मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 4 नवंबर 2013

सवाल आपकी सेहत के ज़वाब माहिरों के

सवाल आपकी सेहत के ज़वाब माहिरों के 

प्रश्न :अपच के कारण त्यौहार के इस मौसम में छाती में होने वाली जलन (अम्ल शूल ) से कैसे पार पाएं ?

उत्तर :बेतहाशा मिठाई और पकवान उड़ाने से ,कोक पेप्सी और अन्य मीठी चीज़ें खाते रहने से त्यौहार के दौरान ही तब रंग में भंग हो जाता है जब अपच के कारण छाती की जलन हमें  बे -तरह परेशान करने लगती है। 

ऐसे में   लाख टके  की बात तो यह है ,खुलके पानी पीने से पाचन पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है। चंद बूँदें ताज़े नीम्बू की भी टपका सकते हैं आप इस जल में। नीम्बू में मौज़ूद एक खट्टा तत्व (citrus flavonols)पाचक तेज़ाब हाईड्रॉक्लोरिक एसिड की आमाशय  में मदद करता है। 

यदि महीने में वैसे भी एक दो बार Heart burn आपको परेशान करता है तब जहां तक हो किचिन रेमेडीज़ ही अपनाएँ। अलबत्ता चाय -कॉफी ,रेड वाइन के अलावा इस दौरान कार्बोनिकृत पेय (carbonated beverages )से बचें। 

खाने को चबा चबा के आराम से खाएं (बचपन में नानी कहती थी एक ग्रास को ३२ बार चबाना चाहिए हम गिनने लगते थे ).इसके सीधे सीधे दो फायदे मिलते हैं एक तो एनाटोमी (काया )को पचाने का वक्त मिल जाता है दूजे आप अतिरिक्त खाने ठूंसा ठूंस करने ,भोजन भट्ट होने ,भकोसने से बच जाते हैं। 

कई मरतबा एक उम्र के बाद पाचक एन्ज़ाइम भी मदद करते हैं पाचन  में। एन्ज़ाइम स्वयं  तो जस का तस रहता है लेकिन पाचन की रासायनिक क्रिया को एड़ लगा देता है।

खाना खाने के बाद जिंजर या फिर पेपरमिंट  चाय फायदा कर सकती है  . यहाँ बात ग्रीन टी की हो रही है। दूध वाली चाय की नहीं। 

खाना खाने के बाद दो तीन घंटे सीधा बैठे उठें।ऐसा करने से  गुरुत्व खाने को पाचन तंत्र में ले जाने में मददगार की भूमिका में आता है। आमाशय का तेज़ाब हाईड्रोक्लोरिक एसिड भोजन नली  में दाखिल नहीं हो पाता  है।  सोते समय भी सिर को पेट से ऊंचा रखें। या तो सिरहाना ही ऊंचा रखें (बैड को सिर  की तरफ से थोड़ा ऊंचा ऱखें। )या फिर तकिया आपके पेट से ऊंचा रहे। 

लेकिन यदि अम्ल शूल बना रहता है ,गम्भीर रुख ले रहा है ,रोज़ मर्रा की शिकायत है तब अविलम्ब अपने चिकित्सक की मानें। ला -परवाही की बड़ी कीमत चुकानी पड़  सकती है। दूसरी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं पैदा हो सकती हैं इस अम्ल शूल से। 

संदर्भ -सामिग्री :Ask Dr.Myers /Learn answers to your health questions 

Dr .Andew Myers is an expert in nutrition and preventive medicine and the co -author of Health Is Wealth :10 Power Nutrients That increase Your Odds of Living to 100 and Health Is Wealth :Performance Nutrition .

SamsClub.com/healthyliving/NOVEMBER /DECEMBER 2013


    •  
    •  
    •  
    •  
    •  
    •  
    •  
    •  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें