मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 25 अगस्त 2015

प्याज की गंध और छिलके

प्याज की गंध और छिलके

प्याज का मुद्दा इस देश में एक ऐसा मुद्दा बन जाता है जिससे सरकारें तक गिर जातीं हैं। बाजपेयी जी की सरकार कांग्रेसियों ने इसी मुद्दे पे हायतौबा मचा के गिराई थी। जब जांच हुई तो तमाम होर्डर्स प्याज के कांग्रेसी निकले। ये एक गंभीर मुद्दा है फिलाल मेल्लिकाए महज़बीं के उचक्कों को कोई काम तो है नहीं  सब के सब खाली हैं इसीलिए ये प्याज की होर्डिंग में लगे हुए है इस मुद्दे की जांच होनी चाहिए अगर एक दो होर्डस भाजपा  के भी निकले तो सरकार को उनके साथ सख्ती से पेश आना चाहिए।

आखिर इस प्याज की गंध के नीचे घोटालों की बड़ी बड़ी फाइलें दबती जा रहीं हैं कागज़ों के पंख फड़फड़ा रहे हैं। कोयला विकलांगों की वैशाखियाँ कॉमन वेल्थ गेम्स सब प्याज के छिलकों के नीचे दबें इससे पहले सरकार को सम्भल जाना चाहिए।

एक प्रतिक्रिया फेसबुक पोस्ट :

मुझे प्याज बहुत पसंद है. मुझे बारीक कटी हुई प्याज सरसो के तेल में मिलाकर स्वादानुसार नमक रोटी के साथ दे दीजिए तो एकबारगी पांच सितारा भोजन भी मुझे तुच्छ लगेगा. मैं प्याज की कोई भी कीमत देने को तैयार हूं.


मित्रों ....
आज मैं अपने घर "विशुद्ध प्याज परांठे" की पार्टी आयोजित कर रहा हूँ, कौन कौन आना चाहेगा सूचना दें पहले से … लिमिटेड सीट्स ओनली …
ज्यादा सांस मत मारो … कोई डाका नहीं मारा है ....
बैंक लोन अप्लाई किया था प्याज परांठा पार्टी के लिए .... मंज़ूर हो गया है …
(मेरे तो अच्छे दिन आ गए, आपके पता नहीं) हा हा हा हा ...
अधिक देखें

प्याज के एक समय के लिए बहुत महंगे होने की वजह
भारत में हर साल सीजन में एक समय ऐसा आता हैं की कोई न कोई अन्न सब्जी अनाज
थोड़े से समय के लिए बहुत मंहगा हो जाता हैं कभी प्याज बहुत मंहगा होता हैं तो कभी टमाटर कभी दालें तो कभी शक्कर ये चीज़े एक समय के लिए बहुत मंहगी हो जाती हैं इनके मंहगे होना का प्रमुख कारण हम सबको पता हैं अन्न भण्डारण की समस्या बिचौलिये अधिकारीयों की लापरवाही और ख़राब मौसम इसके कारण ये चीज़े एक सीमित समय के लिए बहुत महँगी हो जाती हैं
क्योकि इसकी प्रमुख वजह हैं प...
अधिक देखें

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें