मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 6 अप्रैल 2015

आर्जव तुम में दीखता अर्जुन सा मनमीत ,

कहाँ सु सीखी आपने ,बात करन की रीत ,

दिन दूनी निशि चौगुनी ,बढ़ती जाती प्रीत। 

सम पे रहना आपने कहाँ सु सीखा मीत ,

मीठी हो या तिक्त आपकी बतियों  में है प्रीत।  

मावस हो या पूर्णिमा गाते देखा गीत ,

पावस हो या ग्रीष्म हो ,देखा तुम्हें विनीत। 

मौसिम की बटमार में तुम हरदम  रहे सुनीत ,

रंग बदलती शाम में होते तुम अभिनीत। 

ऋतुएँ आईं और गईं , मुस्काए जगजीत 

निर्गुण ब्रह्म बने रहे ,दुग्ध में ज्यों नवनीत। 

आर्जव तुम में दीखता अर्जुन सा मनमीत ,

वाणी में अक्सर तिरी अनुगुंजित संगीत। 

साक्षी भावित तुम रहे ,सुख दुःख में मनमीत,

स्तिथप्रज्ञ बने रहे आंधी ओला शीत। 

2 टिप्‍पणियां:

  1. हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (08-04-2015) को "सहमा हुआ समाज" { चर्चा - 1941 } पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं