मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 3 नवंबर 2013

दिवाली...

अमन के रथ पर आयी दिवाली, चारों ओर है खुशहाली।
भूल जाओ अब सारे दुःख, लाई है दिवाली ढेरों सुख।

सब अधरों पर मुस्कान पाओ, घर में दीपक तभी जलाओ।

जिस गेह में हो अन्धेरा, उस घर में कर दो सवेरा।
आज की रात कोई न रोए, भूखे पेट कोई न सोए।
रोते हुए बच्चों को हंसाओ, घर में दीपक तभी जलाओ।

अमावस्य की ये काली निशा, दीपों से जगमगाए हर दिशा।
दीपक तो हर घर में जलाए, पर कोई पतंगा मरने न पाये।
पहले किसी का घर सजाओ, घर में दीपक तभी जलाओ।

कहता है दिवाली का त्योहार, आपस में सभी करो प्यार।
मज़हब की सभी दिवारे तोड़ो, मानवता से नाता जोड़ो।
दुशमनों को गले लगाओ, घर में दीपक तभी जलाओ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्कार !
    आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [4.11.2013]
    चर्चामंच 1419 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें |
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह--- दीपावली की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं