मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 27 अगस्त 2015

तब इन्होने ने गुजरात को मज़हब के नाम पर जलाया था अब ये उसे जाति के नाम पर जलाने के लिए निकल आएं हैं अपने बिलों से

जाति के आधार पर देश की समरसता को तोड़ने का कुचक्र

दो सूत्रधार हैं इस षड्यंत्र के एक श्री अराजक केजरीवाल तथा दूसरा दिल्ली में उनसे पिटने के बाद भी उनसे कंधा मिलाने वाला एक दुर्मति बालक और उसकी माँ जमालो। .एक कोई अहमद -या पटेल भी हैं जिन्हें मुस्लिम पटेल भी आप कह सकते हैं इन्हें मोहरा बनाके एक अनाम सी शख्शियत आनंद पटेल को गुजरात को जलाने के लिए इन दुर्मुखों ने आगे कर दिया है।

तब ये लोग कहाँ थे जब गोधरा जल रहा था अयोध्या से लौटे तीर्थयात्रियों को चंद लोगों ने रेल के डिब्बे समेत आग के हवाले कर दिया था। बाहर से मिट्टी का तेल छिड़क के। तब इन्होने ने गुजरात को मज़हब के नाम पर जलाया था अब ये उसे जाति  के नाम पर जलाने के लिए निकल आएं हैं अपने बिलों से। तब ये जमालो कहाँ थी ?

और वो अराजकमल केजरीवाल जिसे प्रधानमन्त्री मोदी ने हाल ही में दिल्ली में बाकायदा मिलने का समय दिया है गैर -संविधानिक भाषा बिहार के सारनाथ में जाके  मोदी जी के बारे में बोलता है -'दिल्ली को तो हम चमका दें यदि हमें मोदी का सहयोग मिले तो '-यानी ये व्यक्ति जो मुख्यम्नत्री है प्रकारांतर से ये कह रहा है कि दिल्ली में जो कुछ हो रहा है वह मोदी जी कर करा रहे हैं। धूर्तता की ऊपरी सीमा का नाम ही अराजक केजरीवाल है जो व्यक्ति एक गैर सरकारी संगठन में घोटाला करने की वजह से नौकरी से बे -दखल किया गया वह आज देश को जलाने निकला है गनीमत है जब गोधरा -वन हुआ तब ये राजनीति में नहीं था वरना अब तक देश का क्या होता। देश बचता भी या नहीं ?

राजनीति के इन विषधरों का मुंह कुचलने की सख्त ज़रूरत है इनकी साफ़ साफ़ निशानदेही कर ली जाए। ये वही लोग हैं जिन्होनें पहले तो जातिगत जनगणना करने की मांग रखी और उसके नतीजे आते ही देश को जलाने निकल पड़े आरक्षण की बैशाखी लगाके।

बोध गया में तर्पण करता हूँ मैं इन तमाम धूर्तों का। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें