मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 12 अप्रैल 2015

शरीर तो पहले ही जड़ है। मरता कौन है फिर ?क्या मृत्यु एक इल्यूज़न है ?माया ?

शरीर तो पहले ही जड़ है। मरता कौन है फिर ?क्या मृत्यु एक इल्यूज़न है ?माया है ,जो है नहीं और दिखाई  पड़ती है ?

मन के बाहर कुछ भी नहीं हैं ,यह संसार मन के बाहर ही है वह भी तभी तक जब तक उसे आत्मा का आशीर्वाद प्राप्त है।
आशीर्वाद मिलना बंद हुआ कि जगत अदृश्य हो जाएगा।

स्वप्न अल्पकालिक होता है जानकार कहतें हैं बा -मुश्किल स्वप्न की अवधि डेढ़ दो मिनिट ही होती है। स्वप्न अवस्था का

मन ही स्वप्न की सृष्टि करता है। स्वप्न का विषय भी वही होता है ,स्वप्न देखने की प्रक्रिया भी वही होता है।जागते ही नींद

टूटते ही यह स्वप्नावस्था का प्रपंच गायब हो जाता है। स्वप्न अवस्था का मन भी।

आत्मा के शरीर से बाहर जाते ही जागृत अवस्था का मन भी गायब हो जाता है।

जागृत अवस्था भी यह स्थूल शरीर भी जागृत अवस्था का प्रपंच है बस इसकी अवधि ज्यादा है कोई सत्तर -अस्सी बरस

बस।

इसी तरह यह जगत भी  दीर्घ अवधि का एक स्वप्न मात्र है जो हम अपने आस पास देखते हैं। ट्रांज़ेक्शनल रियलिटी है

बस। एब्सॉल्यूट रियलिटी नहीं है इसीलिए माया है।

मृत्यु जीवन का विनियमन है जैसे  आप लाइब्रेरी का पुराना कार्ड रिन्यू करा लेते हैं। वैसे ही मृत्यु पुराने शरीर को रिन्यू

कर देती है। हमारी अधूरी अनभोगी रह गईं वासनाओं के अनुरूप। बस इतना भर।

जय श्रीकृष्णा।

2 टिप्‍पणियां:

  1. लोहड़ी की हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल सोमवार (13-04-2015) को "विश्व युवा लेखक प्रोत्साहन दिवस" {चर्चा - 1946} पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. मृत्यु जीवन का विनियमन, बहुत ही खूबसूरत अंदाज में जीवन दर्शन बता दिया। साधुवाद वीरेन्द्र कुमार शर्मा जी।

    उत्तर देंहटाएं