मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 18 अगस्त 2015

लेकिन वह कहकर डोरमिट्री की दीवार से चिपक के खड़ा रहा चंद लम्हें शायद सुन लेना चाहता था मैटनी मसाले के डायलॉग खुसरपुसर।

अपने आसपास की अनदेखी ,अपने निकटतम परिवेश के प्रति लापरवाही कई बार बहुत महंगी पड़ती है। शांडिल्य के साथ उस रोज़ यही तो हुआ था। बिंदास जीना अच्छीबात  है लेकिन इसकी भी तो इंतिहा होती होगी। अक्सर वह आन लाइन रहता है। और गुड स्टफ ही पढ़ता  सुनता है। निरंतर मन को स्वस्थ खुराक देने में उसका यकीन है ,मूल्य बोध भी। लेकिन मन बड़ा चंचल होता है चंचलत्व ही उसका स्वभाव है , कई मर्तबा आदमी महात्मा गांधी बनने की कोशिश करने लगता है। सत्य के साथ मेरे प्रयोग वह भी कर देखना चाहता है। देख लेना चाहता है बेड स्टफ क्या उसको अब भी असरग्रस्त कर सकता जबकि वह आध्यात्मिक होने की कोशिश में लगा है सेल्फ को जान लेना चाहता है रीअल सेल्फ को।

बस अपने परिवेश से बेखबर एक नामचीन गुरु का प्रवचन संपन्न होते ही उसने मैटनि  मसाला खोल लिया। तभी वह बालक दाखिल हुआ उसके रूम में जिसमें द्वार नहीं थे। उसने उसे सूचित किया वह बड़े भाई संग पड़ोस में खेलने जा रहा है लेकिन वह कहकर डोरमिट्री की दीवार से चिपक के खड़ा रहा चंद लम्हें शायद सुन लेना चाहता था मैटनी मसाले के डायलॉग खुसरपुसर।

उसने ये बात अपने बड़े भाई को बतला दी थी और बड़े भाई ने सारा मामला अपनी माँ को  बताया था रात को सोने से पहले।

कितना बिफरी थी उसकी पुत्रवधु शांडिल्य पर। सारा भरोसा आपने तोड़ दिया। अब किसपर भरोसा करें कहाँ छोड़े इन नन्ने नौनिहालों को जो आपकी परवरिश में यहां तक का सफर तय कर आये हैं। शांडिल्य को काटो  तो खून नहीं।आसमान से ज़मीन पे आ पड़ा था वह। क्या छवि थी उसकी इस घर में इन लोगों के दिलो दिमाग में और अब वह अपराधी बना खड़ा था अपने ही कटहरे में अपने ही सामने।

 गलती को मुंह खोलके तस्दीक करलेने के अलावा  उसके लिए   कोई चारा न बचा था हालांकि अपने आप को डिफेंड करने की शुरूआती कोशिश उसने ज़रूर की थी।

सामने फिर वही खड़ा था -गांधी ,सत्य के साथ मेरे प्रयोग। गांधी कहते थे सच से बड़ा कुछ नहीं होता।

साँच बराबर तप नहीं झूठ बराबर पाप ,

जाके हिरदै  साँच है ,ताके हिरदै  आप।

Meaning in English:
No virtue (self-discipline) is higher than the truth.
No vice (wrong deed) is worse than the untruth.
In the truthful heart,
You (Godliness) reside !
पाप/paap=ऐसा कर्म जिसका परिणाम दुःख और संताप हो/wrong deed or an act, consequent results of which are sorrow and misery

विशेष :अपने आसपास अपने परिवेश की अनदेखी न कीजे। भले बुरे रहो लेकिन अच्छे दिखो अच्छे रहकर बुरा दिखना ला -परवाही है हद दर्ज़े की सावधान रहिएगा इससे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें