मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 12 जुलाई 2015

अब तो माफ़ करें गांधी को

गुलाम वंशी चाटुकार  केवल कांग्रेस पार्टी के अंदर ही नहीं हैं वे बाहर भी कई रूपों में सक्रिय हैं। उनमें से ज्यादातर पत्रिकारिता क्षेत्र  से हैं। अब खबर देखिये कि गांधी नेहरू खानदान की परम्परा में रेहान और मिराया अमेठी चुनाव क्षेत्र के कुछ गावों में पहुंचे। ये रेहान -मिराया रॉबर्ट वाड्रा और प्रियंका वाड्रा के बेटे बेटी हैं। उन्हें अमेठी क्षेत्र में ऐसे उतारा जा रहा है जैसे सामंत पुत्रों को अपने हलके में उतारा जाता था। क्या वे देश भक्ति से प्रभावित होकर उस इलाके में पहुंचे हैं जिसे वे सामंती निगाह से अपना समझते हैं या फिर वहां के लोगों की सेवा करने की नीयत से वहां पर पहुंचे हैं। तिस पर  जुल्म ये कि उन्हें गांधी और  नेहरू की खानदानी परम्परा से जोड़ा जा रहां  है। गांधी और नेहरू की कोई ऐसी संयुक्त  परम्परा नहीं है अलबत्ता उन्हें नेहरू वंशधर तो कहा जा सकता है इसमें गांधीजी कहाँ से आ गए। गांधी जी  के अपने पौत्र और प्रपौत्र तो अंजाना सा जीवन जी रहे हैं इन्हें कोई भी नहीं जानता और कहीं से भी जिनका कोई रिश्ता नहीं है उन्हें गांधी जी की खानदानी परम्परा में जोड़ा जा रहा है।

 गांधीजी का कसूर तो इतना ही था कि उन्होंने एक मुस्लिम पारसी फ़िरोज़ खान को आशीर्वाद देकर उसका विवाह इंदिरा नेहरू से करा दिया था। सच्चाई तो ये भी है कि महात्मा गांधी के कन्धों पर चढ़कर पंडित नेहरू प्रधानमन्त्री का पद पा लेने की अपनी योजना में सफल रहे थे। महात्मा गांधी ठेठ भारतीयता के पक्षधर थे और नेहरू भारतीयता से चिढ़ते थे। नेहरू की पीढ़ी के वंशधर भी तो यही कर रहे हैं। अब तो कांग्रेसी महात्मा गांधी को माफ़ करें। उन्होंने उनके नाम का बहुत शोषण कर लिया है। इतिहास की सही जानकारी भारतीय बच्चों तक तो पहुँचने दें।

अब तो माफ़ करें गांधी को


Priyanka Gandhi Vadra's Son Rehan Pays a Surprise Visit to Amethi

AMETHI:  Rehan, the son of Priyanka Gandhi and Robert Vadra, on Tuesday paid a surprise visit to his family stronghold Amethi where he stayed overnight.

Rehan, 14, arrived in Amethi uniformed along with his friends by car, party sources said.

Following on the footsteps of his family, Rehan took a tour of the village, discussed various issues with the villagers and also feasted with them, said local residents.

He later went to the guest house of Sanjay Gandhi Hospital at Munshiganj and met people there.

His visit took the villagers by surprise as the Congress or the district administration had not provided any information on his visit.

The constituency of Amethi is represented by Congress vice president Rahul Gandhi and is also frequently visited by Priyanka Gandhi Vadra and Sonia Gandhi.

"The visit shows Amethi is important for them and the family has had an affectionate relation with people here," said a Congress worker.




A local resident, Seema Pandey, recalled how Rehaan ate ‘dal, chawal, sabzi and roti’ at her place. ”Rehaan ji and his friends visited us here. They stayed at our place, had food and then left in the morning. We felt very happy that he stayed at our place,” said Pandey.
Recently, Priyanka Gandhi was in news when The Himachal Pradesh High Court bench hearing the petition filed by RTI activist Dev Asis Bhattacharya stayed the disclosure of details of land purchases made by her. Priyanka often visits Amethi and Raebareli to campaign for his mother Sonia Gandhi and brother Rahul Gandhi. (Read also: Priyanka Gandhi land purchase case: High court stays disclosure of details)



Priyanka Gandhi Vadra's Son Rehan Pays a Surprise Visit to Amethi

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें