मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 31 अक्तूबर 2014

नीला आकाश ......


नीला आकाश निर्विकार 
बादल हैं इसका स्वभाव 
आकाश धरती को हमेशा 
अपने आगोश में बांधे रहता है 
उसका स्वभाव अधिकतर 
रिमझिम के तराने सुनाता है 
धरती को अमृत में नहलाता है 

जैसे नायक आकाश 
और नायिका धरती 
अपने प्रेम का प्रमाण
सारे ब्रम्हांड को दे रहें हों  

लेकिन आज आसमान पे 
आग लगी है 
न जाने इतना क्रोध क्यों 
आसमान है न इसीलिये  
धरती पर क्रोध 
इतना क्रोध कि
धरती पर बिजली गिरा दी 
बेचारी जो ठहरी 
धूं धूं कर 
जलती रही 
फिर आसमान को न जाने 
क्यों तरस आ गया 
उसने रहम की कुछ बूंदें 
धरती पर दे मारीं
धरती की जलती आत्मा पर 
घाव तो लग चुके थे 
कुछ बूंदें मलहम का काम करती होंगी  
दिल की यातना के खरोंच 
मिट जाएंगे क्या 
धरती बेचारी लाचार क्या करे  
धरती क्या नहीं देती 
क्या नहीं उगाती
फिर इतना क्रोध क्यों उस पर   
डरी सी  सहमी सी 
घिरी रहती है 
हर पल आसमान से 
आदमी भी तो आसमान है 
और उसका का स्वभाव बादलों सा 
न जाने कब क्रोधित हो आग बरसाये  
 .....मोहन सेठी 

                                                                

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (01-11-2014) को "!! शत्-शत् नमन !!" (चर्चा मंच-1784) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शास्त्री जी आभार प्रसंदगी के लिये तथा चर्चा मंच पर स्थान देने के लिये .....सादर प्रणाम

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. देवदत्त जी आभार ...मंगल कामनाएँ

      हटाएं
  3. प्रतीकों के सहारे सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. फिर आसमान को न जाने
    क्यों तरस आ गया
    उसने रहम की कुछ बूंदें
    धरती पर दे मारीं
    धरती की जलती आत्मा पर
    घाव तो लग चुके थे
    कुछ बूंदें मलहम का काम करती होंगी
    दिल की यातना के खरोंच
    मिट जाएंगे क्या

    ATISUNDAR ...SAMVEDANAPURN RACHNA ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुनीता जी आभार प्रोत्साहन के लिये

      हटाएं