मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 4 नवंबर 2013

सवाल आपकी सेहत के ज़वाब माहिरों के (दूसरी क़िस्त )

सवाल आपकी सेहत के ज़वाब माहिरों के (दूसरी क़िस्त )

प्रश्न :ठंड में सर्दी -जुकाम ,कामन कोल्ड और फ्ल्यू से बचने के उपाय क्या हैं ?

उत्तर :बेशक ठंड से पूरी तरह से बचना मुमकिन नहीं है सर्दी के मौसम में। कभी न कभी ठंड के असर में आ ही आ जाते हैं हम लोग। लेकिन कुछ न कुछ उपाय अपने रोग निरोधी तंत्र इम्युन सिस्टम को स्वास्थ्यकर बनाये रखने के लिए किए ही जा सकते हैं। 

(१) चीनी हमारे रोग रोधी तंत्र के पंख कुतर सकती है इसकी मात्रा में कटौती करके कुछ न कुछ हासिल ज़रूर किया जा सकता है बस इतना ही करना है चीनी से सने लदे  हुए खाद्य और पेय कमतर लिए जाए ठंडी के मौसम में। पर्याप्त मात्रा में पानी पीकर काया को पर्याप्त  चार्ज़ देते रहा जाए।   जलीकृत रहे काया ,पानी की कमी न होने पाये। सर्दी में लोग वैसे भी पानी पीने  में और भी कंजूसी बरतते हैं।

सर्दी की सूखी हवा (कम नमीदार )नासिका की श्लेष्मल झिल्ली (नाक और मुंह के अंदर और अन्य अंगों के बाहर त्वचा की महीन परत जिससे श्लेष्मा उत्पन्न होता है )और कंठ को सुखाये रख सकती है।ऐसे में रोग प्रतिरोधी प्रणाली आपके अनजाने ही बाधित होती है। पर्याप्त मात्रा में लिया गया पानी ज़रूरी आदर्श नमी प्रदान किये रहता है श्लेष्मा को। 

WATER HELPS MAINTAIN OPTIMAL HYDRATION OF MUCOUS MEMBRANES .

(२) घंटों ज़िंदा रह सकते हैं हाथों पर रोग कारक जरासीम (GERMS,रोगाणु )

Maine Medical Center के अनुसार हाथों को बारहा साफ़ करते  रहिये  साबुन पानी से क्योंकि रोगाणु तीन घंटों तक  सक्रिय और असरकारी बने रह सकते हैं।अलावा इसके हाथों को चेहरे से दूर ही रखें। हथेलियों से चेहरे को न गरमायें । 

(३)पर्याप्त नींद भी लेनी ज़रूरी है खासकर त्योहारों के इस सप्ताह में : 

रोग रोधी तंत्र को असरदार खबरदार बनाये रखने के लिए ७-९ घंटा नींद भी ज़रूरी है।
(४) पोषण पर ध्यान दीजिए :

संतुलित खुराक उसे ही कहा जाएगा जिसमें पर्याप्त मोटे अनाज शामिल हों ,ताज़ा तैयार किया गया भोजन (whole foods ).फ्रोज़न फ़ूड को माइक्रो वेव में तहा कर डीफ्रॉस्ट करके खाने से बचें। बासा भोजन है ये सब।

 पहले से तैयार पकवान,

 आफते जान। 


(४)लहसुन और ग्रीन टी को शामिल करें खानपान में 

विटामिन C सम्पूरण  को भी जगह दें। या फिर 

echinacea को भी जगह दें। 

Echinacea is a very popular herb, especially for the treatment of flu and colds. It is a genus 

of herbaceous flowering plants in the daisy family - Asteraceae. It is also known as the 

American coneflower.

(५) व्यायाम का अपना स्थान है रोग रोधी तंत्र को मजबूत बनाये रखने में। उम्र के अनुरूप कुछ भी हरकत (कसरत 

,सैर 

,जॉगिंग बोले तो तेज़ कदमी ). 


सन्दर्भ सामिग्री :

(१) 


  1. What Is Echinacea? - Medical News Today

    www.medicalnewstoday.com/articles/252684.php

    Nov 13, 2012 - Echinacea is a very popular herb, especially for the treatment of flu and colds. It is a genus of herbaceous flowering plants in the daisy family ...

    (२)healthiswealth.net 


    (3) SamsClub.com/healthyliving/November/December 

    2013



    1. Images for washing hands

        - Report images
      •  
      •  
      •  
      •  
      •  
      •  
      •  
      •  
      •  




  

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (05-11-2013) भइया तुम्हारी हो लम्बी उमर : चर्चामंच 1420 पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    दीपावली के पंचपर्वों की शृंखला में
    भइया दूज की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं