मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 31 जुलाई 2015

नांच मेरे चिरकुट नांच तुझे पैसा मिलेगा …

 मेमन को फांसी के मामले में सरकार और न्यायालय ने जो क्षिप्रता और व्यग्रता दिखलाई है उसने सरकार और न्यायपालिका दोनों की साख को सवालों के घेरे में ला खड़ा किया है बट्टा लगाया है।

जनाब दिक्पराज्य सिंह आपने देश के सर्वोच्च न्यायालय की अवमानना की है। आप जिस सोनिया मायनों के चिरकुट हैं उसकी कांग्रेस ने तो कांग्रेस शब्द को ही दुनिया भर में बदनाम कर दिखाया है। वह हुश हुश करके ४४ सांसदों को रोज़ संसद में झमूरे की तरह नचाती है।

नांच मेरे चिरकुट नांच तुझे पैसा मिलेगा …।

एक दहशद गर्द को "ओसामाजी "सम्बोधन देने वाले आतंकियों के ये रहनुमा देखिये क्या कह रहे हैं मुंबई बम विस्फोटों के अपराध सिद्ध याकूब को फांसी के मुद्दे पर :

Digvijaya Singh


Congress leader and former Madhya Pradesh chief Minister Digvijaya Singhhas landed himself in hot waters once again.

In a series of tweets about the execution of 1993 Mumbai blasts convict Yakub Abdul Razak Memon, Digvijay Singh said, "Yakub Memon hanged. Exemplary urgency and commitment has been shown by Govt and Judiciary in punishing an accused of Terror."

In the following tweet he said, "I hope similar commitment of Govt and Judiciary would be shown in all cases of Terror irrespective of their Caste Creed and Religion."

इन पाकिस्तान सोच के लोगों ने देश को दो फाड़ कर दिया है :

एक तरफ ये न्यायपालिका विरोधी संविधान विरोधी लोग हैं दूसरी और भारतधर्मी वृहत्तर समाज। जिन्नाओं की खेती कर रहें हैं ये देश में। इन्हें रोका नहीं गया तो ये देश में दंगे करवा देंगे। वोट के लिए 'गु' (मल ) खा लेंगे ये चिरकुट बौद्धिक भकुए । संविधान को तो इनकी अम्मा १९७५ में ही तोड़ गईं  थीं रही सही कसर अब  इनकी मम्मीजी पूरी करवा रहीं  हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें