मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 20 नवंबर 2013

दुर्गा से बकरी मेमना तक का सफरवंशवेळ विज्ञानियों को भी चकरा रहा है

                  दुर्गा से बकरी मेमना तक का सफर वंशकुल विज्ञानियों को भी चकरा रहा है 

अक्सर एक श्रेष्ठ  परम्परा श्रेश्ठता को ही  जन्म देती है लेकिन राजनीति इसे झुठला देती है इसका अतिक्रमण कर जाती है। सिंह -वाहिनी दुर्गा का दर्ज़ा मिला था कभी कांग्रेस इंदिरा की पार्टी को। और वह भी तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष श्री अटल बिहारी बाजपेयी  से। आज लोग इसे बकरी -मेमना या फिर माँ -बेटा पार्टी भी कहने लगे हैं। कवियों की कृति का प्रतीक और बिम्ब विधान बन रही है आज बकरी मेमना पार्टी। एक रूपक बन गया है माँ -बेटा पार्टी का। शुक्रिया अदा किया जाए मेडम का ,जो काम  आनुवंशिकी हज़ारों साल में भी नहीं कर सकती थी ,वह मेडम ने चंद सालों में कर दिखाया। वंशवेळ विज्ञानी जितना मर्जी माथा -पच्ची कर लें उन्हें ये गुत्थी समझ में नहीं आयेगी। राजनीति में कुछ भी हो सकता है।हद तो यह है एक सिंह परम्परा के परम पुरुष से बकरी मिमियाके निवाला छीनना चाहती है। कोई नादानी सी नादानी हैं।

और वह मेमना बाजू चढ़ाते चढ़ाते मिमियाना ही भूल जाता है। मेडम भाषण पढ़ती हैं तो लगता है कलमा पढ़ रही हैं। मर्सिया और कलमे में फिर भी लया ताल होती है यहाँ तो हिज्जे  करके भी ठीक से बात स्पस्ट नहीं होती। 

चर्च भी शर्मिंदा होगा इन्हें अपना एजेंट बनाके। 

एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

http://albelakhari.blogspot.in/2013/11/blog-post_1811.html?showComment=1384959043508#c5163009655788816215

ऐसा लगता है मानो नरेंद्र मोदी के लगातार बढ़ते लोकप्रियता के सूचकांक ने 

माँ-बेटा एंड पार्टी की दलाल स्ट्रीट हिला कर रख दी हैं, हिला ही नहीं दी हैं बल्कि 

हिला हिला कर हलवे जैसी हॉट भी कर दी हैं . तभी तो माँ-बेटा एंड पार्टी लगातार 

कोई न कोई शगूफ़ा रोज़ाना छोड़ रही है मोदी को घेरने के लिए 


रब जाने अब ये कोबरा पोस्ट क्या गुल खिलायेगा ?


पर एक बात तय है कि नरेंद्र मोदी दिल्ली आएगा 

जय हिन्द !

1 टिप्पणी: