मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 4 अप्रैल 2015

सीखी कहाँ से नवाबजूं ऐसी देनी देन ? ज्यों- ज्यों कर ऊंचे चढ़ें ,त्यों त्यों नीचे नैन

 देनहार कोई और है ,जो देता दिन रेन

लोग भरम मो पे करें ,ताते नीचे नैन।

प्रसंग है संतकवि  रहीम का (पहले नवाब और राजा भी संत होते थे )जिनका पूरा नाम था अब्दुल रहीम खानखाना था । कहतें हैं उनके दरबार से कोई खाली हाथ न जाता था। दान देते वक्त उनकी नज़रें विनम्रता से नीचे झुक जाती थीं ,उपकृत महसूस करते थे ,आभार व्यक्त करते थे लेने वाले का।

उनकी इसी विनम्रता से अभिप्रेरित हो एक मर्तबा उनके समकालीन कवि गंग ने ये उदगार तब व्यक्त किये जब उन्होंने देखा कि उनके दरबार में पहुंचा एक व्यक्ति कई बार जकात ले चुका है और बारहा  फिर  से मांगने खड़ा होजाता है कतार में शामिल हो:

सीखी कहाँ से नवाबजूं ऐसी देनी देन ?

ज्यों- ज्यों कर ऊंचे चढ़ें ,त्यों त्यों नीचे नैन।

यानी जैसे जैसे जकात में दी गई राशि बढ़ती जाती है विनम्रता का सहभाव भी उसी अनुपात में आपसे आप बढ़ जाता है।
"नवाब साहब दान देने का ऐसा विनम्र (निरहंकारी )तरीका आपने कहाँ से सीखा ?"-गैंग बोले।

प्रत्युत्तर रहीम ने कवित्त में ही दिया जो गौर तलब है :

देनहार कोई और है ,जो देता दिन -रैन ,

लोग भरम मो पे करें ,ताते नीचे नैन।

असल में देने वाला तो कोई और  है वह अल्लाह ताला है जिसका दरबार हमेशा खुला रहता है ,लोग खाम -खा हमें दाता मान लेते हैं इसीलिए  सिर  झुकजाता है उसके सिज़दे में। एहसान से।  शर्म से।

जय श्री कृष्ण। 

2 टिप्‍पणियां:

  1. हनुमान जयन्ती की हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल रविवार (05-04-2015) को "प्रकृति के रंग-मनुहार वाले दिन" { चर्चा - 1938 } पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं