार की माया ,मटीरियल एनर्जी 

)से भ्रमित है। इसलिए जगत में सब कुछ प्रकृति के विपरीत हो रहा है। 

अग्नि 

बरस रही है पानी में आग लग रही है।जीव संसार में भटक रहा है। आत्मा 

को 

जब अंतश्चेता मिली तो वह जीव-आत्मा हो गया। खुद को देह मन बुद्धि 

चित 

अहंकार मान ने लगा। अपने सच्चिदानंद स्वरूप को विस्मिृत करने के 

कारण ही 

जीवात्मा संसार की माया से भ्रमित है कम्बल  बरसे भीगे पानी से कबीर 

का यही 

अभिप्राय है।  

बतलाते चलें आपको कि महाकवि कबीर शाश्त्रों के पंडित नहीं थे। वे तो 

अनुभव के माहिर थे। साधक थे। परमात्म ज्ञान प्राप्त संत थे। इसीलिए 

उन्होंने बहुत सा ज्ञान रहस्य के आवरण में लिपटा कर दिया है ,शाश्त्र की 

बात को रहस्यपूर्ण बनाकर प्रस्तुत करना यही उलटवासी है कबीर की। 

कबीर उलटवासी के पंडित थे। इसीलिए बरसे कंबल भीगे पानी का कोई 

और अर्थ भी निकाल  सकता है।

मसलन जब व्यक्ति अपना स्वधर्म छोड़ देता है तब सब कुछ उलट घटित 

होता है। सारे काम उलटे होने लगते हैं। जल को बरसाना चाहिए लेकिन 

वह भीज रहा है और कंबल बरस रहा है।  

पानी को ज्ञान के अर्थ में लेंगे तो अर्थ सीमित हो जाएगा फिर ज्ञान तो 

माया को दूर भगाने का काम करता है माया ज्ञान को कैसे भ्रमित कर 

सकती है। 

2 टिप्‍पणियां: