मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 14 अगस्त 2015

हमारे स्वतंत्रता संग्राम की लम्बी लड़ाई का फलागम था ,महज़ दुष्परिणाम था पाकिस्तान

शुक्रवार, 14 अगस्त 2015


हमारे स्वतंत्रता संग्राम की लम्बी लड़ाई का फलागम था ,महज़ दुष्परिणाम था पाकिस्तान

 

१४ अगस्त १९४७ को तो इसका अस्तित्व ही नहीं था।इसने जबरिया अपने अस्तित्व की घोषणा आकर दी थी। 

हमारे स्वतंत्रता संघर्ष का दुष्परिणाम रहा है पाकिस्तान जो आज आलमी आतंकवाद का अड्डा बना हुआ है। अधिकतम १४ अगस्त को पाकिस्तान का

स्थापना दिवस ही कहा जा सकता है स्वतंत्रता दिवस नहीं।

हमारे प्रधानमन्त्त्री को भाषा का इस्तेमाल सोच समझकर करना चाहिए जिन्होनें 'मुबारकबाद देते हुए 'पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस शब्द का इस्तेमाल  किया

है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें