मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 20 जुलाई 2014

मुहब्बत – एक नज़रिया



मुहब्बत के मेंह में
भीगा इस कदर कि
जिस्म के साथ
रूह भी गीली है आज तक
नूर का शरबत
पूरे वज़ूद में भर गया पाकीज़गी.

अब फर्क नहीं पड़ता इससे
कि महबूब साथ है या अलहदा
एक कमी थी गम की
मुक्कमल कर गया शख्शियत मेरी

मुहब्बत के शहर में वो काफिर
जो चाह जिस्म की करे
या बद्दुआ दे बेवफा मुहब्बत को.

गुजरकर पाकीज़गी के समुन्दर से
जब बराबर हो गया खड़ा फरिश्तों के
मुहब्बत को बेवफा कह
दोजख को जी नहीं सकता.

कुछ तो मज़बूरियाँ रही होगी उसकी
कि रूह आज भी काँपती है
मेरे जिक्र से उसकी ,
और आँखे पहन लेती है
मुस्कुराहट का नक़ाब .

या रब !
वो टॉवल आज भी गीला है
जिससे पोंछा था सर
भीगने के बाद मुहब्बत के मेंह में ....

सुबोध- २९ जून, २०१४


2 टिप्‍पणियां: