मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 24 अगस्त 2015

जैसा बीज वैसा फल

"पंडितजी आप एकता कपूर के सीरियल्स नहीं देखते ?मेरी बेटी तो बहुत अच्छी है। आपकी आँखों में ही फर्क है ?क्या दिमाग में भी फर्क है "-आज भी याद है सुरेश पंडित को अपनी समधन का ये जुमला जो दहेज़ के सामान की तरह आज भी अपनी बेटी के घर में घुसी हुई है। सुरेश ने इतना भर ही तो कहा था :आपकी बेटी ब्रेकफास्ट में  रोज़ पोहा बनाके डाल देती है।ये सुनते ही सुरेश पंडित के समधी ने भी  लगभग  झपटते हुए कहा था -पंडितजी मेरी बेटी सबकी फरमाइश पूरी करने के लिए नहीं है ये घर है होटल नहीं है।अब से बीस बरस पहले ये संवाद समधन -समधी के श्रीमुख से उनके ही   घर में प्रसूत   हुए थे। हालांकि पंडित का बेटा भी वहीँ था पर उसे तो जैसे   सांप ही सूंघ गया था।



फिर भी माँ बेटी में एक बड़ा अंतर है। माँ अपने पति  यानी हमारे  समधी की भी परवाह नहीं करती। बेटी के घर में सुख मिलता है मेड को चकरघन्नी की तरह घुमाती  रहती है। बस यहीं पड़ी रहती है बारहमासी उत्पाद की तरह जबकि अपने घर में खुद झाड़ू पौछा भांडे बर्तन सब करना पड़ता है। लेकिन बेटी सिर्फ अपने पति और बाल बच्चों के बारे में ही सोचती करती है बस इतना ही है उसका संसार। उसके  घर में उसकी माँ के अलावा किसी और का निभाव किसी कलाकारी से कम नहीं है। सुरेश पंडित ने असली मुज़रिम पकड़ लिया था। वह इतने से ही अपने को तस्सली दे रहा है और अपनी समझ पर संतुष्ट भी है कि  जैसा बीज वैसा फल।अब वो बीज बदलने से तो रहा। इन बीस बरसों में क्या क्या घटित नहीं हुआ इसकी चर्चा करना अब सब फ़िज़ूल जान पड़ता है सुरेश पंडित यही सोच रहा था:जैसा बीज वैसा फल। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें