मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 4 जुलाई 2014

माहिया : क़िस्त 03


:1;

ख़ुद से न गिला होता
यूँ न भटकते हम
तू काश मिला होता

:2:

ऐसे न बनो बरहम
पहलू में भी चुप  !
ये कैसी सजा जानम !

:3:

इक छाँव बनी तो रही
घर के आँगन में
बरगद बूढ़ा ही सही

:4:
मिलने में मुहुरत क्या
जब चाहे आना
सायत की ज़रूरत क्या

:5:

रिश्तों को निभा देना
बर्फ़ जमी हो तो
कुछ धूप दिखा देना

-आनन्द.पाठक-
09413395592

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छी कणिकाएं, हाइकू स्वे भी श्रेष्ठ ! वधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (05-07-2014) को "बरसो रे मेघा बरसो" {चर्चामंच - 1665} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं