मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 28 जुलाई 2014

आधा हिस्सा पीहर में



हाँ,आज भी टूट जाता है
घर आँगन अंदर तक
जब बेटी विदा होती है.

अपनी ससुराल जाकर भी
अपना आधा हिस्सा
छोड़ जाती है पीहर में.

फ़िक्र अपने भाई की,
मालिश पापा के सिर की,
आलिंगनबद्ध होना माँ से
ललक बचपन को जीने की
कर देती है भाव - विभोर
जमघट सहेलियों का
दौर चाय -कॉफी का देर रात तक
गीली-गीली रातों में
अलाव जलता है जज्बातों का.

शायद बेटियां पीहर जीने आती है--
छूटे हुए बचपन की यादें
भाई के साथ की गई शरारतें
पापा से की गई ज़िद
माँ के हाथ की रोटी
और कहीं गिरा पड़ा वो लम्हा
जिसमे दर्द भी था,खुशी भी.

और इन सबको जी कर
जब वो लौटती है ससुराल
अपना आधा हिस्सा
छोड़ जाती है पीहर में.

सुबोध

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (29-07-2014) को "आओ सहेजें धरा को" (चर्चा मंच 1689) पर भी होगी।
    --
    हरियाली तोज और ईदुलफितर की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं