मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 14 अगस्त 2015

लीक से हटकर


लीक से हटकर

जीवन में दो ही रास्ते हैं एक वो जो मुझे अच्छा लगता है (प्रेयस )और दूसरा वह जो मेरे लिए अच्छा है। चयन मेरा अपना ही होता है। एक व्यक्ति सिर्फ सच बोलता है। सच बोलना अच्छी बात है ब-शर्ते वह किसी को नुक्सान न पहुंचाए। लेकिन सच को पचाना बड़ी बात होती है। कुछ लोगों में यह सिफत  होती है वह सच को पचा लेते हैं।

गलती मान लेना अच्छी बात है लेकिन कई मर्तबा गलती इतनी बड़ी होती है कि उसे तस्दीक करने के लिए प्रयुक्त माफ़ी शब्द छोटा पड़  जाता है। अपना ध्वनित अर्थ खोने लगता है। किसी की आपमें श्रद्धा और विश्वास को स्वाहा कर देता है। शब्दों की सीमा हैं। अलबत्ता कई मर्तबा गलती एक विधायक  मार्ग दिखला जाती है जिस पर चलकर किसी के खुद में विश्वास  को पुन : रोपा जा सकता है।

साधारण संकल्प को सत्य संकल्प में बदलने की कूवत रखता है ये मार्ग। बस इसे छोड़ना नहीं है। गलती को तहेदिल से तस्दीक करके आगे बढ़ना है। यूज़र फ्रेंडली बना लो इस मार्ग को कंप्यूटर सा ,यही मार्ग 'हरे कृष्णा'महामन्त्त्र  मन्त्र बन जाएगा जो स्पेम (कचरे )में संलिप्त मन का शोधन करता जायेगा।

जैश्रीकृष्णा !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें