मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 15 अप्रैल 2015

Laxmirangam: शहीद की अंत्येष्टि

Laxmirangam: शहीद की अंत्येष्टिमैंने अपनी पिछली पोस्ट में लिखा था अखबारों ने बयाँ किया कि मुख्यमंत्री कार्यालय हरियाणा से किरण शेखावत के ससुर
को अनाप शनाप जवाब दिया गया. अभी उसे भूल भी नहीं पाया कि एक और खबर पढ़ी.





छत्तीसगढ़ में राजकीय सम्मान के साथ
दाह-संस्कार करने के बाद
 रक्षित कार्यालय ने परिवार वालों से दाह  - संस्कार के खर्चे
की वापसी माँगी.
 एस पी ओ, किशोर पाँडे 2011
में नक्सली हमले की भेंट चढ़े. शहीद की अंत्येष्टि राजकीय सम्मान के साथ हुई. जून
14 में परिवार वालों को नोटिस भेज कर 10 हजार रुपए चुकाने के लिए कहा गया. परिवार
से एक भाई (कौशल पाँडे
 ?) को नौकरी रक्षित कार्यालय में भी दी गई. भाई कहते हैं कि पैसे माँ ने लिए थे, इसलिए माँ ही कह पाएंगी कि पैसे वापस करने थे या नहीं और क्या कोई बात हुई थी.
शहीद के माँ की कोई बात अखबारों में नहीं है. अब तीन दिनों पहले दूसरा नोटिस मिलने
की बात अखबार की सुर्खियों में है.
 

किसी सरकारी विभागीय
अधिकारी की टिप्पणी भी है कि प्रणाली के अनुसार ऐसा ही होता है. मुआवजे के नाम पर
भी सरकार कुछ राशि शहीदों के परिवार को देती है. राजकीय सम्मान से किए गए दाह
संस्कार का खर्च परिजन से माँगने का क्या औचित्य है
 ? खर्च वे करें, दाह संस्कार आप करवाओ .. यह कैसा निर्णय है ?

देश के एक शहीद को हम इतनी ही इज्जत
बख्शते हैं. सर उठाएं तो उठाएं कैसे. अखबारों की सुर्खियों में आने के बाद संबंधिक
अधिकारियों को पता चलता है कि विभाग में क्या हो रहा है. तब कहते हैं छोटी सी भूल
हो गई. क्या यह छोटी सी भूल है. सरकार के नेताओं को तो अलग विधा में बयान देने से
फुरसत नहीं है कुछ भी बयानबाजी हो रही है. हर की पौड़ी पर अ - हिंदु को आने से
रोका जाए
, मुसलमानों के मताधिकार वापस लिए जाएं... इत्यादि इत्यादि. आज के समय कौन सा
विषय ज्यादा जरूरी है
, इसकी सूझ लेकर सरकार काम करे, तो ही देश चल पाएगा वर्ना ऐसी छोटी सी भूल एक दिन राष्ट्र का सर जग में नीचा
कर के रहेगी.
 
-----------------------------------------------------




='mso-bidi-language:HI'> 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें